Top
मुख्य सुर्खियां

जस्टिस संगीता सहगल को दिल्ली हाईकोर्ट में वर्चुअल विदाई दी गई : पूरी स्पीच पढ़ें

LiveLaw News Network
30 May 2020 8:03 AM GMT
जस्टिस संगीता सहगल को दिल्ली हाईकोर्ट में वर्चुअल विदाई दी गई : पूरी स्पीच पढ़ें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शुक्रवार को न्यायमूर्ति संगीता ढींगरा सहगल के लिए वर्चुअल विदाई का आयोजन किया। जस्टिस संगीता ढींगरा सहगल आज, यानि 30 मई को कार्यालय से विदा लेने वाली हैं।

न्यायमूर्ति सहगल का हाईकोर्ट न्यायाधीश के रूप में कार्यकाल 20 जून, 2020 तक था, हालांकि उन्होंने इस महीने की शुरुआत में पद से इस्तीफा दे दिया था। वह जल्द ही दिल्ली राज्य उपभोक्ता निवारण आयोग के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभालेंगी।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित अपने विदाई भाषण के दौरान, न्यायमूर्ति सहगल ने बताया कि उनके पिता, जो दिल्ली उच्च न्यायालय में एक वकील थे, उन्होंने उन्हें कानून के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए प्रेरित किया।

न्यायमूर्ति सहगल ने 1985 से शुरू होने वाले कानूनी करियर में अपनी यात्रा को याद किया, जब वह आयुक्त, एमसीडी के रूप में अपने दिनों में दिल्ली न्यायिक सेवाओं में शामिल हुईं, जिसके बाद उन्हें दिल्ली में मलिन बस्तियों में जाने और झुग्गी में रहने वाले लोग की व्यावहारिक कठिनाइयों का सामना करने का पहला अनुभव प्राप्त करने का अवसर मिला।

उन्होंने कहा,

" इस असाइनमेंट ने मुझे स्लम एरिया (इंप्रूवमेंट एंड क्लीयरेंस) एक्ट, 1956 के लिए एक एग्जॉस्ट गाइड के रूप में एक किताब लिखने के लिए प्रेरित किया।"

उन्होंने उन दिनों को भी याद किया जब उन्हें दिल्ली जिला न्यायालयों के पांच क्षेत्रों में विभाजन का बड़ा काम दिया गया था।

उन्होंने कहा,

"दिल्ली के सभी मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेटों का काम राजधानी में आपराधिक मामलों के समान वितरण को सुरक्षित करने और दिल्ली में 110 एमएम के कामकाज की निगरानी करना है, जिसमें विशेष नगर मजिस्ट्रेट शामिल हैं, जो ट्रैफिक चैलेंज और नगर निगम अधिनियम के मामलों से निपटते हैं।"

न्यायमूर्ति सहगल ने अप्रैल, 2013 से दिसंबर, 2014 तक दिल्ली हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल के रूप में कार्य किया और रजिस्ट्रार (सतर्कता) के रूप में भी काम किया।

उन्हें 15 दिसंबर, 2014 को दिल्ली के उच्च न्यायालय की खंडपीठ में "अतिरिक्त न्यायाधीश" के रूप में पदोन्नत किया गया था और 2 जून, 2016 को एक स्थायी न्यायाधीश नियुक्त किया गया।

दिल्ली हाईकोर्ट में अपने समय के दौरान, उन्होंने कहा,

"मुझे इस न्यायालय के अपने भाई और बहन न्यायाधीशों के ज्ञान द्वारा निर्देशित किए जाने का सौभाग्य मिला, जिसके लिए मैं धन्यवाद देना चाहती हूं।

मैं अपने सभी भाई और बहन जजों को भी धन्यवाद देना चाहूंगी कि उन्होंने मेरे कार्यकाल को यादगार और सार्थक बनाया। मैं आप में से हर एक के साथ साझा की गई सुखद यादें ले जाऊंगी। "

जस्टिस सहगल ने उन सभी न्यायाधीशों के लिए धन्यवाद नोट के साथ अपनी बात पूरी की, जिनके साथ उन्होंने काम किया। उन्होंने उनके सभी कर्मचारी, दोनों न्यायिक और गैर-न्यायिक और उनके परिवार और दोस्तों को धन्यवाद दिया।

उन्होंने उम्मीद जताई थी कि COVID 19 का यह कठिन समय बीत जाएगा और जीवन सामान्य स्थिति में आ जाएगा।

स्पीच का टेक्स्ट डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story