Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 'राम वनगमन मार्ग' का निर्माण करने और ऐसे सभी स्थानों को जोड़ने की मांग वाली जनहित याचिका खारिज की जहां भगवान राम ने 'वन गमन' के दौरान रात में विश्राम किया था

Brij Nandan
19 May 2022 2:46 AM GMT
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने राम वनगमन मार्ग का निर्माण करने और ऐसे सभी स्थानों को जोड़ने की मांग वाली जनहित याचिका खारिज की जहां भगवान राम ने वन गमन के दौरान रात में विश्राम किया था
x

इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने हाल ही में एक जनहित याचिका (पीआईएल) खारिज कर दी, जिसमें राज्य सरकार को ऐतिहासिक साक्ष्य के अनुसार 'राम वनगमन मार्ग' का निर्माण करने और ऐसे सभी स्थानों को जोड़ने के लिए राज्य सरकार को निर्देश देने की मांग की गई थी जहां भगवान राम ने वन यात्रा (Ban Gaman) के दौरान रात में विश्राम किया था।

चीफ जस्टिस राजेश बिंदल और जस्टिस जे जे मुनीर की खंडपीठ ने कहा कि याचिकाकर्ता, एक राजनीतिक व्यक्ति द्वारा उठाए गए मुद्दे को रिट याचिका में तय नहीं किया जा सकता है। इसलिए कोर्ट ने याचिका खारिज कर दी।

राम वनगमन मार्ग के बारे में

यह व्यापक रूप से माना जाता है कि भगवान राम ने अयोध्या से श्रीलंका की अपनी 14 साल की यात्रा में 248 प्रमुख स्थानों पर रूके थे, जहां उन्होंने या तो विश्राम किया था या उनके साथ कुछ संबंध थे। आज इन स्थानों को राम की वन यात्रा (राम वनगमन पथ) के रूप में याद किया जाता है।

उत्तर प्रदेश राज्य में, भगवान राम की यात्रा राम जन्मभूमि अयोध्या से शुरू हुई और प्रतापगढ़, प्रयागराज, कौशाम्बी से होते हुए चित्रकूट तक गई। इस पथ को राम वनगमन पथ (राम वनगमन मार्ग) कहा जाता है। इसकी लंबाई करीब 177 किलोमीटर है।

उत्तर प्रदेश सरकार पहले ही राम वनगमन मार्ग को विकसित करने का निर्णय ले चुकी है, जिस पर 4000 करोड़ करोड़ रुपये से अधिक की लागत आई है। इस निर्णय के संबंध में याचिकाकर्ता (रजनीश कुमार पांडे) द्वारा वर्तमान जनहित याचिका दायर की गई थी।

जनहित याचिका में केंद्र और यूपी सरकारों को निम्नलिखित निर्देश देने की प्रार्थना की गई है;

- राम वनगमन मार्ग के इतिहास और साक्ष्य के अनुसार राम वनगमन मार्ग का निर्माण करना।

- रिकॉर्ड के साक्ष्य के अनुसार अखबार में प्रकाशित होने वाले मार्ग को संशोधित करना।

- यदि राम वनगमन मार्ग के हर जगह फोर लेन निर्माण संभव नहीं है तो प्राधिकरण संस्था राम वनगमन मार्ग के सभी स्थानों से राम वनगमन मार्ग का समुचित संपर्क मार्ग बनाती है।

- उन सभी स्थानों को जोड़ा जाए जहां भगवान राम ने वन यात्रा (वन गमन) के दौरान रात को विश्राम किया था।

- उचित कार्रवाई करना और भगवान राम वनगमन के मार्ग की अवज्ञा न करना और उन सभी स्थानों को जोड़ना जहां भगवान राम ने वन गमन के दौरान यात्रा की थी।

इस बात पर जोर देते हुए कि रिट याचिका किसी उल्टे मकसद से दायर की गई है, कोर्ट ने कहा कि राज्य ने विचाराधीन परियोजना को निष्पादित करने का निर्णय लेने से पहले पूरी तरह से शोध किया होगा और इसलिए, राम वन गमन मार्ग के संशोधन के लिए कोई निर्देश जारी नहीं किया जा सकता है।

तदनुसार याचिका खारिज कर दी गई।

केस टाइटल - रजनीश कुमार पांडे बनाम भारत संघ एंड अन्य [जनहित याचिका (पीआईएल) संख्या – 887 ऑफ 2022]

केस साइटेशन: 2022 लाइव लॉ 245

आदेश पढ़ने/डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें:




Next Story