Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

ऐसी टिप्प्पणियां न्यायपालिका की स्वतंत्रता पर जनता के विश्वास को हिला देती हैं, जस्टिस मिश्रा द्वारा पीएम मोदी की तारीफ पर BBA ने प्रस्ताव पारित किया

LiveLaw News Network
6 March 2020 3:52 AM GMT
ऐसी टिप्प्पणियां न्यायपालिका की स्वतंत्रता पर जनता के विश्वास को हिला देती हैं, जस्टिस मिश्रा द्वारा पीएम मोदी की तारीफ पर BBA ने प्रस्ताव पारित किया
x

बॉम्बे बार एसोसिएशन (BBA) ने गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय न्यायपालिका सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए जस्टिस अरुण मिश्रा की प्रशंसा को दर्शाते हुए एक प्रस्ताव पारित किया, जिसमें कहा गया कि जस्टिस मिश्रा की टिप्पणियां अनुचित और अनावश्यक थीं।

एसोसिएशन ने बीसीआई के अध्यक्ष मनन कुमार मिश्रा द्वारा की गई टिप्पणी की भी निंदा की, जिन्होंने 26 फरवरी को एक बयान जारी किया था जिसमें न्यायमूर्ति मिश्रा की टिप्पणियों की आलोचना और निंदा को एक संकीर्ण और मिथकवादी मानसिकता के रूप में बताया गया था।

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते हुए उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसनीय, दूरदर्शी और बहुमुखी प्रतिभा वाला ऐसा नेता कहा, जो वैश्विक स्तर पर सोचते हैं लेकिन स्थानीय मुद्दों की अनदेखी भी नहीं करते।

बॉम्बे हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के इस प्रस्ताव को बुधवार को पारित करने का प्रस्ताव रखा गया था और बार के सदस्यों जैसे नवरोज़ सेवई सहित अन्य सदस्यों की गुरुवार दोपहर बाद बैठक बुलाई गई, उसके बाद निम्न प्रस्ताव पारित किया गया था।

"एसोसिएशन भारत के सर्वोच्च न्यायालय के एक सिटिंग जज के आचरण को प्रतिकूल मानता है जो कार्यपालिका के प्रमुख के बारे में इस तरह की टिप्पणी करते हैं और एसोसिएशन मानता है कि ये टिप्प्पणी अनुचित और अनावश्यक हैं।

इस एसोसिएशन का मानना ​​है कि यह विशेष रूप से खेदजनक है कि अंतरराष्ट्रीय न्यायपालिका सम्मेलन में कानून मंत्री जैसे कैबिनेट मंत्रियों की उपस्थिति में भारत के सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व और वर्तमान न्यायाधीश और अंतरराष्ट्रीय कानूनी समुदाय के सदस्यों की मौजूदगी में इस तरह की टिप्पणी की गई। इस प्रकृति की टिप्पणियां उच्च न्यायपालिका की स्वतंत्रता और अखंडता में कानूनी पेशे के सदस्यों और जनता के विश्वास को हिला देती हैं। "

प्रस्ताव पढ़ेंं




Next Story