Top
मुख्य सुर्खियां

कर्नाटक उच्च न्यायालय के चार अतिरिक्त न्यायाधीश स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्त, पढ़ें अधिसूचना

LiveLaw News Network
22 Feb 2021 3:16 PM GMT
कर्नाटक उच्च न्यायालय के चार अतिरिक्त न्यायाधीश स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्त, पढ़ें अधिसूचना
x

केंद्र सरकार ने सोमवार (22 फरवरी) को कर्नाटक उच्च न्यायालय के चार अतिरिक्त न्यायाधीशों की स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति को अधिसूचित किया।

जिन चार अतिरिक्त न्यायाधीशों ने स्थायी किया, उनके नाम इस प्रकार हैं

- सिंगापुरम राघवचार कृष्ण कुमार

- अशोक सुभाषचंद्र किनगी

- सूरज गोविंदराज, और

- सचिन शंकर मगदुम

इस संबंध में केंद्र सरकार की अधिसूचना में कहा गया है कि

"भारत के संविधान के अनुच्छेद 217 के खंड (1) द्वारा प्रदत्त शक्ति के अभ्यास में राष्ट्रपति कर्नाटक उच्च न्यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश (1) जस्टिस सिंगापुरम राघवचार कृष्ण कुमार (2) जस्टिस अशोक सुभाषचंद किनागी (3) जस्टिस सूरज गोविंदराज और (4) जस्टिस सचिन शंकर मगदुम को कर्नाटक उच्च न्यायालय के स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति अधिसूचित करते हैं। "

न्यायमूर्ति सिंगापुरम राघवचार कृष्ण कुमार के बारे में

जस्टिस एसआर कृष्ण कुमार का जन्म 07 मई 1970 को हुआ था और उन्होंने एलएलबी में यूनिवर्सिटी लॉ कॉलेज, बैंगलोर से डिग्री ली और 29 अगस्त 1992 को एक वकील के रूप में अपना नामांकन करवाया।

उन्होंने कर्नाटक के उच्च न्यायालय के साथ-साथ दीवानी न्यायालयों, आपराधिक न्यायालयों और न्यायाधिकरणों में एक वकील के रूप में प्रैक्टिस की।

उन्हें कर्नाटक उच्च न्यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया और उन्होंने 23 सितंबर 2019 को पद की शपथ ली।

जस्टिस अशोक सुभाषचंद्र किनगी के बारे में

न्यायमूर्ति ए एस किन्गी का जन्म 01 जनवरी 01970 को हुआ था और उन्होंने वर्ष 1995 में एक वकील के रूप में नामांकन करवाया था।

उन्होंने 2008 से 2019 तक सिविल, लैंड एक्विजिशन और सर्विस मैटर्स के क्षेत्र में उच्च न्यायालय के समक्ष प्रैक्टिस की।

उन्हें कर्नाटक उच्च न्यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया और उन्होंने 23 सितंबर 2019 को पद की शपथ ली।

जस्टिस सूरज गोविंदराज के बारे में

जस्टिस सूरज गोविंदराज का जन्म 14 मई 1973 को हुआ था और उन्होंने NLSIU में LL.B (ऑनर्स) में स्नातक किया और 23 जून 1995 को एक वकील के रूप में दाखिला लिया।

उन्होंने सिविल, कमर्शियल लिटिगेशन, कॉन्ट्रैक्ट्स, प्रॉपर्टी लॉ, आर्बिट्रेशन, कंपनी लॉ, इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स, कॉन्स्टीट्यूशन मैटर्स, डेट रिकवरी, एनवायरनमेंटल लॉ, रेवेन्यू मैटर्स के तहत लोकल लैंड लॉज, कंज्यूमर लॉ, रेरा आदि के क्षेत्र में प्रैक्टिस की।

उन्हें कर्नाटक उच्च न्यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया और उन्होंने 23 सितंबर 2019 को पद की शपथ ली।

जस्टिस सचिन शंकर मगदुम के बारे में

जस्टिस एसएस मगदुम का जन्म 05 मई 1972 को हुआ था और उन्होंने आर एल लॉ कॉलेज, बेलागवी से एलएलबी की डिग्री ली और 31 अक्टूबर 1998 को एक वकील के रूप में दाखिला लिया।

उन्होंने 1998 से 2001 और 03 जुलाई 2001 से जून 2008 तक चिकोडी में प्रैक्टिस की, उन्होंने सिविल, क्रिमिनल और कॉन्स्टिट्यूशनल मैटर्स के क्षेत्र में कर्नाटक, बेंगलुरु के हाई कोर्ट में प्रैक्टिस की।

उन्होंने कर्नाटक अपीलीय न्यायाधिकरण और अन्य न्यायाधिकरणों के समक्ष, और कर्नाटक राज्य उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग के समक्ष भी पैरवी की और भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण और कर्नाटक आयुर्विज्ञान संस्थान, हुबली के लिए स्थायी वकील के रूप में भी वे पेश हुए।

उन्हें कर्नाटक उच्च न्यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया और उन्होंने 23 सितंबर 2019 को पद की शपथ ली।

अधिसूचना डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story