जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा ने दिल्ली हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली

Sharafat

28 Jun 2022 6:22 AM GMT

  • Whatsapp
  • Linkedin
  • Whatsapp
  • Linkedin
  • Whatsapp
  • Linkedin
    • Whatsapp
    • Linkedin
    • Whatsapp
    • Linkedin
    • Whatsapp
    • Linkedin
  • जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा ने दिल्ली हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली

    जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा ने मंगलवार को दिल्ली हाईकोर्ट के नए मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली। उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने राज निवास एलजी सचिवालय में जस्टिस शर्मा को शपथ दिलाई।

    जस्टिस शर्मा पहले तेलंगाना हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्यरत थे। केंद्र सरकार ने 19 जून, 2022 को उनका स्थानांतरण अधिसूचित किया।

    19 जून, 2022 की अधिसूचना इस प्रकार है:

    "भारत के संविधान के अनुच्छेद 222 के खंड (1) द्वारा प्रदत्त शक्ति का प्रयोग करते हुए राष्ट्रपति, भारत के मुख्य न्यायाधीश के परामर्श के बाद, श्री जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा, मुख्य न्यायाधीश, तेलंगाना हाईकोर्ट से दिल्ली हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में स्थानानतरण करते हैं और उन्हें दिल्ली हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्यभार संभालने का निर्देश देते हैं।"

    दिल्ली हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में जस्टिस धीरूभाई नारनभाई पटेल की सेवानिवृत्ति के बाद पद रिक्त हो गया था। जस्टिस विपिन सांघी को मार्च में हाईकोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था। जस्टिस सांघी को उत्तराखंड हाईकोर्ट का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया है।

    जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा के बारे में

    जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा का जन्म 30 नवंबर 1961 को भोपाल, मध्य प्रदेश में हुआ था। उन्होंने 1979 में डॉ. हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर में विज्ञान स्नातक में एडमिशन लिया और वर्ष 1981 में तीन विषयों में विशेष योग्यता के साथ विज्ञान स्नातक की उपाधि प्राप्त की।

    उन्हें पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए राष्ट्रीय योग्यता छात्रवृत्ति से सम्मानित किया गया। 1981 में डॉ हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर में कानून के छात्र के रूप में दाखिला लिया। उन्होंने टॉपर के रूप में एलएलबी डिग्री प्राप्त की और 1984 में तीन यूनिवर्सिटी गोल्ड मैडल लिये।

    उन्होंने 01-09-1984 को एक वकील के रूप में अपना नाम दर्ज कराया। जबलपुर में मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के समक्ष संवैधानिक, सेवा, सिविल और आपराधिक मामलों में प्रैक्टिस की। 28-05-1993 को केंद्र सरकार के अतिरिक्त वकील नियुक्त किए गए और 28-06-2004 को भारत सरकार द्वारा सीनियर पैनल वकील नियुक्त किए गए।

    2003 में, उन्हें 42 वर्ष की आयु में मध्य प्रदेश के हाईकोर्ट द्वारा सीनियर एडवोकेट के रूप में नामित किया गया - वे मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के सीनियर एडवोकेट में सबसे कम उम्र के थे।

    उन्हें 18 जनवरी, 2008 को मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किया गया। उन्हें 15 जनवरी, 2010 को स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया।

    जस्टिस शर्मा एक उत्साही पाठक हैं और विभिन्न यूनिवर्सिटी में उनके योगदान के लिए भी जाने जाते हैं। वह राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालयों से जुड़े हुए हैं।

    जस्टिस शर्मा को कर्नाटक हाईकोर्ट में स्थानांतरित कर दिया गया, जहां उन्होंने 4 जनवरी, 2021 को न्यायाधीश के रूप में कार्यभार संभाला और बाद में 31 अगस्त, 2021 को कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्यभार ग्रहण किया।

    जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा ने दिल्ली हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली

    ने 11 अक्टूबर, 2021 को तेलंगाना हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली।

    Next Story