Top
मुख्य सुर्खियां

COVID19 पीड़ितोंं के शवोंं के निपटान पर कोर्ट का संज्ञान : दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार को स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने के निर्देश दिए

LiveLaw News Network
29 May 2020 8:14 AM GMT
COVID19 पीड़ितोंं के शवोंं के निपटान पर कोर्ट का संज्ञान : दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार को स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने के निर्देश दिए
x

दिल्ली हाईकोर्ट ने COVID19 मामलों की दुखद स्थिति, जिसमें COVID19 की मौत हो चुके लोगों के शवों को श्मशान के साथ-साथ शवदाह गृह द्वारा संभाला जा रहा है, इस बारे में लिए गए स्वत संज्ञान मामले पर दिल्ली सरकार को एक स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया है।

चीफ जस्टिस डीएन पटेल और जस्टिस संगीता ढींगरा सहगल की डिवीजन बेंच ने दिल्ली सरकार से 02 जून को उक्त स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने को कहा है।

न्यायमूर्ति राजीव सहाय एंडलॉ और न्यायमूर्ति आशा मेनन की खंडपीठ ने गुरुवार को एक अखबार की रिपोर्ट पर संज्ञान लिया था, जिसमें उन मामलों की दुखद स्थिति पर प्रकाश डाला गया है, जिनमें COIDID19 से मरने वालों के शव मोर्चरी के साथ साथ श्मशान द्वारा संभाले जा रहे हैं।

न्यायालय ने मुख्य न्यायाधीश के संज्ञान में कथित मानवाधिकार उल्लंघन को सार्वजनिक हित में पूर्वोक्त मामले को उठाने के लिए अपेक्षित निर्देश जारी करने के लिए आदेश पारित किया था।

आज दिल्ली सरकार ने अदालत को सूचित किया कि निम्न अपरिहार्य परिस्थितियों के कारण उक्त स्थिति उत्पन्न हुई:

1.शवों को संभालने की निगम बोध घाट की क्षमता कम हुई।

2.श्मशान में काम करने वालों ने COVID-19 से मरने वाले लोगों के शवों को संभालने से इनकार किया।

3.COVID-19 मामलों में दिल्ली में अचानक मरने वालों की संख्या बढ़ी।

4.बॉडी का दावा करने के लिए रिश्तेदार आदि ने आगे आने से इनकार किया।

दिल्ली सरकार ने अदालत को सूचित किया कि स्थिति से निपटने के लिए निम्नलिखित आवश्यक कदम उठाए गए हैं:

1. एलएनजेपी को पंचकुइयां और पंजाब बाग में शवदाहगारों के लिए शवों को डायवर्ट करने के लिए अधिकृत किया जा रहा है, जो निगम बोध घाट के सामने है।

2. सीएनजी भट्टियों के अलावा, अधिकृत लकड़ी और बिजली से पारंपरिक दाह संस्कार किए गए।

3. सभी वर्कर के साथ साथबॉडी के लिए पीपीई किट।

4.श्मशान में काम के घंटे का विस्तार सुबह 7 बजे से रात 10 बजे तक (9 बजे से शाम 4 बजे तक)।

अदालत को यह भी बताया गया कि 28 बॉडी का 28 मई को निस्तारण किया गया था, और कल (30 मई) तक शेष 35 बॉडी का निस्तारण कर दिया जाएगा। केवल उन बॉडी को वापस रखा जाएगा जिनका पीएम / जांच की जानी है।

अदालत ने जिस अखबार की रिपोर्ट का उल्लेख किया है वह निम्नलिखित है:

1. दिल्ली के लोक नायक अस्पताल के COVID-19 मोर्चरी के अंदर, 108 शव हैं; सभी 80 स्टोरेज रैक भरे हुए हैं और फर्श पर 28 शव हैं, जो एक दूसरे के ऊपर ढेर हैं।

2. लोक नायक अस्पताल COVID - 19 के लिए शहर का सबसे बड़ा समर्पित अस्पताल है और इसकी मोर्चरी में उन लोगों के शव रखे गए हैं जो कोरोना वायरस की बीमारी से मर गए थे या इसके कारण से उनकी मृत्यु होने की आशंका है।

3. 26.05.2020 को, आठ शवों को निगम बोध घाट, सीएनजी श्मशान से लौटा दिया गया क्योंकि वहां अधिक शवों को स्वीकार करने की स्थिति नहीं थी, क्योंकि छह भट्टियों में से केवल दो काम कर रही थीं।

4. पांच दिन पहले मरने वाले लोगों के शवों का अभी तक अंतिम संस्कार नहीं किया गया है।

6. शवों के निपटान में निगम बोध और पंजाबी बाग श्मशान में सीएनजी भट्टियों के खराब होने से बाधा आई।

7. सीएनजी भट्टियों के कार्य नहीं करने के कारण, लकड़ी आधारित दाह संस्कार, जिसे पहले सुरक्षित नहीं माना गया था, की अनुमति दी गई है; उसी की अनुमति के बावजूद, उक्त श्मशान का संचालन करने वाले कर्मचारी लकड़ी आधारित दाह संस्कार में भाग लेने से मना कर रहे हैं।

8. निगम बोध घाट पर काम कर रहे कर्मचारियों और पुजारियों ने काम करना बंद कर दिया है।

Next Story