Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

"भय का माहौल बनाया गया, मेरा परिवार हमेशा मेरी सुरक्षा के बारे में चिंतित रहता है": ज्ञानवापी सर्वेक्षण मामले में वाराणसी कोर्ट के जज

Sharafat
12 May 2022 4:25 PM GMT
भय का माहौल बनाया गया, मेरा परिवार हमेशा मेरी सुरक्षा के बारे में चिंतित रहता है: ज्ञानवापी सर्वेक्षण मामले में वाराणसी कोर्ट के जज
x

वाराणसी कोर्ट के सिविल जज (सीनियर डि.), रवि कुमार दिवाकर ने ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के सर्वेक्षण को जारी रखने का आदेश दिया। उन्होंने इस मामले में अपनी सुरक्षा को लेकर कुछ बातें कहीं।

उन्होंने टिप्पणी की,

" इस साधारण से दीवानी मामले को असाधारण मामला बनाकर भय का माहौल बना दिया गया। डर इतना है कि मेरा परिवार हमेशा मेरी सुरक्षा के बारे में चिंतित है और मुझे उनकी सुरक्षा की चिंता है। जब मैं घर से बाहर जाता हूं, मेरी पत्नी मेरी सुरक्षा के बारे में बहुत चिंतित रहती है।"

न्यायाधीश ने अंजुमन इस्लामिया मस्जिद समिति (प्रतिवादी) द्वारा ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का सर्वेक्षण करने के लिए नियुक्त कोर्ट कमिश्नर को बदलने के लिए दायर एक आवेदन को खारिज करते हुए यह टिप्पणी की।

अदालत ने पिछले महीने पांच हिंदू महिलाओं द्वारा वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद परिसर की पश्चिमी दीवार के पीछे एक हिंदू मंदिर में साल भर प्रार्थना करने की अनुमति की मांग करने वाली याचिकाओं पर परिसर के निरीक्षण का आदेश दिया था।

स्थानीय अदालत ने पहले अधिकारियों को 10 मई तक एक रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया था, हालांकि, सर्वेक्षण नहीं हो सका क्योंकि मस्जिद समिति ने मस्जिद के अंदर वीडियोग्राफी का विरोध किया था। सर्वे के दौरान ज्ञानवापी परिसर के बाहर हंगामा हुआ और मस्जिद कमेटी के सदस्य मांग कर रहे थे कि मस्जिद परिसर के अंदर सर्वे और वीडियोग्राफी रोकी जाए।

इसके बाद अंजुमन प्रबंधन मस्जिद कमेटी की ओर से याचिका दायर कर एडवोकेट कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा को हटाने की मांग की गई। 3 दिन की बहस के बाद कोर्ट ने आदेश दिया कि परिसर का सर्वे जारी रहेगा।

कोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के लिए नियुक्त एडवोकेट कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा को हटाने से भी इनकार कर दिया। उनके अलावा कोर्ट ने विशाल कुमार सिंह और अजय सिंह को कोर्ट कमिश्नर भी बनाया है।

अपने आदेश में न्यायाधीश ने अपने परिवार की सुरक्षा और न्यायाधीश की सुरक्षा पर उनकी चिंता के बारे में अपनी चिंता व्यक्त की।

आदेश में उन्होंने इस प्रकार टिप्पणी की,

" इस साधारण से दीवानी मामले को असाधारण मामला बनाकर भय का माहौल बना दिया गया। डर इतना है कि मेरा परिवार हमेशा मेरी सुरक्षा के बारे में चिंतित है और मुझे उनकी सुरक्षा की चिंता है। जब मैं घर से बाहर जाता हूं, मेरी पत्नी मेरी सुरक्षा के बारे में बहुत चिंतित रहती है।

कल मेरी मां (लखनऊ में) ने हमारी बातचीत के दौरान भी मेरी सुरक्षा को लेकर चिंता जताई और मीडिया को मिली खबरों से उन्हें पता चला कि शायद मैं भी कमिश्नर के तौर पर मौके पर जा रहा हूं और मेरी मां ने मुझसे कहा कि मुझे मौके पर नहीं जाना चाहिए, क्योंकि इससे मेरी सुरक्षा को खतरा हो सकता है।"

कोर्ट ने यह भी कहा कि एडवोकेट अजय मिश्रा की कोर्ट कमिश्नर के रूप में नियुक्ति पर सवाल उठाना उचित नहीं है क्योंकि उन्होंने कोर्ट के आदेशों के अनुसार परिसर का केवल आंशिक सर्वेक्षण किया है।

विरोधी पक्ष मांग कर रहे थे कि कोर्ट कमिश्नर को बदला जाए क्योंकि वह याचिकाकर्ताओं के दबाव में काम कर रहे हैं। हालांकि कोर्ट ने उनकी प्रार्थना में कोई आधार नहीं पाया।

कोर्ट ने कोर्ट कमिश्नर अजय मिश्रा के साथ सर्वे के लिए दो और वकीलों को कमिश्नर नियुक्त किया है और आगे आयोग को 17 मई तक कोर्ट में रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया है।

अदालत ने यह भी आदेश दिया है कि मस्जिद के पूरे परिसर का सर्वेक्षण किया जाए और आगे निर्देश दिया कि जब तक सर्वेक्षण पूरा नहीं हो जाता है, यह जारी रहेगा।

हिंदू पक्षों ने तर्क दिया कि एडवोकेट कमिश्नर को मुस्लिम पार्टी द्वारा बैरिकेडिंग के दूसरी तरफ यानी ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर और तहखाने में वीडियोग्राफी और सर्वेक्षण करने की अनुमति नहीं मिली। हिंदू पक्ष की ओर से यह भी कहा गया है कि मुस्लिम पक्ष ने उन्हें ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर और तहखाने के अंदर जाने से यह कहकर रोक दिया कि अदालत का ऐसा कोई आदेश नहीं है।

आदेश पढ़ने/डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story