राज्य चयन बोर्ड और PSC द्वारा आयोजित चयन प्रक्रिया की वीडियोग्राफी हो : सुप्रीम कोर्ट [आर्डर पढ़े]

LiveLaw News Network

7 April 2018 5:57 AM GMT

  • Whatsapp
  • Linkedin
  • Whatsapp
  • Linkedin
  • Whatsapp
  • Linkedin
    • Whatsapp
    • Linkedin
    • Whatsapp
    • Linkedin
    • Whatsapp
    • Linkedin
  • राज्य चयन बोर्ड और PSC द्वारा आयोजित चयन प्रक्रिया की वीडियोग्राफी हो : सुप्रीम कोर्ट [आर्डर पढ़े]

     यह वांछनीय है कि परीक्षा केन्द्रों के साथ साथ साक्षात्कार केन्द्रों में, सीसीटीवी कैमरों को एक हद तक  स्थापित किया जाए, बेंच ने कहा 

    सुप्रीम कोर्ट ने चयन निकायों, विशेष रूप से राज्य लोक सेवा आयोगों और राज्य चयन बोर्डों द्वारा आयोजित चयन प्रक्रिया के लिए यथा संभव वीडियोग्राफी कराने के लिए एक सुझाव तैयार किया है।

    मेघालय उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ  चुनौती देने वाली एक याचिका को खारिज करते हुए न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल और न्यायमूर्ति रोहिंग्टन फली नरीमन की पीठ ने यह अवलोकन किया, जिसमें यह पाया गया कि मेघालय राज्य में निचले सरकारी प्राथमिक स्कूलों में सहायक शिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया में गंभीर अनियमितता बरती गई थी। कई मामलों में ऐसी घटनाओं की सूचना दी जा रही है, ये कहते हुए बेंच ने कर्नाटक के एक अन्य मामले में हाल ही में एक आदेश का हवाला दिया। अविनाश सी और अन्य बनाम कर्नाटक राज्य और अन्य में इसी पीठ ने कहा था कि चयन प्रक्रिया को रद्द करने के निर्णय में केवल तभी दखल दिया जा सकता है अगर यह स्पष्ट रूप से मनमाना, दुर्भावनापूर्ण या अवैध हो।

    इस मामले में खंडपीठ ने कहा था: "यदि चयन किसी भी तरह से दूषित पाई जाती है, तो यह हमेशा संबंधित प्राधिकरण के लिए चयन प्रक्रिया की शुद्धता बनाए रखने के लिए ऐसे चयन को रद्द करने के लिए खुला रहता है। यह दागदार और साफ सुथरे उम्मीदवारों को अलग करने के लिए हमेशा आवश्यक नहीं हो सकता जब प्रक्रिया खुद ही  दूषित होती है। "

    अदालत ने कहा: "हम यह मानते हैं कि सार्वजनिक पदों पर चयन की शुद्धता के लिए, यह वांछनीय है कि जहां तक ​​संभव हो चयन निकायों द्वारा चयन प्रक्रिया, विशेष रूप से राज्य लोक सेवा आयोगों और राज्य चयन बोर्ड की प्रक्रिया की वीडियोग्राफी हो। यह वांछनीय है कि परीक्षा केन्द्रों के साथ साथ साक्षात्कार केन्द्रों में सीसीटीवी कैमरों को एक हद तक व्यवहार्य रूप से स्थापित किया जाए। इसके दृश्य तीन सदस्यों की स्वतंत्र समिति द्वारा देखे जा सकते हैं और ऐसी समिति की रिपोर्ट संबंधित वेबसाइट पर रखी जा सकती है। "


     
    Next Story