Top
मुख्य सुर्खियां

सुप्रीम कोर्ट ने बलात्कार के दोषी ‘ अंकल’ की सजा को कम किया जिसने पीड़िता से शादी की थी [आर्डर पढ़े]

LiveLaw News Network
8 May 2018 5:02 AM GMT
सुप्रीम कोर्ट ने बलात्कार के दोषी ‘ अंकल’ की सजा को कम किया जिसने पीड़िता से शादी की थी [आर्डर पढ़े]
x

 मामले में दिए गए असाधारण तथ्यों और परिस्थितियों में और अभियोजन पक्ष की किसी भी और पीड़ा को कम करने के लिए भारत के संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत अपने क्षेत्राधिकार का प्रयोग करते हुए हम पहले से ही जेल में बिताई अवधि तक अपीलकर्ता की सजा को संशोधित करने के इच्छुक हैं, पीठ ने कहा।  

सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत अपनी अंतर्निहित शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए अभियोजन पक्ष की किसी और पीड़ा को कम करने के लिए बलात्कार के आरोपी की सजा को पहले से ही काट चुके जेल की अवधि तक संशोधित कर दिया। आरोपी ने घटना के तुरंत बाद की पीड़िता से शादी कर ली थी। आरोपी रिश्ते में पीड़िता का चाचा लगता है।

दरअसल भाई ने 16 साल से कम उम्र की अपनी बहन के साथ रेप का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई थी, उसने सूचित किया था कि उसके चाचा एलुमालाई ने उसकी नाबालिग बहन के साथ बलात्कार किया था।  हालांकि जिरह के  दौरान अभियोजन पक्ष ने इस तथ्य को स्वीकार किया कि वह आरोपी से शादी करना चाहती है। ट्रायल कोर्ट ने आरोपी को आईपीसी की  धारा 376  के तहत अपराध का दोषी पाया और उसे 10 साल की सख्त कारावास की सजा सुनाई। उच्च न्यायालय ने भी अपील को खारिज कर दिया।

इस बीच वे विवाहित हो गए और उनका एक बच्चा भी था। दोनों आरोपी और अभियोजन पक्ष ने  उच्चतम न्यायालय में एसएलपी दाखिल की और कहा कि वे खुशी से रह रहे हैं और जेल में एलुमालाई की निरंतर कैद से अभियोजन पक्ष को भारी कठिनाई और पीड़ा हो रही है और उसे अकेले ही बच्चे को पालना होगा।

 "अपीलकर्ता और अभियोजन पक्ष दोनों कहते हैं कि वे खुशी से रह रहे हैं और अभियोजन पक्ष का कहना है कि अपीलकर्ता की निरंतर जेल में कैद से उसे कठिनाई और पीड़ा मिलेंगी और उसे अकेले बच्चे को पालना होगा।

हमें यह भी सूचित किया गया है कि अपीलकर्ता / आरोपी के पिता ने दंपत्ति और उनके बच्चे के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए अभियोजन पक्ष के नाम पर 20 सेंट खेती  योग्य भूमि की है।

अपीलकर्ता 4 साल से भी कम समय के लिए हिरासत में है।” न्यायमूर्ति जे चेलामेश्वर की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा: "हमें निस्संदेह एक दुविधा का सामना करना पड़ रहा है कि अपीलकर्ता / आरोपी को 10 साल तक सलाखों के पीछे भेजने के कारण पीड़ित, अभियोजन पक्ष के लिए अधिक आघात होगा। तथ्य यह है कि अभियोजन पक्ष के भाई ने शिकायत की  और यह कि कथित घटना के तुरंत बाद विवाह हुआ, यह दिखाता है कि दोनों के बीच एक रिश्ता था, यद्यपि अभियोजन पक्ष उम्र में कम थी।”

पहले से ही जेल की अवधि में को संशोधित करने के लिए अंतर्निहित शक्तियों का आह्वान करते हुए पीठ ने कहा: "हम उम्मीद करते हैं कि अपीलकर्ता अपनी पत्नी और बच्चे दोनों की पूरी देखभाल करेगा।"


 
Next Story