Top
मुख्य सुर्खियां

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 80 साल के मां-बाप और परिवार की हत्या के दोषी को मौत की सजा सुनाई [निर्णय पढ़ें]

LiveLaw News Network
22 May 2018 5:13 AM GMT
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 80 साल के मां-बाप और परिवार की हत्या के दोषी को मौत की सजा सुनाई [निर्णय पढ़ें]
x

बेंच ने कहा कि पूरे परिवार को मार डालने वाला डरावना कार्य इसलिए "दुर्लभतम मामलों में दुर्लभ” की श्रेणी में आता है जहां जमीन के कानून में जीवित लोगों के विश्वास को बनाए रखने के लिए मौत की सजा को पारित करना सबसे बड़ी चिंता का विषय है।

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपने अस्सी साल के माता-पिता, भाई और उसकी पत्नी, नाबालिग भतीजे और भतीजी की हत्या के दोषी व्यक्ति की मौत की सजा की पुष्टि की है।

न्यायमूर्ति अमरेश्वर प्रताप साही और न्यायमूर्ति राजीव मिश्रा की एक पीठ ने अन्य आरोपियों की मौत की सजा भी पुष्टि की, जो इस घटना में  बड़े परिवार का हिस्सा हैं और घटना में शामिल थे। हालांकि मुख्य आरोपी की पत्नी, एकमात्र महिला आरोपी को उच्च न्यायालय ने बरी कर दिया है।

 सभी चार आरोपी, मोमिन और उनकी पत्नी नाज़रा, जैकम और साजिद को दोषी ठहराया गया और ट्रायल कोर्ट ने मौत की सजा सुनाई। एक ईंट भट्ठी के पारिवारिक व्यवसाय को चलाने को लेकर विवाद को हत्या के पीछे मकसद माना गया है। तीन लोगों की मौत की सजा की पुष्टि करते हुए, जिनकी सजा को बरकरार रखा गया, पीठ ने कहा: "कोई कमजोर परिस्थितियां नहीं हैं और सभी परिस्थितियों की मांग है कि मोमिन को किए गए अपराध की सजा की पुष्टि हो। पूरे परिवार को मार डालने वाला डरावना कार्य इसलिए "दुर्लभतम मामलों में दुर्लभ” की श्रेणी में आता है जहां जमीन के कानून में जीवित लोगों के विश्वास को बनाए रखने के लिए मौत की सजा को पारित करना सबसे बड़ी चिंता का विषय है। जिस तरीके से अपराध किया गया और उस भयानक प्रकृति में इसे अंजाम दिया गया, अगर मोमिन को कम सजा दी गई तो ये  आपराधिक दिमाग को प्रोत्साहित करेगा और सिस्टम की विश्वसनीयता को कमजोर करेगा।

ये हत्या दो नाबालिगों और चार बुजुर्ग व्यक्तियों की हुई जो अपीलकर्ता मोमिन के वास्तविक खून के संबंधियों के अलावा कोई नहीं हैं। उसने अपने पिता, मां, भाई और उसकी पत्नी, भतीजे और भतीजी के जीवन को लेने में संकोच नहीं किया  ना ही इन सभी का घातक हथियारों के साथ गला काटने में कोई हिचकिचाहट दिखाई।  "

अन्य अभियुक्तों की मौत की सजा की पुष्टि करते हुए पीठ ने कहा: " जिस तरह से पूरे परिवार का गला रेता गया वो मध्ययुगीन विश्वासघात की याद की याद दिलाता है जब समाज को घृणा और प्रतिशोध का सामना करना पड़ता था और संपत्ति की वासना और प्रतिशोध के चलते पूरे पूरे परिवार को मार डाला गया। "


 
Next Story