Top
ताजा खबरें

अवमानना के लिए जेल जाने वाले पहले जज जस्टिस कर्णन ने अपनी राजनीतिक पार्टी लॉन्च करने की घोषणा की

LiveLaw News Network
18 May 2018 4:03 AM GMT
अवमानना के लिए जेल जाने वाले पहले जज जस्टिस कर्णन ने अपनी राजनीतिक पार्टी लॉन्च करने की घोषणा की
x

कलकत्ता उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति सीएस कर्णन, जिन्हें एक बार सुप्रीम कोर्ट द्वारा अवमानना ​​के लिए जेल भेजा गया था और वो फरार होने के दौरान सेवानिवृत्त हुए थे, ने 2019 के आम चुनावों के चुनाव के लिए अपनी राजनीतिक पार्टी के लॉन्च की घोषणा की है।

न्यायमूर्ति कर्णन ने अपनी पार्टी को 'एंटी करप्शन डायनामिक पार्टी' नाम दिया है और घोषणा की है कि वह भारत में सीटों से 2019 में चुनाव लड़ेंगे, जिसमें प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी का निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी भी शामिल हैं।

यह घोषणा कोलकाता में एक मानवाधिकार सम्मेलन के दौरान की गई थी।

 "मेरी पार्टी 2019 में आने वाले (लोकसभा) चुनावों में हिस्सा लेगी। हम सीटों की संख्या पर फैसला करेंगे लेकिन केवल महिला उम्मीदवारों को चुनाव लड़ने के लिए नामित किया जाएगा। न्यायमूर्ति कर्णन ने कहा है, "हम अपनी पार्टी के पंजीकरण के लिए मुख्य निर्वाचन आयुक्त के पास जा रहे हैं।"

 न्यायमूर्ति कर्णन ने यह भी कहा है कि 2019 में वाराणसी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने के लिए उनके पार्टी के सामान्य निकाय ने उनसे अनुरोध किया था, लेकिन उन्होंने कहा, "मैं वाराणसी से चुनाव नहीं लड़ना चाहता हूं। इस पर भी एक महिला उम्मीदवार को लड़ना चाहिए।”

 दलितों के खिलाफ अत्याचारों पर न्यायमूर्ति कर्णन ने इस सम्मेलन में अपने संबोधन में कहा कि राज्य मशीनरी और केंद्र सरकार को अल्पसंख्यकों और दलितों के हितों की रक्षा करनी चाहिए, जो संबंधित सरकारों का सर्वोच्च कर्तव्य है।

 न्यायमूर्ति कर्णन जून 2017 में सेवानिवृत्त हुए, जब तत्कालीन सीजेआई जेएस खेहर की अगुवाई वाली सुप्रीम कोर्ट की सात जजों की संविधान पीठ  ने अदालत की अवमानना ​​के लिए छह महीने की जेल की सजा सुनाई और वो गिरफ्तारी से बचने के लिए फरार हो गए। बाद में उन्हें कोयंबटूर से पश्चिम बंगाल सीआईडी ​​ने गिरफ्तार कर लिया।

 न्यायमूर्ति कर्णन को 1983 में तमिलनाडु की बार काउंसिल में  एक वकील के रूप में नामांकित किया गया था। उन्हें 2009 में मद्रास उच्च न्यायालय का जज नियुक्त किया गया और 11 मार्च, 2016 को कलकत्ता उच्च न्यायालय में स्थानांतरित कर दिया गया था।

Next Story