Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

समलैंगिगता को अपराध बताने वाली IPC की धारा 377 को रद्द करने की मांग वाली नई याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को नोटिस जारी किया

LiveLaw News Network
1 May 2018 1:16 PM GMT
समलैंगिगता को अपराध बताने वाली IPC की धारा 377 को  रद्द करने की मांग वाली नई याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को नोटिस जारी किया
x

 आरिफ जफर की याचिका का जिक्र करते हुए वरिष्ठ याचिकाकर्ता आनंद ग्रोवर ने सभी याचिकाकर्ताओं का प्रतिनिधित्व करते हुए खंडपीठ को बताया: 'यह पहली बार है जब एक गिरफ्तार व्यक्ति  IPC की धारा 377  को रद्द करने की याचिका लेकर अदालत में है। वह 47 दिनों तक  जेल में था और उसे यातना दी गई।”

सुप्रीम कोर्ट ने आज एलजीबीटी अधिकार कार्यकर्ताओं सहित समलैंगिक समुदाय से जुड़े छह लोगों की ताजा याचिकाओं पर नोटिस जारी कर केंद्र से जवाब मांगा है जिसमें आईपीसी की धारा 377 को रद्द करने की मांग की गई है  जो समलैंगिक यौन कृत्यों को अपराध मानता है।

उन्होंने तर्क दिया है कि धारा 377 को विषमलैंगिक वयस्कों के बीच यौन संबंधों को अपराध बनाने की अनुमति नहीं दी जा सकती।

 याचिकाओं को मुंबई स्थित हमसफर ट्रस्ट, एनजीओ द्वारा दायर किया गया जो एलजीबीटीक्यू अधिकारों और अशोक राव कवी, विवेक राज आनंद, गौतम यादव, यशविंदर सिंह और आरिफ जफर के लिए लड़ रहा है।

 2001 में जफर की गिरफ्तारी के बाद  ही धारा 377 के खिलाफ अभियान के तहत  नाज़ फाउंडेशन ने दिल्ली उच्च न्यायालय में धारा 377 को रद्द करने की याचिका दाखिल की थी।

 आरिफ जफर की याचिका का जिक्र करते हुए वरिष्ठ याचिकाकर्ता आनंद ग्रोवर ने सभी याचिकाकर्ताओं का प्रतिनिधित्व करते हुए खंडपीठ को बताया: 'यह पहली बार है जब एक गिरफ्तार व्यक्ति  IPC की धारा 377  को रद्द करने की याचिका लेकर अदालत में है। वह 47 दिनों तक  जेल में था और उसे यातना दी गई।”

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, जस्टिस डी वाई चन्द्रचूड और जस्टिस एएम खानविलकर की पीठ ने कहा कि इन याचिकाओं को होटलियर केशव सूरी द्वारा दायर याचिकाओं के साथ टैग किया जाएगा और पहले पांच अन्य हस्तियों द्वारा दाखिल याचिका को संविधान बेंच के समक्ष भेजा गया है।

ताजा स्थिति से उठे सवाल  




  • धारा 377 प्रकृति के आदेश के खिलाफ 'स्वैच्छिक शारीरिक संभोग' को अपराधी बनाती है, क्या ये निजता के मौलिक अधिकार का उल्लंघन नहीं करती है?

  • क्या धारा 377 जो सहमति वयस्कों के बीच अंतरंग अभिव्यक्ति को अपराधी बनाती है, भारत के संविधान के तहत निजता, गरिमा और स्वायत्तता के मौलिक अधिकार का उल्लंघन नहीं करती है?

  • क्या धारा 377 जो व्यक्तियों को उनके यौन अभिविन्यास और पहचान के आधार पर अपराधी बनाती है, संविधान के अनुच्छेद 19 और 21 के साथ अनुच्छेद 14, 15 के तहत समानता और गैर-भेदभाव के मौलिक अधिकार का उल्लंघन नहीं करती है?

  • धारा 377, जो न तो परिभाषित करती है और न ही व्याख्या करती है कि 'प्रकृति के आदेश के खिलाफ शारीरिक संभोग' का गठन मनमाने ढंग से और संविधान के अनुच्छेद 14 और 21 का उल्लंघन नहीं करती  है?

  • धारा 377 जो व्यक्ति के जीवन के सबसे व्यक्तिगत निर्णयों में से एक में स्वायत्तता और अभिव्यक्ति को कम करती है, यानी किसी के साथी और अंतरंग संबंध की पसंद संविधान के अनुच्छेद 19 और 21 का उल्लंघन नहीं करती है?


इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने 23 अप्रैल को केशव सूरी द्वारा दायर याचिका पर केंद्र को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था।

शीर्ष व्यापारी और ललित होटल के कार्यकारी निदेशक ने भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 377 को रद्द करने की मांग की हैं जो समलैंगिकता को अपराध घोषित करता है। मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डी वाई चन्द्रचूड ने कहा कि याचिका को पांच लोगों द्वारा दायर की गई संयुक्त याचिका के साथ टैग किया जाएगा जिसे संविधान बेंच के समक्ष भेजा गया है।

पीठ ने कहा, "इस याचिका की एक प्रति एएसजी को दी जानी चाहिए और केंद्र एक सप्ताह के भीतर प्रतिक्रिया दर्ज करेगा।”

सूरी का प्रतिनिधित्व वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने किया जबकि एएसजी तुषार मेहता केंद्र के लिए उपस्थित थे। सूरी जो खुद LGBT समुदाय का हिस्सा हैं, ने कहा कि वह लगातार झूठे अभियोजन पक्ष के खतरे में रहते हैं और इसलिए, वह गरिमा से जीवन जीने में असमर्थ है, जिससे वह अपने साथी के साथ यौन संबंध रखने के लिए अपनी पसंद का प्रयोग नहीं कर सकते ।

धारा 377 के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दायर पीआईएल की सूची में शामिल होने वाली सूरी की याचिका नवीनतम है। जबकि नाज़ फाउंडेशन द्वारा दायर की गई उपचारात्मक याचिका पहले ही लंबित है,  व्यवसायी
आयशा कपूर, भरतनाट्यम नर्तक और 2014 संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार प्राप्तकर्ता नवतेज सिंह जौहर, प्रसिद्ध पत्रकार सुनील मेहरा, प्रसिद्ध शेफ, लेखक  और टीवी व्यक्तित्व रितु डालमिया और और इतिहासकार व लेखक अमन नाथ ने पिछले साल जनवरी में संयुक्त याचिका दायर की थी जिसे सुनवाई के लिए संविधान बेंच के समक्ष भेजा गया है।

 दूसरी तरफ सूरी की याचिका में दावा किया गया: " आईपीसी की धारा 377 के कारण LGBT  समुदाय के विभिन्न वयस्क और सहमति  के बावजूद सदस्यों को झूठ के खतरे का सामना करना पड़ता है और कुछ वास्तव में इसका सामना कर रहे हैं, " सुरी ने उच्चतम न्यायालय से अनुरोध किया कि वह याचिका की अंतिम सुनवाई और निपटान कर प्रतिवादी (भारत संघ) को इसे रोकने के आदेश को पारित करने का आदेश दे। सूरी ने कहा कि वह आपसी सहमति से पिछले एक दशक से अपने एक वयस्क सहयोगी के साथ रह रहे हैं और वे देश के समलैंगिक, गे, बाईसेक्सुअल, ट्रांसजेंडर और क्वीयर समुदाय के अंग हैं। इस उद्योगपति ने अपनी याचिका में कहा है कि अपनी यौन पसंद की वजह से उन्हें भेदभाव झेलना पड़ रहा है।

यह गौर करने वाली बात है कि सूरी ने “प्योर लव” नाम से सामाजिक अभियान चलाया था जिसका ध्येय विशेषकर LGBT समुदाय को एक ऐसा मंच उपलब्ध कराना था जहाँ पर वे अपने जीवन के अनुभवों को साझा कर सकें।

याचिका में कहा गया है कि देश में भारी संख्या में लोगों के साथ भेदभाव नहीं होने दिया जा सकता और उनको उनके अधिकारों से वंचित नहीं किया जा सकता और समलैंगिकों का अपराधीकरण का आधार कलंक है और इसी कलंक को देश की विधि व्यवस्था आगे बढ़ा रही है।

इससे पहले 2009 में दिल्ली उच्च न्यायालय ने धारा 377 को रद्द  कर दिया था लेकिन आदेश को बाद में सुप्रीम कोर्ट की खंडपीठ ने रद्द  कर दिया था।एक अप्राकृतिक अपराध के रूप में वर्गीकृत, एक ही लिंग के व्यक्तियों के बीच सहमति यौन संभोग को आईपीसी की धारा 377 के तहत 'प्रकृति के आदेश के खिलाफ' कहा गया है और ये आजीवन कारावास तक दंडनीय किया जा सकता है।

Next Story