Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

मेडिक्लेम पॉलिसी के तहत बीमा कंपनी द्वारा दी गयी राशि मोटर दुर्घटना दावे के मुआवजे से कटौती योग्य: मद्रास हाईकोर्ट

LiveLaw News Network
25 May 2022 9:28 AM GMT
मेडिक्लेम पॉलिसी के तहत बीमा कंपनी द्वारा दी गयी राशि मोटर दुर्घटना दावे के मुआवजे से कटौती योग्य: मद्रास हाईकोर्ट
x

मद्रास हाईकोर्ट ने माना है कि मेडिकल खर्च के लिए मुआवजा प्रतिपूर्ति का मामला है और इसलिए एक बार बीमा कंपनी द्वारा सड़क दुर्घटना के शिकार व्यक्ति को मेडिकल खर्च के लिए क्षतिपूर्ति करने का निर्णय लेने के बाद, मोटर वाहन अधिनियम के तहत एक बार फिर से इसका दावा नहीं किया जा सकता है।

जस्टिस टीका रमन की पीठ ने इस प्रकार व्यवस्था दी कि चिकित्सा पॉलिसी कवरेज के तहत बीमा कंपनी द्वारा सीधे अस्पताल को भुगतान की गई राशि को मोटर दुर्घटना न्यायाधिकरण द्वारा घायलों को मुआवजे की गणना करते समय कम किया जाएगा।

यह आदेश बीमा कंपनी, टाटा एआईजी जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड द्वारा मोटर दुर्घटना दावा न्यायाधिकरण, करूर द्वारा चिकित्सा व्यय के रूप में 9,08,954 रुपये दिये जाने के फैसले के खिलाफ अपील पर दिया गया।

अपीलकर्ता ने दलील दी कि ट्रिब्यूनल ने फैसले में एक त्रुटि की है, क्योंकि इसने बीमा कंपनी द्वारा घायलों को मेडि-क्लेम पॉलिसी के तहत पुनर्निवेशित 4,00,000/- रुपये की राशि पर विचार नहीं किया था। इस प्रकार याचिकाकर्ता ने तर्क दिया कि अस्पताल को पहले ही राशि का भुगतान किया जा चुका है और इसे फिर से देने के लिए नहीं कहा जा सकता, क्योंकि यह दोहरा मुआवजा हो जाएगा।

अपीलकर्ता ने 'चोलामंडलम एमएस जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड बनाम ए सरवनन 2012 (1) टीएनएमएसी 606' में मद्रास उच्च न्यायालय के फैसले पर भरोसा जताया, जहां अदालत ने निम्नानुसार कहा था:

"... जहां तक एलआईसी पॉलिसी का संबंध है, पॉलिसीधारक परिपक्वता पर पूरे प्रीमियम के भुगतान का हकदार है या वारिस उसकी मृत्यु की स्थिति में भुगतान के हकदार हैं। जीवन बीमा पॉलिसी के तहत भुगतान चोट पर निर्भर नहीं करता है। दूसरी ओर, जहां तक मेडिक्लेम पॉलिसी का संबंध है, दावेदार को दुर्घटना में चोट लगने पर राशि देय होती है। इसलिए, दावेदार को लगी चोटों के लिए मुआवजे के तहत 'चिकित्सा उपचार' मद में मुआवजा नहीं दिया जा सकता है।"

इसके विपरीत, प्रतिवादियों ने 'नेशनल इंश्योरेंस कंपनी एलटीडी बनाम सी रमेश बाबू [2013 (2) टीएनएमएसी 636]' में अदालत के फैसले पर भरोसा जताया और दलील दी कि मेडि-क्लेम पॉलिसी कटौती योग्य नहीं है और मोटर वाहन अधिनियम के तहत मुआवजे के दावे के तहत दोबारा हासिल करने योग्य नहीं होता है।

कोर्ट ने अपीलकर्ताओं की दलीलों से सहमति जताई। कोर्ट ने 'यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड बनाम श्रीमती पेट्रीसिया जीन महाजन' मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर भी ध्यान दिया, जिसमें इसने निम्न प्रकार की व्यवस्था दी थी:

"24... यह स्पष्ट है कि मुआवजे की राशि से कटौती स्वीकार्य है यदि दावेदार को चोट लगने के परिणामस्वरूप लाभ प्राप्त होता है, अन्यथा वह हकदार नहीं होता। इसमें उन मामलों को शामिल नहीं किया जाता है जहां प्राप्त भुगतान किसी दुर्घटना के कारण लगी चोट पर निर्भर नहीं है।"

कोर्ट ने कहा कि मूल याचिकाकर्ता द्वारा अस्पताल को जो भुगतान नहीं किया गया है, उसे मोटर वाहन अधिनियम के तहत एक दावे में मुआवजे के रूप में नहीं दिया जा सकता है। इस प्रकार, कोर्ट ने बीमा कंपनी द्वारा पहले से भुगतान की गई राशि में कटौती की और अपीलकर्ता कंपनी को विकलांगता, दर्द और पीड़ा, आय की स्थायी विकलांगता हानि आदि के मुआवजे के साथ-साथ 7.5% प्रति वर्ष के ब्याज के साथ शेष राशि का भुगतान करने और इसे आठ सप्ताह के भीतर जमा करने का निर्देश दिया। यदि कंपनी ने पूरी राशि पहले ही जमा कर दी थी, तो कोर्ट ने ट्रिब्यूनल को निर्देश दिया कि वह कंपनी को जमा अतिरिक्त राशि आनुपातिक ब्याज के साथ वापस करे।

केस टाइटल : प्रबंधक, टाटा एआईजी जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड बनाम कथामुथु और अन्य

केस नंबर: सीएमए (एमडी) नंबर 729/2017

साइटेशन : 2022 लाइव लॉ (मद्रास) 223

अपीलकर्ता के लिए वकील: श्री जे.एस. मुरली

प्रतिवादी के लिए वकील: श्री आर सुरेश कुमार (आर 1)

जजमेंट की कॉपी डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story