Top
मुख्य सुर्खियां

दिल्ली हाईकोर्ट ने पक्षकारोंं को मौखिक दलील देने के लिए 15 मिनट का वीडियो क्लिप रिकॉर्ड करने का निर्देश दिया

LiveLaw News Network
2 Jun 2020 9:22 AM GMT
दिल्ली हाईकोर्ट ने पक्षकारोंं को मौखिक दलील देने के लिए 15 मिनट का वीडियो क्लिप रिकॉर्ड करने का निर्देश दिया
x

आपराधिक रिट याचिका से संबंधित एक मामले में, दिल्ली हाईकोर्ट ने पक्षकारों को अपने मौखिक तर्क के लिए 15 मिनट का एक वीडियो क्लिप रिकॉर्ड करने और एक सप्ताह के भीतर अदालत में उसी को प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है।

न्यायमूर्ति जेआर मिड्ढा और न्यायमूर्ति बृजेश सेठी की खंडपीठ ने मौखिक दलीलों के इस वीडियो क्लिप के अलावा, पक्षकारों को रिकॉर्ड और संबंधित निर्णयों पर संबंधित दस्तावेजों की प्रासंगिक पृष्ठों की प्रतियों के साथ अपना सबमिशन नोट देने को भी कहा है, जो तीन पृष्ठों से अधिक नहीं हो।

यह आदेश याचिकाकर्ता द्वारा सुनवाई की तारीख को आगे बढ़ाने की मांग करने वाले एक आपराधिक विविध आवेदन में आया है।

इसके अलावा, दोनों पक्षकारों को इसके बाद एक सप्ताह के भीतर प्रतिवादी (ऑपोजिट पार्टी) के सबमिशन का जवाब देने के लिए एक सप्ताह के भीतर दस मिनट के अतिरिक्त वीडियो क्लिप रिकॉर्ड करने का निर्देश दिया गया। वीडियो क्लिप और दस्तावेजों को एक दूसरे के साथ साझा करने के बाद, दोनों पक्षों को निर्धारित समय के भीतर कोर्ट मास्टर में हार्ड कॉपी प्रस्तुत करना होगी।

यह उन चुनिंदा मामलों में से एक है जिनमें अदालत ने मौखिक और दस्तावेजी सबूतों की रिकॉर्डिंग और दस्तावेज साझा करने की इस नई प्रक्रिया का पालन करने के लिए पार्टियों को निर्देश दिया है।

यह नई प्रक्रिया ज्यादातर सिविल और आपराधिक रिट याचिकाओं के तहत दायर विविध आवेदनों में अपनाई जाती है।

आदेश की कॉपी डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story