Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

एक ताज़ा रेप केस में पीड़िता की पहचान का खुलासा करने वाले मीडिया के खिलाफ जनहित याचिका

LiveLaw News Network
3 Dec 2019 1:31 PM GMT
एक ताज़ा रेप केस में  पीड़िता की पहचान का खुलासा करने वाले मीडिया के खिलाफ जनहित याचिका
x

तेलंगाना राज्य में हाल ही में हुए बलात्कार के मामले में पीड़िता की पहचान का खुलासा करने वाले मीडिया के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई है।

याचिका में दलील दी गई है कि पीड़ित और आरोपी व्यक्तियों के नाम, पते, चित्र, कार्य विवरण आदि का इस तरह का प्रदर्शन आईपीसी की धारा 228 ए और निपुण सक्सेना मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा निर्धारित कानून का उल्लंघन करता है।

शीर्ष अदालत ने निपुण सक्सेना मामले में पीड़िता की पहचान के संरक्षण के बारे में निम्नलिखित दिशानिर्देश दिए थे।

कोई भी व्यक्ति प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक, सोशल मीडिया, आदि में पीड़िता का नाम या रिमोट तरीके से प्रिंट या प्रकाशित नहीं कर सकता है और ऐसे किसी भी तथ्य का खुलासा नहीं कर सकता, जिससे पीड़िता की पहचान की जा सके और जो बड़े पैमाने पर सार्वजनिक रूप से उसकी पहचान बताए।

ऐसे मामलों में जहां पीड़िता की मृत्यु हो चुकी है या दिमागी रूप से व्यथित है, उसके नाम या उसकी पहचान का खुलासा परिजनों के अधिकार के तहत भी नहीं किया जाना चाहिए, जब तक कि सक्षम प्राधिकारी, जो वर्तमान में सत्र न्यायाधीश हैं, के द्वारा उसकी पहचान के खुलासे को सही ठहराने वाली परिस्थितियां मौजूद नहीं होंगी।

आईपीसी की धारा 376, 376A, 376AB, 376B, 376C, 376D, 376DA, 376DB या 376E और POCSO अधिनियम के तहत अपराधों से संबंधित एफआईआर सार्वजनिक पहुंच में नहीं डाली जाएंगी।

यदि कोई पीड़ित सीआरपीसी की धारा 372 के तहत अपील दायर करता है, तो पीड़ित के लिए यह आवश्यक नहीं है कि वह अपनी पहचान बताए और अपील को कानून द्वारा निर्धारित तरीके से निपटा जाएगा।

पुलिस अधिकारियों को उन सभी दस्तावेजों को जहां तक संभव हो, एक सीलबंद कवर में रखना चाहिए, जिसमें पीड़ित के नाम का खुलासा किया गया है और इन दस्तावेजों को समान दस्तावेजों द्वारा प्रतिस्थापित करें, जिसमें पीड़ित का नाम सभी रिकॉर्डों में हटा दिया जाता है, जिसकी जांच सार्वजनिक डोमेन में की जा सकती है।

सभी अधिकारी, जिन्हें जांच एजेंसी या अदालत द्वारा पीड़ित के नाम का खुलासा किया जाता है, वे भी पीड़ित के नाम और पहचान को गुप्त रखने के लिए बाध्य होते हैं और किसी भी तरीके से इसका खुलासा नहीं करेंगे। केवल रिपोर्ट को छोड़कर, जिसे जांच एजेंसी या अदालत को एक सीलबंद कवर में भेजा जाना है।

मृतक की पहचान या दिमागी रूप से व्यथित पीड़ित व्यक्ति की पहचान के प्रकटीकरण को अधिकृत करने के लिए परिजनों के द्वारा आईपीसी की धारा 228A (2) (सी) के तहत एक आवेदन केवल सत्र न्यायाधीश को किया जाना चाहिए, जब तक कि सरकार धारा 228 ए (1) (सी) के तहत काम न करे और ऐसे सामाजिक कल्याण संस्थानों या संगठनों की पहचान के लिए हमारे निर्देशों के अनुसार मानदंड देता है।

POCSO के तहत नाबालिग पीड़ितों के मामले में, उनकी पहचान का खुलासा केवल विशेष अदालत द्वारा ही किया जा सकता है, अगर ऐसा खुलासा बच्चे के हित में हो तो।

Next Story