Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

आपराधिक अवमानना - "महिला न्यायाधीशों के लिए बार सदस्यों की ओर से अधिक विचारशीलता और संवेदनशीलता की आवश्यकता": मध्य प्रदेश हाईकोर्ट

LiveLaw News Network
27 Oct 2021 7:21 AM GMT
आपराधिक अवमानना - महिला न्यायाधीशों के लिए बार सदस्यों की ओर से अधिक विचारशीलता और संवेदनशीलता की आवश्यकता: मध्य प्रदेश हाईकोर्ट
x

मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने हाल ही में एक महिला न्यायिक मजिस्ट्रेट की अध्यक्षता वाली अदालत द्वारा उसकी अदालत के समक्ष एक वकील के 'अवमाननापूर्ण आचरण' के संबंध में किए गए एक संदर्भ से निपटते हुए कहा कि एक महिला न्यायाधीश द्वारा किए गए मल्टीटास्किंग को देखते हुए बार सदस्यों की ओर से अधिक विचारशीलता और संवेदनशीलता की आवश्यकता है।

न्यायमूर्ति शील नागू और न्यायमूर्ति आनंद पाठक की बेंच ने कहा,

"बार सदस्यों से यह उम्मीद की जाती है कि वे एक महिला न्यायाधीश द्वारा अपने घर, परिवार के साथ-साथ कोर्ट के कार्य यानी मल्टीटास्किंग की सराहना करेंगे और इसलिए इस संबंध में अधिक विचारशीलता और संवेदनशीलता की आवश्यकता है।"

वर्तमान मामले में, एक वकील (प्रतिवादी), जो महिला मजिस्ट्रेट की कार्रवाई से क्रोधित हो गया और उसे अदालत कक्ष से बाहर जाने के लिए कहा ताकि मामले की कार्यवाही के दौरान आरोपी के बचाव के लिए गवाह के सामने प्रकट न किया जा सके, पीठासीन न्यायाधीश के खिलाफ धमकी भरा बयान दिया।

अवमानना करने वाले अधिवक्ता पंकज मिश्रा ने इस प्रकार टिप्पणी की,

"मुझे पंकज मिश्रा कहते हैं, मेरा नाम नोट कर लो। भविष्य में तुम्हारे लिए मुसीबत होगी, तुम ऐसा काम नहीं कर पाओगे।"

इसके बाद, अधिवक्ता के इस आचरण को अवमानना के रूप में जज ने न्यायालय की अवमानना अधिनियम, 1971 की धारा 15 (2) के तहत उच्च न्यायालय के समक्ष एक संदर्भ दिया।

उच्च न्यायालय की टिप्पणियां

कोर्ट ने शुरुआत में जोर देकर कहा कि लॉ एक महान पेशा है और बार और बेंच न्याय के रथ के दो पहिये हैं।

अदालत ने आगे कहा,

"बार और बेंच न्याय के लिए एक साझा मंच साझा करते हैं। अन्य सभी पेशे सेवा और अखंडता की भावना से निर्देशित होते हैं, लेकिन इस भावना के अलावा यह पेशा करुणा, दया और सबसे ऊपर सहानुभूति भी रखता है। इसलिए, यह पेशा ( बार और बेंच) जैसे चिकित्सा पेशे में उपचार करने का गौरव है और दोनों व्यवसायों की भूमिका अन्य व्यवसायों की तरह केवल सेवा करने तक ही सीमित नहीं है, बल्कि उनकी भूमिका बहुत आगे तक जाती है।"

इसके अलावा, यह रेखांकित करते हुए कि मजिस्ट्रियल अदालतें वह आधार हैं जिस पर भारतीय न्यायिक वास्तुकला का पूरा भवन खड़ा है, न्यायालय ने स्वीकार किया कि चूंकि मजिस्ट्रेट आमतौर पर युवा होते हैं और अनुभव प्राप्त करने की प्रक्रिया में होते हैं, इसलिए कभी-कभी कुछ सदस्यों द्वारा बार के एक विशेष तरीके से कार्य करने के लिए उन पर दबाव डाला जाता है।

कोर्ट ने कहा कि कभी-कभी, कुछ मजिस्ट्रेट तीखी प्रतिक्रिया करते हैं और कभी-कभी दोनों के बीच घर्षण दिखाई देता है। कोर्ट ने आगे कहा कि राज्य न्यायिक अकादमी को बार और बेंच के बीच विवाद समाधान के लिए ऐसे सत्र / चर्चा आयोजित करनी चाहिए।

कोर्ट ने आगे कहा,

"उस जिले के बार और/या बार एसोसिएशन के वरिष्ठ सदस्यों का यह कर्तव्य है कि वे बार के सदस्यों को पेशे से जुड़े बड़प्पन के बारे में मार्गदर्शन करें। दूसरी तरफ प्रधान जिला और सत्र न्यायाधीश और वरिष्ठ न्यायाधीशों से अपेक्षा की जाती है वे युवा न्यायाधीशों ने पेशे की बारीकियों और गरिमा के बारे में बताएं।"

अंत में, यह देखते हुए कि मामले को उच्च न्यायालय को सही ढंग से संदर्भित किया गया था और अवमानना करने वाले अधिवक्ता ने बिना शर्त माफी मांगी, अदालत ने उसे सुधार करने की सलाह दी और उस पर निम्नलिखित शर्तें लगाकर याचिका का निपटारा किया।

- वह भविष्य में किसी भी न्यायालय के किसी भी न्यायाधीश के साथ दुर्व्यवहार और दुराचार और किसी भी अवमानना कार्य में शामिल नहीं होगा और न्यायालय के अधिकार और महिमा को कम करने का प्रयास नहीं करेगा।

- यदि वृक्षारोपण के लिए स्थान उपलब्ध हो तो वह जिला न्यायालय परिसर में 20 पौधे रोपेगा और यदि नहीं तो इन पौधों को जिला प्रशासन द्वारा वृक्षारोपण के लिए निर्धारित किसी भी उपयुक्त स्थान पर लगाया जा सकता है और जब तक वे पूर्ण रूप से विकसित नहीं हो जाते तब तक उनकी देखभाल करेंगे।

- वह उपग्रह/जियो-टैगिंग के माध्यम से वृक्षारोपण की निगरानी के लिए उच्च न्यायालय के निर्देश पर तैयार किए गए मोबाइल एप्लिकेशन (एप) को डाउनलोड करके तस्वीरें प्रस्तुत करेगा।

अदालत ने याचिका का निपटारा करते हुए निष्कर्ष दिया कि यह उम्मीद की जाती है कि यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना जिला न्यायालय, दतिया में बार और बेंच के संबंधों पर कोई निशान नहीं छोड़ेगी और कार्यवाही से जुड़े व्यक्ति या तो न्यायाधीश और वकील के रूप में इस घटना से बेहतर व्यक्ति के रूप में सामने आएंगे और न्याय के लिए 'समाज के चिकित्सक' बनने का प्रयास करेंगे।

केस का शीर्षक - संदर्भ में मध्य प्रदेश राज्य बनाम पंकज मिश्रा

आदेश की कॉपी यहां पढ़ें:



Next Story