Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

'वकील ने अदालत में सड़क के गुंडों द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली गंदी भाषा का इस्तेमाल किया': राजस्थान हाईकोर्ट ने बार काउंसिल से कार्रवाई करने को कहा

LiveLaw News Network
3 July 2021 4:23 AM GMT
वकील ने अदालत में सड़क के गुंडों द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली गंदी भाषा का इस्तेमाल किया: राजस्थान हाईकोर्ट ने बार काउंसिल से कार्रवाई करने को कहा
x

राजस्थान हाईकोर्ट ने बार काउंसिल ऑफ राजस्थान को एक वकील के खिलाफ उचित कार्रवाई करने के लिए कहा, जिसने अदालत के समक्ष गंदी भाषा का इस्तेमाल किया और अदालत को गाली दी यानी अवमानना का मामला बनता है।

न्यायमूर्ति देवेंद्र कछवाहा की खंडपीठ ने कहा कि उन्होंने जानबूझकर अप्रिय और गंदी भाषा का इस्तेमाल किया जो आमतौर पर सड़क के गुंडों द्वारा उपयोग की जाती है।

कोर्ट ने कहा कि,

"वकील रामावतार सिंह चौधरी ने अपने आप को नियंत्रण में नहीं रखा और व्यक्तिगत रूप से इस न्यायालय को सीधे गालियां देते रहे। इसके अलावा वकील ने न्यायिक पक्ष पर न्यायालय के कामकाज पर खराब टिप्पणी की।"

संक्षेप में मामला

जमानत अर्जी की सुनवाई के दौरान कोर्ट के संज्ञान में लाया गया कि आरोपी-आवेदक के खिलाफ इसी तरह के दो अन्य मामले भी लंबित हैं और वर्तमान मामले में जांच पूरी नहीं हुई है और इसलिए कोर्ट अपनी राय व्यक्त की कि वह जमानत पर रिहा होने का हकदार नहीं है।

याचिकाकर्ता के वकील को एक विकल्प दिया गया कि या तो मामले को स्थगित कर दिया जाए या चार्जशीट दाखिल करने के बाद प्रार्थना को नवीनीकृत करने की स्वतंत्रता के साथ जमानत आवेदन वापस ले लिया जाए।

याचिकाकर्ता के वकील रामावतार सिंह चौधरी ने इसी समय अनुचित रूप से इस न्यायालय पर आपत्तिजनक टिप्पणी की।

न्यायालय की टिप्पणियां

कोर्ट ने कहा कि वकील के इस तरह के डराने-धमकाने वाले और मानहानिकारक कृत्य और न्यायिक प्रणाली को नीचा दिखाने के लिए उसके द्वारा अपमानजनक आरोप लगाने से वह स्तब्ध है।

अदालत ने यह भी कहा कि वकील ने निर्णायक न्यायाधीश के साथ-साथ संस्था के प्रति भी अनादर के अपने सरासर कृत्य के साथ सभी हदें पार कर दीं।

कोर्ट ने महत्वपूर्ण रूप से कहा कि,

"राज्य, संघ के लोक अभियोजकों और महिला कोर्ट मास्टर वाले कोर्ट स्टाफ सहित पूरा कोर्ट रूम वकील रामावतार सिंह चौधरी के इस तरह के अप्रिय व्यवहार को देखकर हैरान रह गया। वकील के समग्र आचरण ने निश्चित रूप से संवैधानिक और न्यायिक बुनियादी ढांचे पर सेंध लगाई है। वकील के आचरण ने निश्चित रूप से बार एंड बेंच के बीच आपसी सम्मान और संबंध को कम कर दिया है।"

कोर्ट ने इस प्रकार कहा कि यदि वकील की गलती के खिलाफ उपयुक्त और उचित कार्रवाई नहीं की जाती है तो यह निश्चित रूप से संपूर्ण न्याय वितरण प्रणाली के लिए जनता के विश्वास और सम्मान को नष्ट कर देगा और यह स्वयं के लिए हानिकारक होगा और यह एक मौजूदा न्यायाधीश का सम्मान और यह अन्य वकीलों को इस तरह के अनियंत्रित और अपमानजनक तरीके से व्यवहार करने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है।

अदालत ने हालांकि उसके खिलाफ अवमानना कार्यवाही शुरू करने से परहेज किया, लेकिन इसके बजाय वकील रामावतार सिंह चौधरी के खिलाफ उचित कार्रवाई करने के लिए राजस्थान बार काउंसिल के ध्यान में इस तरह की दुखद स्थिति को लाना उचित समझा।

आदेश की कॉपी यहां पढ़ें:




Next Story