भारतीय साक्ष्य अधिनियम 2023 में प्रासंगिक साक्ष्य के रूप में तीसरे व्यक्ति की राय (धारा 39 और धारा 40)

Himanshu Mishra

11 July 2024 1:30 PM GMT

  • भारतीय साक्ष्य अधिनियम 2023 में प्रासंगिक साक्ष्य के रूप में तीसरे व्यक्ति की राय (धारा 39 और धारा 40)

    भारतीय साक्ष्य अधिनियम 2023, जो 1 जुलाई, 2024 से प्रभावी है, ने भारतीय साक्ष्य अधिनियम की जगह ले ली है। यह लेख धारा 39 और 40 के तहत प्रावधानों पर चर्चा करता है, जो कानूनी कार्यवाही में विशेषज्ञों की राय और इन रायों का समर्थन करने वाले या उनका खंडन करने वाले तथ्यों की प्रासंगिकता को संबोधित करते हैं।

    साक्ष्य कानून की बहुत महत्वपूर्ण शाखा है जिस पर न्याय टिका होता है। साक्ष्य का मुख्य उद्देश्य अदालत के लिए वर्तमान मामले के संबंध में किसी निष्कर्ष पर पहुंचने का मार्ग प्रशस्त करना है। कुछ मामलों में जहां सबूत अदालत के ज्ञान और कौशल से परे हैं, सबूत अदालत के लिए किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने में समस्या पैदा करते हैं। ऐसी स्थिति में अदालत विशेषज्ञ साक्ष्य (Expert Opinion) की मदद लेती है। विशेषज्ञ वह व्यक्ति होता है जिसके पास विशेष क्षेत्र में उच्च ज्ञान और कौशल होता है।

    साक्ष्य एक व्यक्ति द्वारा दी गई जानकारी है जो आरोप को सही या गलत साबित करती है। इसलिए विशेषज्ञ साक्ष्य उस व्यक्ति द्वारा दी गई जानकारी या बयान है जो काम के उस विशेष क्षेत्र में विशेषज्ञ है या जिसने वह जानकारी दी है। अदालत की सहायता के लिए विशेषज्ञ साक्ष्य की आवश्यकता होती है जब उसके समक्ष मामले में ऐसे मामले शामिल होते हैं जिन पर अदालत को आवश्यक तकनीकी या विशेषज्ञ ज्ञान नहीं होता है।

    विशेषज्ञ कौन है?

    एक विशेषज्ञ अध्ययन के एक विशेष क्षेत्र में उच्च ज्ञान और कौशल वाला व्यक्ति होता है, एक ऐसा व्यक्ति जिसने अध्ययन के उस विशेष क्षेत्र में विशेष ज्ञान और कौशल अर्जित किया हो। साक्ष्य किसी भी व्यक्ति द्वारा दी गई जानकारी या राय है जो आरोप को सही या गलत साबित करती है। अतः विशेषज्ञ साक्ष्य किसी भी क्षेत्र के विशेषज्ञ द्वारा दी गई जानकारी या राय है जिसमें व्यक्ति विशेषज्ञ है, जो किसी भी मामले में साक्ष्य के रूप में सामने आता है। कानून के क्षेत्र में, विशेषज्ञ गवाह वह व्यक्ति होता है जिसकी राय किसी भी तथ्य या साक्ष्य के संबंध में न्यायाधीश द्वारा स्वीकार की जाती है। राय देने वाला एक विशेषज्ञ गवाह केवल उन मामलों पर होना चाहिए जिनमें उस गवाह के पास विशेष कौशल है।

    विशेषज्ञों की राय (धारा 39)

    विशेषज्ञों की परिभाषा

    धारा 39(1) निर्दिष्ट करती है कि जब किसी न्यायालय को विदेशी कानून, विज्ञान, कला, हस्तलेख की पहचान या उंगलियों के निशान पर राय बनाने की आवश्यकता होती है, तो इन क्षेत्रों में कुशल व्यक्तियों की राय प्रासंगिक होती है। इन व्यक्तियों को विशेषज्ञ कहा जाता है।

    उदाहरण:

    यदि न्यायालय को यह निर्धारित करना है कि A की मृत्यु जहर के कारण हुई थी या नहीं, तो जहर द्वारा उत्पन्न लक्षणों पर विशेषज्ञों की राय प्रासंगिक है। विशेषज्ञ इस बारे में जानकारी दे सकते हैं कि A में देखे गए लक्षण संदिग्ध जहर के कारण होने वाले लक्षणों से मेल खाते हैं या नहीं।

    यदि यह प्रश्न है कि क्या A किसी कार्य को करने के समय मानसिक रूप से अस्वस्थ था, तो इस बारे में विशेषज्ञों की राय प्रासंगिक है कि क्या A द्वारा प्रदर्शित लक्षण मानसिक अस्वस्थता को दर्शाते हैं और क्या ऐसी स्थिति A की कार्य की प्रकृति या उसके गलत होने की समझ को बाधित करेगी। विशेषज्ञ यह प्रमाणित कर सकते हैं कि क्या A का व्यवहार मानसिक अस्वस्थता और निर्णय पर इसके प्रभावों के अनुरूप है।

    ऐसे मामलों में जहां A द्वारा कथित रूप से लिखे गए दस्तावेज़ की प्रामाणिकता पर सवाल उठाया जाता है, विशेषज्ञ इसकी तुलना A द्वारा लिखे गए किसी अन्य दस्तावेज़ से कर सकते हैं। इस बारे में उनकी राय प्रासंगिक है कि क्या दोनों दस्तावेज़ एक ही व्यक्ति द्वारा लिखे गए थे। विशेषज्ञ यह पता लगाने के लिए हस्तलेखन विशेषताओं का विश्लेषण करते हैं कि क्या लेखन मेल खाता है।

    इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य

    धारा 39(2) में कहा गया है कि इलेक्ट्रॉनिक रूप से प्रेषित या संग्रहीत सूचना से संबंधित कार्यवाही में, सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 79A के तहत परिभाषित इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य के परीक्षक की राय प्रासंगिक है। इस परीक्षक को कानून के उद्देश्यों के लिए एक विशेषज्ञ माना जाता है।

    विशेषज्ञ की राय का समर्थन या खंडन करने वाले तथ्य (धारा 40)

    धारा 40 में कहा गया है कि अन्यथा प्रासंगिक न होने वाले तथ्य प्रासंगिक हो जाते हैं यदि वे विशेषज्ञ की राय का समर्थन या खंडन करते हैं, जब ऐसी राय को न्यायालय द्वारा प्रासंगिक माना जाता है।

    उदाहरण:

    यदि यह प्रश्न किया जाता है कि क्या A को किसी निश्चित जहर से जहर दिया गया था, तो यह तथ्य कि उसी पदार्थ से जहर दिए गए अन्य व्यक्तियों में A द्वारा अनुभव किए गए लक्षणों के समान लक्षण दिखाई दिए, प्रासंगिक हो जाता है। यह साक्ष्य विशेषज्ञ की राय का समर्थन या खंडन कर सकता है कि क्या A के लक्षण उस पदार्थ द्वारा विषाक्तता के साथ मेल खाते हैं।

    यदि न्यायालय को यह निर्धारित करने की आवश्यकता है कि क्या किसी समुद्री दीवार ने बंदरगाह में अवरोध उत्पन्न किया है, तो यह विचार करना प्रासंगिक है कि क्या समान परिस्थितियों वाले लेकिन ऐसी समुद्री दीवारों के बिना अन्य बंदरगाहों में भी लगभग उसी समय अवरोध उत्पन्न हुए थे। यह तुलना बंदरगाह अवरोधों पर समुद्री दीवार के प्रभाव पर विशेषज्ञ की राय का समर्थन या चुनौती दे सकती है।

    भारतीय साक्ष्य अधिनियम 2023 विदेशी कानून, विज्ञान, कला, हस्तलेख, उंगलियों के निशान और इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य से संबंधित जटिल मामलों पर न्यायिक राय बनाने में विशेषज्ञ राय के महत्व पर जोर देता है। यह उन तथ्यों के महत्व पर भी प्रकाश डालता है जो इन विशेषज्ञ राय का समर्थन करते हैं या उनका खंडन करते हैं, जिससे कानूनी निर्णय लेने के लिए एक संपूर्ण और साक्ष्य-आधारित दृष्टिकोण सुनिश्चित होता है। इन प्रावधानों का उद्देश्य विशेष ज्ञान और प्रासंगिक सहायक तथ्यों का लाभ उठाकर न्यायिक प्रक्रिया में स्पष्टता और विश्वसनीयता प्रदान करना है।

    Next Story