Top
मुख्य सुर्खियां

PMC घोटाला : सुप्रीम कोर्ट ने प्रमोटरों के हाउस अरेस्ट के बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाई, नीलामी प्रक्रिया जारी रहेगी

LiveLaw News Network
16 Jan 2020 7:17 AM GMT
PMC घोटाला : सुप्रीम कोर्ट ने प्रमोटरों के हाउस अरेस्ट के बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाई, नीलामी प्रक्रिया जारी रहेगी
x

सुप्रीम कोर्ट ने बॉम्बे हाईकोर्ट के उस आदेश पर रोक लगा दी है जिसमें निर्देश दिया गया था कि हाउसिंग डेवेलमेंट एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (HDIL) के प्रमोटरों राकेश वधावन और उनके बेटे सारंग को आर्थर रोड जेल से चार गार्डों के साथ हाउस अरेस्ट के तहत रखा जाए ताकि वे रिकवरी की प्रक्रिया में साथ दे सकें।

मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे की पीठ ने प्रवर्तन निदेशालय ( ईडी) की याचिका पर ये आदेश जारी किया। हालांकि पीठ ने कहा कि हाईकोर्ट का संपत्ति की नीलामी की प्रक्रिया जारी रखने का आदेश लागू रहेगा।

दरअसल गुरुवार को ईडी ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने पीठ के समक्ष केस को मेंशन किया और कहा कि हाईकोर्ट ने एक तरह से दोनों को जमानत दे दी है। इस पर तुरंत रोक लगाई जानी चाहिए।

दरअसल वित्तीय संकट से जूझ रही पंजाब और महाराष्ट्र सहकारी (PMC) बैंक के खाताधारकों को बॉम्बे हाईकोर्ट ने बुधवार को एक बड़ी राहत दी। बॉम्बे हाईकोर्ट ने सरोश दमानिया द्वारा दायर एक जनहित याचिका को अनुमति दी, जिसमें हाउसिंग डेवेलमेंट एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (HDIL) की उन सभी संपत्तियों की नीलामी की मांग की गई थी, जो PMC बैंक के पास गिरवी हैं या आर्थिक अपराध शाखा, मुंबई द्वारा ज़ब्त हैं।

न्यायमूर्ति रंजीत मोरे और न्यायमूर्ति एसपी तावड़े की पीठ ने HDIL की परिसंपत्तियों के त्वरित निपटान के लिए न्यायमूर्ति एस राधाकृष्णन की अध्यक्षता में 3 सदस्यीय समिति के गठन को मंजूरी दी। समिति 30 अप्रैल को या उससे पहले अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।

पीठ ने पिछले साल दिसंबर में यह नोट करते हुए आदेश सुरक्षित रखा था कि पीएमसी बैंक को ऋण की अदायगी, बैंक के जमाकर्ताओं और ऋणदाताओं के हित में होगी।

दमानिया की जनहित याचिका में राशि के बरामद होने तक प्रतिवादी आरोपी व्यक्तियों (वधावन) के किसी भी ज़मानत आवेदन पर कार्रवाई करने से निचली अदालतों पर रोक लगाने की मांग की गई। पीएमसी के जमाकर्ताओं द्वारा दायर एक अन्य जनहित याचिका में, आरबीआई ने 31 मार्च, 2018 को पीएमसी बैंक की अपनी निरीक्षण रिपोर्ट का उल्लेख किया, जिसमें कहा गया है "बैंक ने नमूना जांच के लिए धोखाधड़ी से डेटा जमा किया, निरीक्षण के लिए चुने गए खातों के नमूने में अज्ञात HDIL संबंधित खाते नहीं थे। खुलासा किए गए HDIL खाते देखे गए थे और उनमें से अधिकांश का एनपीए के रूप में मूल्यांकन किया गया था।

पीएमसी बैंक के चेयरमैन और एचडीआईएल के पूर्व प्रबंध निदेशक के रूप में वरियाम सिंह के हितों का टकराव भी रिपोर्ट में टिप्पणी के साथ-साथ बैंक द्वारा एचडीआईएल समूह के खुलासा खातों को मानक के रूप में नए ऋणों को मंजूरी देने के लिए मानक के रूप में दिखाने की कोशिश की गई थी। IRAC मानदंडों पर 1 जुलाई, 2015 के आरबीआई मास्टर परिपत्र के गैर-पालन में पुराने एनपीए खाते हैं। नतीजतन, बैंक का मूल्यांकन किया हुआ एनपीए रिपोर्ट किए गए एनपीए की तुलना में काफी अधिक था। " प्रवर्तकों ने अदालत से कहा था कि उन्हें कोई आपत्ति नहीं है यदि बैंक को देय धन की वसूली के लिए सभी संपत्तियों को बेच दिया जाता है।

Next Story