Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

वकील ने वकालतनामा दाखिल करते समय अपने हमनाम वकील का नामांकन आईडी का उपयोग किया: झारखंड एचसी ने बीसीआई, स्टेट बार काउंसिल को मामला भेजा

Sharafat
5 Aug 2022 2:34 PM GMT
वकील ने वकालतनामा दाखिल करते समय अपने हमनाम वकील का नामांकन आईडी का उपयोग किया: झारखंड एचसी ने बीसीआई, स्टेट बार काउंसिल को मामला भेजा
x

झारखंड हाईकोर्ट ने बुधवार को एक वकील के मामले को बार काउंसिल ऑफ इंडिया के साथ-साथ झारखंड स्टेट बार काउंसिल को भेजा। हाईकोर्ट ने देखा कि इस वकील ने वकालतनामा दाखिल करते समय अपने नाम के समान नाम वाले एक अन्य वकील का नामांकन आईडी का इस्तेमाल किया था।

जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी की खंडपीठ ने बार काउंसिल ऑफ इंडिया और झारखंड स्टेट बार काउंसिल को इस मामले को देखने और चार सप्ताह के भीतर एक रिपोर्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है, जिसके बाद अदालत राजीव लोचन नाम के आरोपी वकील पर प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करने के बारे में फैसला करेगी।

न्यायालय नंद किशोर गुप्ता द्वारा अपने वकील राजीव लोचन के माध्यम से दायर एक आपराधिक रिट याचिका पर सुनवाई कर रहा था , जो दिल्ली हाईकोर्ट के वकील हैं और उनका नामांकन नंबर डी/412/2011 है।

जब मामला अदालत के सामने आया, तो झारखंड हाईकोर्ट के एक वकील (ऋषि चंदन) ने बताया कि रिट याचिकाकर्ता ( राजीव लोचन ) के वकील ने वकालतनामा दाखिल करते समय अपने सीनियर ( राजीव लोचन) के नामांकन नंबर का इस्तेमाल किया था।

चंदन की दलील थी कि उनके सीनियर के नाम की स्पेलिंग राजीव लोचन (Rajiv Lochan) है जबकि इस एडवोकेट की स्पेलिंग राजीव (Rajeev Lochan) लोचन है।

दूसरी ओर एक अन्य वकील ने प्रस्तुत किया कि राजीव लोचन (आरोपी वकील) ने उन्हें दिल्ली से अपना वकालतनामा भेजा था जिसमें नामांकन नंबर 3325/2000 का खुलासा किया गया था और उन्होंने वकालतनामा दायर किया था क्योंकि यह उन्हें प्राप्त हुआ था।

इसे देखते हुए, प्रथम दृष्टया यह पाते हुए कि वकालतनामा दाखिल करते समय, याचिकाकर्ता राजीव लोचन के वकील द्वारा इंटरपोलेशन किया गया, कोर्ट ने मामले को बार काउंसिल ऑफ इंडिया और झारखंड स्टेट बार काउंसिल को भेज दिया।

न्यायालय ने यह भी देखा कि यह प्रथा पूरे देश में प्रचलित है और सुप्रीम कोर्ट के साथ-साथ उच्च न्यायालयों ने पहले ही नकली वकीलों की बढ़ती संख्या के बारे में चिंता व्यक्त की है।

" एक मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बार काउंसिल ऑफ इंडिया को फर्जी वकीलों का पता लगाने का निर्देश दिया और संभवत: बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने हाईकोर्ट के निर्देश के अनुसार कुछ कदम उठाए हैं ।"

कोर्ट ने नोट किया कि उसने मामले को आगे की सुनवाई के लिए 19 सितंबर, 2022 तय किया है।

केस टाइटल - नंद किशोर गुप्ता @ नंद किशोर राम बनाम पुलिस महानिदेशक झारखंड, रांची और अन्य के माध्यम से झारखंड राज्य [डब्ल्यूपी (सीआर।) संख्या 425 ऑफ 2021]

आदेश पढ़ने/डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story