भारतीय न्याय संहिता 2023 के तहत शरीर की निजी रक्षा का अधिकार (धारा 34 से 40)

Himanshu Mishra

9 July 2024 12:20 PM GMT

  • भारतीय न्याय संहिता 2023 के तहत शरीर की निजी रक्षा का अधिकार (धारा 34 से 40)

    भारतीय न्याय संहिता 2023, जो 1 जुलाई 2024 को लागू हुई, ने भारतीय दंड संहिता की जगह ले ली है और इसमें निजी बचाव के अधिकार के बारे में व्यापक प्रावधान हैं। ये प्रावधान उन परिस्थितियों को रेखांकित करते हैं जिनके तहत किसी व्यक्ति को खुद को, दूसरों को या संपत्ति को नुकसान से बचाने का अधिकार है। नीचे, हम निजी बचाव के अधिकार के दायरे और सीमाओं को समझने के लिए इन धाराओं का विस्तार से पता लगाते हैं।

    धारा 34: निजी बचाव के प्रयोग में किए गए कार्य अपराध नहीं हैं (Acts in Exercise of Private Defence Not Offences)

    धारा 34 के अनुसार, निजी बचाव के अधिकार के प्रयोग में किए गए किसी भी कार्य को अपराध नहीं माना जाता है। यह मूलभूत सिद्धांत इस बात पर जोर देता है कि खुद को या दूसरों को नुकसान से बचाने के लिए काम करने वाले व्यक्ति अपने कार्यों में न्यायसंगत हैं, बशर्ते वे कानून की सीमाओं के भीतर हों।

    धारा 35: शरीर और संपत्ति की रक्षा का अधिकार (Right to Defend Body and Property)

    धारा 35 प्रत्येक व्यक्ति को मानव शरीर को प्रभावित करने वाले अपराधों के खिलाफ अपने शरीर और दूसरों के शरीर की रक्षा करने का अधिकार स्थापित करती है। इसके अतिरिक्त, यह धारा चोरी, डकैती, शरारत या आपराधिक अतिचार जैसे अपराधों के विरुद्ध चल और अचल संपत्ति की रक्षा करने के अधिकार को बढ़ाती है, जिसमें इन अपराधों को करने का प्रयास भी शामिल है। इस अधिकार का दायरा यह सुनिश्चित करता है कि व्यक्ति खुद को और अपनी संपत्ति को गैरकानूनी नुकसान से बचाने के लिए आवश्यक कार्रवाई कर सकते हैं।

    धारा 36: विकलांग व्यक्तियों द्वारा किए गए कृत्यों के विरुद्ध बचाव (Defence Against Acts by Persons with Disabilities)

    धारा 36 उन स्थितियों को संबोधित करती है, जहाँ कोई ऐसा कार्य जो अन्यथा अपराध बनता है, विकलांग व्यक्तियों जैसे कि युवावस्था, परिपक्वता की कमी, मानसिक अस्वस्थता या नशे में या किसी गलत धारणा के कारण किया जाता है। ऐसे मामलों में भी, निजी बचाव के अधिकार को बरकरार रखा जाता है। उदाहरण के लिए, यदि कोई अस्वस्थ दिमाग वाला व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति को नुकसान पहुँचाने का प्रयास करता है, तो बाद वाले को खुद का बचाव करने का अधिकार है, जैसे कि हमलावर स्वस्थ हो।

    धारा 37: निजी बचाव के अधिकार पर प्रतिबंध (Restrictions on the Right of Private Defence)

    धारा 37 निजी बचाव के अधिकार पर विशिष्ट प्रतिबंधों को रेखांकित करती है।

    यह अधिकार उन मामलों में लागू नहीं होता है, जहाँ:

    1. कार्य उचित रूप से मृत्यु या गंभीर चोट की आशंका का कारण नहीं बनता है और यह सद्भावनापूर्वक कार्य करने वाले लोक सेवक द्वारा किया जाता है, भले ही कानून द्वारा सख्ती से न्यायोचित न हो।

    2. कार्य उचित रूप से मृत्यु या गंभीर चोट की आशंका का कारण नहीं बनता है और यह सद्भावनापूर्वक कार्य करने वाले लोक सेवक के निर्देश पर किया जाता है, भले ही कानून द्वारा सख्ती से न्यायोचित न हो।

    3. सार्वजनिक प्राधिकारियों से सुरक्षा प्राप्त करने के लिए पर्याप्त समय है।

    इसके अलावा, निजी बचाव के अधिकार को बचाव के उद्देश्य के लिए आवश्यक से अधिक नुकसान नहीं पहुँचाना चाहिए। इस खंड में यह स्पष्ट करने वाले स्पष्टीकरण भी शामिल हैं कि किसी व्यक्ति को लोक सेवकों या उनके निर्देशों द्वारा किए गए कार्यों के विरुद्ध इस अधिकार से वंचित नहीं किया जाता है जब तक कि उनके पास यह मानने का कारण न हो कि कार्य करने वाला व्यक्ति लोक सेवक है या ऐसे प्राधिकार के अधीन कार्य कर रहा है।

    धारा 38: मृत्यु या क्षति पहुँचाने के अधिकार की सीमा (Extent of Right to Cause Death or Harm)

    धारा 38 निजी बचाव के अधिकार को कुछ शर्तों के तहत हमलावर को मृत्यु या कोई अन्य नुकसान पहुँचाने तक विस्तारित करने की अनुमति देती है।

    यह अधिकार तब लागू होता है जब:

    1. इस बात की उचित आशंका हो कि हमले के परिणामस्वरूप मृत्यु हो सकती है।

    2. इस बात की उचित आशंका हो कि हमले के परिणामस्वरूप गंभीर चोट लग सकती है।

    3. हमले का उद्देश्य बलात्कार करना है।

    4. हमले का उद्देश्य अप्राकृतिक वासना को संतुष्ट करना है।

    5. हमले का उद्देश्य अपहरण करना या अपहरण करना है।

    6. हमले का उद्देश्य किसी व्यक्ति को गलत तरीके से बंधक बनाना है, जिससे रिहाई के लिए सार्वजनिक अधिकारियों की मदद लेने में असमर्थता की उचित आशंका हो।

    7. तेजाब फेंकने या देने या ऐसा करने का प्रयास करने का कार्य गंभीर चोट लगने की उचित आशंका पैदा करता है।

    धारा 39: मृत्यु का कारण बनने की सीमा (Limitation on Causing Death)

    धारा 39 में कहा गया कि यदि अपराध धारा 38 में निर्दिष्ट विवरणों के अंतर्गत नहीं आता है, तो निजी बचाव का अधिकार हमलावर को स्वेच्छा से मृत्यु का कारण बनने तक विस्तारित नहीं होता है। हालांकि, यह धारा 37 में उल्लिखित प्रतिबंधों के भीतर मृत्यु के अलावा अन्य नुकसान पहुंचाने की अनुमति देता है।

    धारा 40: निजी बचाव के अधिकार की अवधि (Duration of the Right of Private Defence)

    धारा 40 निर्दिष्ट करती है कि शरीर की निजी रक्षा का अधिकार तब शुरू होता है जब किसी अपराध को करने के प्रयास या धमकी से खतरे की उचित आशंका होती है, भले ही अपराध अभी तक न किया गया हो। यह अधिकार तब तक जारी रहता है जब तक खतरे की आशंका बनी रहती है, जिससे खतरे में पड़े व्यक्तियों को निरंतर सुरक्षा सुनिश्चित होती है।

    संक्षेप में, भारतीय न्याय संहिता 2023 निजी रक्षा के अधिकार के लिए एक मजबूत ढांचा प्रदान करती है, जो व्यक्तियों को कानूनी सीमाओं और प्रतिबंधों का पालन करते हुए खुद को, दूसरों को और अपनी संपत्ति को विभिन्न प्रकार के नुकसान से बचाने की अनुमति देती है। इन प्रावधानों का उद्देश्य आत्मरक्षा की आवश्यकता को इस अधिकार के दुरुपयोग को रोकने की आवश्यकता के साथ संतुलित करना है।

    Next Story