Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

बार काउंसिल चुनाव : मतदान के दौरान वीडियोग्राफी, ट्रिब्यूनल की मंजूरी के बाद ही परिणाम, लंच देना वाला प्रतिबंधित, SC ने BCI प्रस्तावों पर मुहर लगाई [आर्डर पढ़े]

LiveLaw News Network
25 March 2018 3:11 PM GMT
बार काउंसिल चुनाव : मतदान के दौरान वीडियोग्राफी, ट्रिब्यूनल की मंजूरी के बाद ही परिणाम, लंच देना वाला प्रतिबंधित, SC ने BCI प्रस्तावों पर मुहर लगाई [आर्डर पढ़े]
x

राज्य बार काउंसिल के चुनाव के दौरान सभी संवेदनशील मतदान केंद्र अब सीसीटीवी निगरानी में होंगे और वीडियो रिकॉर्डिंग कराई जाएगी। यदि कोई भी लंच आदि देगा तो उसे प्रतिबंधित कर दिया जाएगा। चुनाव के परिणाम प्रकाशित तभी किए जाएंगे जब चुनाव ट्रिब्यूनल इसे फाइनल मानेगा जैसाकि  भारत की बार काउंसिल द्वारा पारित प्रस्ताव को प्रभावी करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय का आदेश दिया गया है।

न्यायमूर्ति आरके अग्रवाल और न्यायमूर्ति अभय मनोहर सपरे की पीठ ने कहा कि यही सिद्धांत अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, प्रतिनिधि-सदस्य और  राज्य काउंसिल  / भारतीय बार काउंसिल के अन्य पदों के चुनाव के लिए आवेदन लागू होगा।

चुनाव प्रक्रिया की निष्पक्षता के बारे में बीसीआई  के संतुष्ट होने के बाद ही पदों पर चुनाव होगा। चुनावों की निष्पक्षता के बारे में गंभीर शिकायतों को देखते हुए बिहार बार काउंसिल के चुनावों के लिए पांच सह-पर्यवेक्षकों ने चुनाव प्रक्रिया में सहायता करेंगे।

दरअसल शुक्रवार को सर्वोच्च न्यायालय ने आदेश दिया था, "भारत की बार काउंसिल द्वारा पारित किए गए निम्नलिखित संकल्प को निम्नलिखित पर प्रभाव डाला जाएगा:

ए) स्टेट बार काउंसिल / रिटर्निंग ऑफिसर्स को संवेदनशील मतदान बूथों पर मतदान की प्रक्रिया के लिए सीसीटीवी कैमरे या वीडियो कवरेज प्रदान करने का अनुरोध किया जाता है।

आगे प्रस्ताव पास किया गया है कि किसी भी उम्मीदवार को यदि किसी भी तरह के अनुचित साधनों, भ्रष्ट व्यवहार, मतदाताओं को रिश्वत, दोपहर के भोजन, रात का खाना, नाश्ता आदि को मतदान केंद्रों में और चारों ओर वोटों (वोट पाने के लिए) का इस्तेमाल किया गया तो चुनाव लड़ने से बहिष्कृत होना चाहिए और उनके उम्मीदवारी को ट्रिब्यूनल द्वारा रद्द कर दिया जाएगा।

ख) यद्यपि गिनती प्रक्रिया चुनावों के बाद चलती है और सदस्यों का परिणाम भी घोषित किया जाएगा, ये परिणाम आधिकारिक गजट में प्रकाशन के लिए नहीं भेजे जाएंगे और जब तक ट्रिब्यूनल द्वारा किसी शिकायत में की गई जांच,यदि कोई हो, तो पूरी ना कर ली जाए, अंतिम परिणाम प्राप्त नहीं किए जाएंगे। नतीजों को आधिकारिक गजट में प्रकाशित होने के लिए ट्रिब्यूनल और भारत की बार काउंसिल के अनुमोदन के बाद ही भेजा जाएगा।

कार्यालय को निर्देश दिया जाता है कि वे माननीय न्यायाधिकरणों के समक्ष आवश्यक प्रस्तावों को रखें।यही सिद्धांत अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, प्रतिनिधि-सदस्य और भारतीय स्टेट काउंसिल / बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अन्य पदों के चुनाव के लिए भी लागू होगा। भारत की बार परिषद संबंधित न्यायाधिकरणों से अंतिम मंजूरी मिलने के बाद और चुनाव की निष्पक्षता से संतुष्ट होने के बाद  उपरोक्त पदों के चुनाव के लिए निर्धारित समय तय करेगी। आधिकारिक राजपत्र में परिणाम के प्रकाशन के पहले सभी विवादों और शिकायतों का निपटान करना है।

ग) बिहार स्टेट बार काउंसिल के लिए माननीय पर्यवेक्षक की मदद के लिए पांच सह-निरीक्षक नियुक्त करने के लिए बिहार राज्य बार परिषद और ट्रिब्यूनल के माननीय सदस्य प्रभारी से अनुरोध किया जाता है।

कुछ बार संघों और वकील अविनाश मोतीहारी द्वारा की गई गंभीर शिकायतों के मद्देनजर यह प्रस्ताव बनाया जा रहा है। पांच सह-निरीक्षक बिहार राज्य के चुनाव के पूरे मामले की निगरानी  करने और माननीय पर्यवेक्षक और ट्रिब्यूनल के बिहार राज्य के माननीय सदस्य के पास रिपोर्ट करने के लिए अधिकृत होंगे। अदालत बार काउंसिल के चुनाव से संबंधित कई याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी और याचिकाओं को अलग करने से इंकार कर दिया गया था।


 
Next Story