Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

'कोर्ट की कार्यवाही के दौरान अश्लीलता': मद्रास हाईकोर्ट ने वकील के खिलाफ अवमानना कार्रवाई शुरू की

LiveLaw News Network
22 Dec 2021 2:46 AM GMT
कोर्ट की कार्यवाही के दौरान अश्लीलता: मद्रास हाईकोर्ट ने वकील के खिलाफ अवमानना कार्रवाई शुरू की
x

मद्रास हाईकोर्ट ने वर्चुअल कोर्ट में एक महिला के साथ कामुकता में लिप्त वकील की वीडियो क्लिपिंग के वायरल होने के बाद स्वत: संज्ञान आपराधिक अवमानना कार्यवाही दर्ज की है।

न्यायमूर्ति पी.एन. प्रकाश और न्यायमूर्ति आर हेमलता ने न्यायमूर्ति जी के इलांथिरैया की अदालत में हुई घटना को लेकर कहा,

"जब अदालत की कार्यवाही के बीच इस तरह की बेशर्म अश्लीलता को सार्वजनिक रूप से प्रदर्शित किया जाता है, तो यह अदालत मूकदर्शक बनकर नहीं रहा सकता और आंखें बंद नहीं कर सकता है।"

इसलिए, अदालत ने सोशल मीडिया में प्रसारित की जा रही वीडियो क्लिपिंग पर संज्ञान लिया और सीबी-सीआईडी को इस पर स्वत: संज्ञान लेकर प्राथमिकी दर्ज करने को कहा।

पीठ ने कहा,

"वीडियो क्लिपिंग प्रथम दृष्टया सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम और अन्य दंड कानूनों के तहत संज्ञेय अपराधों के कमीशन का खुलासा करती है, सीबी-सीआईडी विवादित वीडियो क्लिपिंग पर एक स्वत: संज्ञान प्राथमिकी दर्ज करेगी और 23.12.2018 को इस न्यायालय के समक्ष एक प्रारंभिक रिपोर्ट दर्ज करेगी।"

पुलिस आयुक्त, ग्रेटर चेन्नई को अश्लील वीडियो के प्रसार को रोकने के लिए कदम उठाने का निर्देश दिया गया है।

रजिस्ट्री को अदालती कार्यवाही की वीडियो रिकॉर्डिंग को सुरक्षित रखने के लिए कहा गया है, जहां घटना हुई थी।

अदालत ने रजिस्ट्रार (आईटी-सह-सांख्यिकी) को सीबी-सीआईडी के साथ समन्वय करने और यदि आवश्यक हो, तो सीबी-सीआईडी को विवादित वीडियो क्लिपिंग और अन्य साक्ष्य प्रस्तुत करने का भी निर्देश दिया है।

रजिस्ट्रार को इंटरनेट से आपत्तिजनक वीडियो क्लिपिंग को हटाने के लिए भी कदम उठाने को कहा गया है।

अदालत ने अदालती कार्यवाही की प्रक्रिया के बारे में एक महत्वपूर्ण अवलोकन करते हुए कहा,

"हमारा विचार है कि यह उचित समय है कि हम हाइब्रिड मोड में न्यायालय की कार्यवाही के संचालन की प्रक्रिया पर फिर से विचार करें, विशेष रूप से इस तथ्य के आलोक में कि अधिवक्ता बड़ी संख्या में हमारे उच्च न्यायालय में और साथ ही जिला न्यायालयों में भी व्यक्तिगत रूप से पेश होने लगे हैं। हालांकि इस संबंध में एक निर्णय माननीय कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश द्वारा लिया जाना है, जिनके समक्ष यह मामला रखा जा सकता है।"

मामला अब 23 दिसंबर, 2021 के लिए पोस्ट किया गया है।

इसके साथ ही तमिलनाडु और पुडुचेरी की बार काउंसिल ने अदालत की कार्यवाही में भाग लेने के दौरान अधिवक्ता के अभद्र व्यवहार के लिए उसके खिलाफ लंबित अनुशासनात्मक कार्यवाही के निपटान तक उक्त अधिवक्ता के प्रैक्टिस पर अस्थायी रूप से रोक लगा दी है।

केस नंबर: स्वत: संज्ञान लेकर आपराधिक अवमानना याचिका संख्या 1699/2021

आदेश की कॉपी पढ़ने/डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें:




Next Story