Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

कलकत्ता के वकीलों ने न्यायिक रिक्तियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने के लिए 5 दिन काम बंद की घोषणा की

LiveLaw News Network
17 Feb 2018 9:25 AM GMT
कलकत्ता के वकीलों ने न्यायिक रिक्तियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने के लिए 5 दिन काम बंद की घोषणा की
x

न्यायिक रिक्तियों के चलते विभिन्न हितधारकों की निराशा कलकत्ता उच्च न्यायालय बार एसोसिएशन के साथ शुक्रवार को कलकत्ता शहर में पहुंच गई है और सोमवार से पांच दिन काम बंद की घोषणा की गई है।

शुक्रवार को आयोजित एक तात्कालिक जनरल बॉडी की बैठक में सदस्यों ने अगले सप्ताह शुक्रवार तक काम से दूर रहने का फैसला किया, "इस माननीय के न्यायाधीशों की रिक्ति को भरने के लिए लंबे वक्त तक  कोई उचित और प्रभावी कदम न लेने के लिए प्राधिकरण के खिलाफ विरोध के प्रतीक के रूप में।”

 सदस्यों ने एक्टिंग चीफ जस्टिस और अन्य न्यायाधीशों से अनुरोध किया कि वे किसी भी पार्टी के अभाव में किसी भी प्रतिकूल आदेश को पारित ना करें। उच्च न्यायालय में अन्य वकील निकायों - इनकॉर्पोरेटेड लॉ सोसायटी और बार लाइब्रेरी क्लब ने भी हडताल का समर्थन किया है।

 हालांकि तृणमूल कांग्रेस के लीगल सेल ने शुक्रवार को इसी मुद्दे पर अपनी भूख हड़ताल को समाप्त कर दिया है। उसने इसमें हिस्सा लेने से इंकार किया है कि फैसला लेने से पहले इससे परामर्श नहीं किया गया।

कलकत्ता उच्च न्यायालय वर्तमान में कम से कम अपनी ताकत में काम कर रहा है। यहां  72 न्यायाधीशों के स्वीकृत पदों के मुकाबले  केवल 33 न्यायाधीश काम कर रहे हैं और इसके चलते न्यायालय में 2.2 लाख मामले लंबित हैं।

ये स्थिति वास्तव में अन्य उच्च न्यायालयों में भी बहुत भिन्न नहीं है। हाल ही में कर्नाटक उच्च न्यायालय में बढ़ते न्यायिक रिक्त पदों के खिलाफ विरोध करने के लिए बंगलूरू के वकीलों ने भूख हड़ताल की। इसके बाद न्यायाधीशों की नियुक्ति के बारे में अपनी "चिंता" व्यक्त करने के लिए उड़ीसा हाई कोर्ट बार एसोसिएशन द्वारा काम रोको का एक प्रस्ताव लाया गया।

Next Story