Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

 " वो योद्धा हैं" : सुप्रीम कोर्ट ने COVID ​​-19 महामारी से लड़ने वाले स्वास्थ्य कर्मियों को सुरक्षा देने को कहा

LiveLaw News Network
8 April 2020 8:21 AM GMT
  वो योद्धा हैं : सुप्रीम कोर्ट ने COVID ​​-19 महामारी से लड़ने वाले स्वास्थ्य कर्मियों को सुरक्षा देने को कहा
x
'They Are Warriors' : SC Calls For Protection Of Health Workers Fighting COVID-19 Pandemic

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को कहा कि COVID ​​-19 महामारी से लड़ने वाले स्वास्थ्य कर्मी "योद्धा" हैं जिन्हें संरक्षित किया जाना चाहिए। जस्टिस अशोक भूषण ने कहा, "वे योद्धा हैं। उनकी रक्षा की जानी चाहिए।"

जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस रवींद्र भट की पीठ ने वैश्विक महामारी का मुकाबला कर रहे डॉक्टरों, पैरा मेडिकल स्टाफ और अन्य फ्रंटलाइन वर्कर्स को पर्याप्त संख्या में पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट ( PPE ), मास्क, सैनिटाइजर, और अन्य जरूरी सामग्री उपलब्ध कराने के निर्देश देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई की।

पीठ ने डॉ जेरीएल बनैत, डॉ आरुषि जैन और वकील अमित साहनी द्वारा दायर जनहित याचिकाओं को वीडियोकांफ्रेंसिंग के माध्यम से सुना।

पीठ ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से पूछा कि क्या केंद्र के लिए ऐसा तंत्र स्थापित करना संभव है, जिसमें बड़े पैमाने पर जनता से मिले सुझावों का केवल लॉकडाउन के लिए ही नहीं बल्कि चीजों की नियामक योजना में भी हिसाब लगाया जा सके।

सॉलिसिटर जनरल ने कहा,

"हमारे पास घर, स्वास्थ्य, आयुष मंत्रालयों के अधिकारियों वाला एक केंद्रीय नियंत्रण कक्ष है जो राज्य स्तर पर भी मौजूद हैं। इन नियंत्रण कक्षों से सुझाव और शिकायतें मिल रही हैं। नियंत्रण कक्ष इन मुद्दों को उठा रहे हैं।"

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने पीठ को आश्वासन दिया कि स्वास्थ्य कर्मचारियों और अन्य कर्मचारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी पर्याप्त उपाय किए जा रहे हैं। "वे कोरोना वॉरियर्स हैं, " सॉलिसिटर जनरल ने कहा।

वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि इस संकट के दौरान डॉक्टरों के वेतन में कटौती की जा रही है और कहा कि उनकी कड़ी मेहनत के बिना पूरी व्यवस्था ध्वस्त हो जाएगी।

वेतन कटौती के दावों को नकारते हुए सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि इस दौरान डॉक्टरों के वेतन में कटौती करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा,

"हमारे पास सभी अस्पतालों में पुलिस पिकेट्स हैं जो यह सुनिश्चित करते हैं कि संक्रमित लोग अन्य आबादी के साथ नहीं मिल रहे हैं और अस्पताल नहीं छोड़ रहे हैं। डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए पुलिस और सरकार अतिरिक्त मील चल रही है।"

वरिष्ठ वकील जयदीप गुप्ता ने प्रस्तुत किया कि " COVID​​-19 से लड़ने की राष्ट्रीय योजना को टुकड़ों में लेने के बजाय एक साथ लागू की जानी चाहिए।"

Next Story