Top
ताजा खबरें

कावेरी विवाद : सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक से तमिलनाडु को 177.25 TMC पानी देने को कहा [निर्णय पढ़ें]

LiveLaw News Network
16 Feb 2018 9:12 AM GMT
कावेरी विवाद : सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक से तमिलनाडु को 177.25 TMC पानी देने को कहा [निर्णय पढ़ें]
x

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अगुवाई में सुप्रीम कोर्ट में तीन न्यायाधीशों की बेंच ने शुक्रवार को कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल और  पुदुचेरी के बीच कावेरी जल विवाद पर फैसला सुनाया, जिसमें आंशिक रूप से कर्नाटक राज्य की अपील को अनुमति दी गई।

2007 के  कावेरी जल विवाद ट्रिब्यूनल के आदेश पर  बेंच ने कर्नाटक राज्य को 192 टीएमसी के बजाय 177.25 टीएमसी पानी तमिलनाडु राज्य को छोड़ने का निर्देश दिया।

पीठ ने यह भी कहा कि 1892 और 1924 के जल साझा समझौते अब कोई मुद्दा ही नहीं है।

अगर ये मान भी लिया जाए कि  समझौते के निष्पादन के समय, कर्नाटक में कोई सौदा करने की शक्ति नहीं थी तो भी इसका फर्क नहीं पडता क्योंकि दोनों समझौतों का उद्देश्य एक स्थायी प्रकृति का नहीं था, बल्कि केवल 50 वर्षों की अवधि के लिए लागू होता था।

 इसके अलावा विवाद से राष्ट्र की संप्रभुता और अखंडता पर कोई चिंता नहीं है। यह भी माना गया है कि अंतर राज्य नदी एक राष्ट्रीय संसाधन है और ये किसी एक राज्य की संपत्ति नहीं है। फैसले का हवाला देते हुए मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि वही कानूनी प्रस्तुतियां, न्यायाधिकरण द्वारा दर्ज निष्कर्षों, आवंटन के सिद्धांत का विश्लेषण, 1 956 के अंतरराज्यीय नदी विवाद अधिनियम की धारा 6 ए की व्याख्या पर विचार किया  है। न्यायसंगत वितरण करने में, बेंच ने "उच्च जरूरत " के तौर पर पीने के पानी की आवश्यकता पर जोर दिया है।

 हालांकि पुडुचेरी को पानी आवंटन में कोई वृद्धि नहीं हुई, जबकि पर्यावरण संरक्षण के उद्देश्य से कर्नाटक को अतिरिक्त आवंटन किया गया है।

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति अमिताव रॉय और न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर की  पीठ ने कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल और पुदुचेरी द्वारा 2007 कावेरी नदी जल विवाद ट्रिब्यूनल अवार्ड 2007 को चुनौती देने वाली क्रॉस याचिकाओं  पर अपना निर्णय दिया है। पीठ ने पिछले साल 21 सितंबर को फैसला सुरक्षित रखा था। सुनवाई के आखिरी चरण के दौरान अदालत ने केंद्र को बताया कि फैसले के बाद इन राज्यों और पुदुचेरी के बीच नदी के पानी के बंटवारे पर  आदेश के कार्यान्वयन के लिए उसे एक योजना तैयार करनी होगी।

 न्यायाधीशों ने संबंधित पक्षों को सलाह दी थी कि वे कर्नाटक द्वारा कानून के प्रश्न के उत्तर देने के लिए अपनी लिखित सबमिशन जमा करें। तमिलनाडु द्वारा कानून के प्रश्न,  2007 के महत्वपूर्ण पहलुओं और ट्रिब्यूनल द्वारा लागू सिद्धांत, मुद्दों की उत्पत्ति और अन्य आयाम  का विरोध किया गया।

 2007 में सीडब्लूडीटी के पानी साझाकरण फार्मूला को अंतिम रूप देने के बाद तमिलनाडु और कर्नाटक के बीच टकराव हुआ और मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा।

यह अवार्ड 5 फरवरी, 2007 को दिया गया और फरवरी 19, 2013 को केंद्र सरकार द्वारा राजपत्रित किया गया था। पानी के बंटवारे पर निर्णय लेने के अलावा, ट्रिब्यूनल ने कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड और कावेरी जल विनियमन समिति की स्थापना की सिफारिश की थी। सुनवाई के दौरान कर्नाटक ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि मद्रास के तत्कालीन ब्रिटिश प्रांत और मैसूर के रियासत के बीच 1924 के समझौते को वर्तमान में कर्नाटक और तमिलनाडु के बीच कावेरी नदी का पानी बांटने का आधार नहीं बनाया जा सकता। तमिलनाडु ने तर्क दिया कि ट्रिब्यूनल का अवार्ड गलत था क्योंकि यह 1 9 2,000 मिलियन क्यूबिक फीट पानी आवंटित करता था, जिसने राज्य में मौजूदा दो-फसल की खेती के मुकाबले सिर्फ एक फसल की खेती को ध्यान में रखते हुए दिया गया  और इसके कार्यान्वयन के लिए एक तंत्र की स्थापना की मांग की इसमें कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड शामिल है। ट्रिब्यूनल द्वारा आवंटित पानी की तुलना में अधिक पानी की मांग करते हुए तमिलनाडु ने कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड की अनुपस्थिति में कहा था कि उसे पानी का आवंटित हिस्सा नहीं मिल रहा था।

 तमिलनाडु ने पीठ से कहा था कि वो कावेरी के संबंध में केन्द्र पर भरोसा नहीं करता क्योंकि उन्होंने राजगट में सीडब्लूडीटी पुरस्कार प्रकाशित करने के लिए छह साल का समय लिया है और प्रबंधन बोर्ड को भी नहीं बनाया है।


 
Next Story