Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

जेटली, केजरीवाल, 3 अन्य ने दिल्ली हाईकोर्ट में समझौते से लिए संयुक्त आवेदन दाखिल किया [आवेदन पढ़ें]

LiveLaw News Network
3 April 2018 5:34 AM GMT
जेटली, केजरीवाल, 3 अन्य ने दिल्ली हाईकोर्ट में समझौते से लिए संयुक्त आवेदन दाखिल किया [आवेदन पढ़ें]
x

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके तीन सहयोगियों ने सोमवार को दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष भाजपा के वरिष्ठ नेता जेटली के  खिलाफ दिल्ली और जिला क्रिकेट एसोसिएशन में अध्यक्ष के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान भ्रष्टाचार के आरोप लगाने पर  10 करोड़ रुपए के सिविल मानहानि के दावे में समझौते के लिए संयुक्त आवेदन दाखिल किया।

 जेटली के वकील माणिक डोगरा ने अदालत को बताया कि वे केजरीवाल और उनके सहयोगियों संजय सिंह, आशुतोष और राघव चड्ढा के खिलाफ मुकदमा चलाने की इच्छा नहीं रखते क्योंकि उन्होंने रविवार को उनके द्वारा निरुपित बिना शर्त माफी को स्वीकार कर लिया है।

 "1 अप्रैल को, प्रतिवादी संख्या 1, 2, 5 और 6 ने व्यक्तिगत रूप से वादी के लिए एक योग्य माफी मांगी है। प्रतिवादियों ने लगाए  गए आरोपों के परिणामस्वरूप अभियोगी की प्रतिष्ठा को किसी भी नुकसान के लिए अभियोगी और उनके परिवार के सदस्यों से गंभीरता से माफी मांगी है, " सिविल प्रक्रिया संहिता के नियम 3 के तहत संयुक्त आवेदन में कहा गया है।

 "वादी ने प्रतिवादी 1, 2, 5 और 6 द्वारा मांगी गई  माफी को स्वीकार कर लिया है। और इस संदर्भ में उन प्रतिवादियों के खिलाफ मुकदमा चलाने की इच्छा नहीं है, "डोगरा ने कहा।

 जेटली के माफी को स्वीकार करने पर अदालत के सामने इसे रखा गया था। जेटली, केजरीवाल और  आप के तीन नेताओं ने अदालत से माफ़ीनामे के प्रकाश में एक डिक्री देने की प्रार्थना की है।

यह मुकदमा जेटली के गवाहों की पारस्परिक जांच के चरण में है। हालांकि कुमार विश्वास  के खिलाफ मामला जारी रहेगा।

यह ध्यान रखा जाना चाहिए कि केजरीवाल ने 1 अप्रैल को जेटली को लिखे एक पत्र में कहा था, "मैंने दिसंबर 2015 में आपके बारे में कुछ बयान दिए थे जो दिल्ली  और जिला क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष के आपके कार्यकाल के संबंध में  थे। यह आरोप

दिल्ली उच्च न्यायालय और पटियाला हाउस न्यायालय में लंबित फैसले की कार्यवाही के विषय भी हैं। मेरे द्वारा लगाए गए ये आरोप कुछ ऐसे व्यक्तियों द्वारा मेरे सामने प्रस्तुत की गई सूचना और कागजात पर आधारित थे जो डीजीसीए के मामलों में पहले से अंतर्दृष्टि का प्रतिनिधित्व करते थे। हालांकि मुझे  हाल ही में पता चला है कि उसमें निहित जानकारी और आरोप निराधार और अनुचित हैं और मुझे इन आरोपों को स्पष्ट रूप से गलत बताया गया था। इसलिए मैंने   प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक या सोशल मीडिया में आप पर लगाए गए आरोपों व सवालों को  स्पष्ट रूप से वापस ले लिया है। मैं आपके और आपके परिवार के सदस्यों को मेरे आरोपों के परिणाम के रूप में प्रतिष्ठा को पहुंची किसी भी हानि के लिए अपनी गंभीर क्षमायाचना  पेश करता हूं।”  उन्होंने यह भी दोहराया कि दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष लंबित सिविल मुकदमे में जिरह के दौरान राम जेठमलानी के अपमानजनक वक्तव्य बिना उनके ज्ञान या निर्देश दिए गए थे। केजरीवाल ने अपने पत्र में कहा था, "हालांकि हम दो अलग-अलग राजनीतिक दलों से संबंधित हैं, मुझे विश्वास है कि हमें हमारे बीच बेसुरा मुक़दमा खत्म करना चाहिए और हमें  देश की जनता की अपनी क्षमताओं के तहत सेवा करनी चाहिए। "


 
Next Story