Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

सफूरा जरगर की ज़मानत याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस से स्टेटस रिपोर्ट मांगी

PTI
18 Jun 2020 12:41 PM GMT
सफूरा जरगर की ज़मानत याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस से स्टेटस रिपोर्ट मांगी
x

दिल्ली हाईकोर्ट ने गुरुवार को दिल्ली पुलिस को गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत गिरफ्तार जामिया समन्वय समिति की सदस्य सफूरा जरगर की याचिका पर स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने के लिए कहा।

सफूरा जरगर फरवरी में नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान पूर्वोत्तर दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा से संबंधित एक मामले में जमानत की मांग कर रही हैं। जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय की एमफिल की छात्रा जरगर चार महीने से अधिक की गर्भवती हैं।

न्यायमूर्ति राजीव शकधर की पीठ ने पुलिस को नोटिस जारी किया और जमानत याचिका पर स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने को कहा। उच्च न्यायालय ने मामले को 22 जून को आगे की सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया।

10 अप्रैल को दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ द्वारा गिरफ्तार की गई सफूरा ज़रगर ने ट्रायल कोर्ट से अपनी ज़मानत खारिज होने के 4 जून के आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी है। ट्रायल कोर्ट ने जरगर को ज़मानत देने से इनकार कर दिया था।

ट्रायल कोर्ट ने अपने आदेश में कहा था कि "जब आप अंगारे के साथ खेलना चुनते हैं, तो आप हवा को दोष नहीं दे सकते कि चिंगारी थोड़ी दूर तक पहुंच जाए और आग फैल जाए।"

ट्रायल कोर्ट ने कहा था कि जांच के दौरान एक बड़ी साजिश की जांच की गई और अगर किसी साजिशकर्ता द्वारा किए गए षड्यंत्र, कृत्यों और बयानों के सबूत थे, तो यह सभी के खिलाफ स्वीकार्य है।

अदालत ने कहा था कि भले ही आरोपी (जरगर) ने हिंसा का कोई काम नहीं किया था, वह गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) के प्रावधानों के तहत अपने दायित्व से नहीं बच नहीं सकती।

हालांकि, ट्रायल कोर्ट ने संबंधित जेल अधीक्षक से ज़रगर को पर्याप्त चिकित्सा सहायता और सहायता प्रदान करने के लिए कहा था। पुलिस ने पहले दावा किया था कि ज़रगर ने कथित रूप से सीएए के विरोध प्रदर्शनों के दौरान जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास एक सड़क को अवरुद्ध कर दिया और लोगों को उकसाया जिससे इलाके में दंगे हुए।

पुलिस ने आगे दावा किया कि वह फरवरी में पूर्वोत्तर दिल्ली में सांप्रदायिक दंगों को उकसाने की कथित साजिश का हिस्सा थी। नागरिकता कानून समर्थकों और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसा के बाद 24 फरवरी को पूर्वोत्तर दिल्ली में सांप्रदायिक झड़पें हुई थीं, जिसमें कम से कम 53 लोगों की मौत हो गई थी और कई घायल हो गए थे।

Next Story