Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

पूर्व पति के खुलासे के बाद कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से महिला शादीशुदा है कि नहीं यह पता लगाने को कहा

LiveLaw News Network
3 Jan 2018 7:21 AM GMT
पूर्व पति के खुलासे के बाद कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से महिला शादीशुदा है कि नहीं यह पता लगाने को कहा
x

जो हुआ है वह किसी बंबईया फिल्म की कहानी से कम नहीं है। पता चला है कि एक महिला ने सिर्फ अपने पतियों से पैसा वसूलने के लिए कई शादियाँ कीं।

बाहरी दिल्ली के सिरसपुर गाँव का रहने वाला ट्रक ड्राईवर बलविंदर सिंह अपने नन्हे बेटे को कंधे पर उठाकर रोहिणी जिला अदालतों का इन दिनों चक्कर लगा रहे हैं। वह अपनी पूर्व पत्नी शालू को बेनकाब करने का प्रयास कर रहे हैं जो, उनके अनुसार एक फर्जी शादी का रैकेट चला रही है।

शालू उर्फ मलकीत कौर ने कथित रूप से कई शादियाँ की और बलविंदर सहित अपने सभी पतियों और कई मामलों में इन शादियों से उत्पन्न बच्चों को भी छोड़ दिया। उसके इस व्यवहार ने उसके एक पूर्व पति को पागलखाने तक पहुंचा दिया।

बलविंदर ने अब मलकीत कौर उर्फ शालू और उसके सगे संबंधियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। उसने इनके खिलाफ धोखाधड़ी, आपराधिक सांठगांठ, ठगी और धमकाने जैसे आरोप लगाए हैं।

बलविंदर के वकील प्रशांत मनचंदा ने कोर्ट में कहा कि पुलिस ने उसकी शिकायत पर कोई एफआईआर दर्ज नहीं किया और निजी जांच से सामने आई बातों को कोर्ट के साथ साझा करते हुए कहा कि मलकीत ने कई शादियाँ की और अपने सभी पतियों को छोड़ दिया और उनसे जबरन पैसे वसूले। मनचंदा ने यह भी कहा कि पुलिस ने उसकी पहले हुई शादियों के बारे में कोई तकीकात नहीं की है।

इस पर मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट नेहा गुप्ता सिंह ने आईओ को इस महिला की पहले हुई शादियों की जांच करने और इस बारे में अगली सुनवाई पर रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया। उन्होंने आईओ को अगली सुनवाई के दिन 12 जनवरी को कोर्ट में मौजूद रहने का आदेश भी दिया।

बलविंदर के साथ जो हुआ 

कोर्ट के सामने बलविंदर ने अपनी कहानी कुछ यूं सुनाई।

मलकीत के रिश्तेदारों ने नवंबर 2011 में उसको शादी का प्रस्ताव दिया और कुछ इस तरह की कहानी गढ़ी कि बलविंदर इसके लिए तैयार हो गया।

वर्ष 2014 में उनको बेटा हुआ। इसके शीघ्र बाद मलकीत का व्यवहार बदल गया और वह बलविंदर और उसने परिवार वालों के साथ बदसलूकी शुरू कर दी। उसने उनसे 10 लाख रुपए मांगे और नहीं देने पर उन्हें दहेज, घरेलू हिंसा आदि मामले में फंसाने की भी धमकी दे दी। इसके बाद वह अपने पति और बच्चे को छोड़कर चली गई।

बलविंदर ने उसको अपने घर वापस लाने का प्रयास किया जो कि व्यर्थ साबित हुआ। इसके बाद उसने मलकीत के बारे में जानकारियाँ इकट्ठी करनी शुरू की और तब जाकर उसको पता चला कि उसके पहले वह तीन और पतियों को छोड़ चुकी थी।

जब बलविंदर ने मलकीत के रिश्तेदारों से इस बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि अब वह उतर प्रदेश में किसी व्यक्ति से शादी करने जा रही है।

मनचंदा ने कहा कि जब शिकायतकर्ता समयपुर बादली थाने गया तो वहाँ के एसएचओ ने एफआईआर दायर करने के उसके आग्रह पर ध्यान नहीं दिया। इसके बाद वह डीसीपी के पास भी गया पर वहाँ से भी उसे खाली हाथ लौटना पड़ा।

मनचंदा ने कहा कि मलकीत का पहला पति सुरिंदर जिससे उसने 2006 में शादी की इस समय शाहदरा मानसिक अस्पताल में है। इस शादी से भी उसको एक बच्चा है।

2009 में उसने सुरिंदर के साथ सेटलमेंट किया और उसके खिलाफ दहेज़ प्रताड़ना का मामला वापस लेने और गुजारा राशि नहीं लेने की बात कही। पर वह बाद में इससे मुकड़ गई। मलकीत द्वारा दायर झूठे मुकदमें में सजा होने के कारण सुरिंदर को दो साल जेल में बिताने पड़े और उसके बाद उसको पुनर्वास केंद्र भेजना पड़ा।

इसके बाद मलकीत ने 2008 में संजू से शादी की और इसके बाद जसविंदर सिंह से। संजू से उसको एक बेटा हुआ जो अब संजू के पास ही रह रहा है। सुरिंदर के साथ मामला सुलझाने के आठ साल बाद मलकीत ने उसके खिलाफ मामला फिर खोल दिया है। मनचंदा अब सुरिंदर की ओर से भी पैरवी करेगा। हालांकि उसकी मानसिक अवस्था का इहबास में आकलन किया जा रहा है।

Next Story