Top
ताजा खबरें

जोधपुर NLU छात्र की संदिग्ध मौत: सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान पुलिस की क्लोजर रिपोर्ट को रद्द किया, नए सिरे से जांच करने का दिया आदेश

LiveLaw News Network
16 Sep 2020 6:21 AM GMT
जोधपुर NLU छात्र की संदिग्ध मौत:  सुप्रीम कोर्ट ने  राजस्थान पुलिस की क्लोजर रिपोर्ट को रद्द किया, नए सिरे से जांच करने का दिया आदेश
x

सुप्रीम कोर्ट ने जोधपुर स्थित नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी में तृतीय वर्ष के छात्र विक्रांत नगाइच की अगस्त 2017 में हुई रहस्यमय मौत के मामले की जांच राज्य पुलिस से केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) को स्थानांतरित करने की मांग करने वाली याचिका पर आदेश सुनाते हुए पुलिस को नए सिरे से मामले की जांच करने के निर्देश दिए हैं।

न्यायमूर्ति आरएफ नरीमन, न्यायमूर्ति नवीन सिन्हा और न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी की पीठ ने राजस्थान पुलिस द्वारा दाखिल क्लोजर रिपोर्ट को रद्द कर दिया है।

दरअसल 8 सितंबर को पीठ ने मामले को सुना और उसमें आदेश सुरक्षित रख लिया था। बेंच ने अंतिम रिपोर्ट दायर करके मामले को बंद करने के प्रयास के लिए राजस्थान राज्य की खिंचाई भी की थी।

सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान पुलिस को दो महीने में अपनी जांच पूरी करने के निर्देश दिए थे। न्यायमूर्ति आरएफ नरीमन की पीठ ने कहा था कि राज्य पुलिस इस मामले में दो महीने के भीतर जांच पूरी करे।

दरअसल 14 अगस्त, 2017 को विश्वविद्यालय के सामने रेलवे पटरियों के पास अप्राकृतिक परिस्थितियों में, अपने दोस्तों के साथ रात के खाने के लिए बाहर जाने से पहले, नागाइच को मृत पाया गया था। मृतक छात्र की मां, नीतू कुमार नगाइच द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि विश्वविद्यालय मृतक के माता-पिता को सूचित करने के लिए अनिच्छुक था, जब तक कि मृतक के दोस्तों के एक समूह ने उन्हें ऐसा करने के लिए मजबूर नहीं किया। इसके अलावा, जाहिर तौर पर मीडिया को बयान दिए गए थे, जिसमें दर्शाया गया था कि मृतक ने आत्महत्या कर ली क्योंकि वह अवसाद से पीड़ित था।

इसके अतिरिक्त, संदिग्धों को पकड़ने के लिए पुलिस द्वारा कोई प्रयास नहीं किए गए थे। 2019 में, एक विशेष जांच दल (SIT) के गठन की मांग करते हुए, याचिकाकर्ता-मां ने राजस्थान उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। हालांकि, इस वर्ष के फरवरी में, इस याचिका का निस्तारण इस दिशानिर्देश से किया गया था कि जांच अधिकारी इस मामले की गहन जांच कर सकता है।

न्यायमूर्ति आरएफ नरीमन, न्यायमूर्ति नवीन सिन्हा और न्यायमूर्ति बीआर गवई की पीठ ने 8 जून को पुलिस से केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) को जांच ट्रांसफर करने की मांग वाली याचिका पर नोटिस जारी किया था। अदालत ने कहा था कि उन्हें पहले यह पता लगाने के लिए राज्य पुलिस की सबसे पहले सुनवाई करनी है कि राज्य पुलिस ने छात्र की मौत पर 3 साल की अवधि में अपनी जांच में कोई प्रगति क्यों नहीं की। इसके बाद जांच के ट्रांसफर करने की याचिका पर विचार होगा।

छात्र की मां नीतू कुमार नगाइच की ओर से वकील सुनील फर्नांडीस इस मामले में उपस्थित हुए थे और एडवोकेट-ऑन-रिकॉर्ड आस्था शर्मा द्वारा ये याचिका दायर की गई।

याचिका में कहा गया,

"याचिकाकर्ता राज्य पुलिस द्वारा उसके इकलौते बेटे के दुर्भाग्यपूर्ण और असामयिक निधन के मामले में की गई जांच के तरीके से व्यथित है और यह जांच एक अक्षम्य और उचित आशंका की ओर ले जाती है कि इसमें कमी और लापरवाही और तत्काल एफआईआर का अभियोजन कुछ उच्च, शक्तिशाली और प्रभावशाली व्यक्ति (ओं) को बचाने के लिए संभावित मिलीभगत का परिणाम है।"

याचिका में आगे कहा गया कि न केवल राज्य जांच एजेंसियां ​​घटना को 10 महीने की अवधि तक प्राथमिकी दर्ज करने में विफल रहीं, बल्कि अंततः पीड़ित के माता-पिता के अथक प्रयासों के बाद केवल बेमन से यह किया गया था। दलीलों में यह भी आरोप लगाया गया कि 3 साल बीत जाने के बावजूद, कोई चार्जशीट दायर नहीं की गई है और "जांच एक स्थिर स्थिति में है, जिसमें अपराधियों को पकड़ने का कोई प्रयास नहीं किया गया है।"

जांच के प्रति दृष्टिकोण लचर है और प्रासंगिक संभावित गवाहों की जांच नहीं की गई है। गवाहों के बयानों का भी चयनात्मक प्रसंस्करण किया गया है, जो स्थानीय ग्रामीणों की रक्षा के लिए पूर्वाग्रह और दुर्भावनापूर्ण इरादे को दर्शाता है।

"याचिकाकर्ता को यह भी पता है कि जांच एजेंसी का ऐसा आचरण इस तथ्य के कारण हो सकता है कि मृतक राज्य का निवासी नहीं था, और वह एक छात्र था जो बाहर से आया था, और इसलिए, अपराधियों को पकड़ने के लिए उसकी मौत की जांच नहीं की जा रही है, जो उक्त क्षेत्र से स्थानीय हो सकते हैं।"

जांच एजेंसी मृतक के फोन रिकॉर्ड की जांच और विश्लेषण करने में आगे विफल रही है। न तो फेसबुक या गूगल से संपर्क किया गया है, और न ही मृतक के फोन से कोई डेटा पुनर्प्राप्त किया गया है ताकि उसके आवागमन का पता लगाने के लिए रात की घटनाओं का पता लगाया जा सके। मृतक के मोबाइल से पेटीएम लेनदेन भी नहीं किया गया है।

याचिकाकर्ता का तर्क है कि एजेंसी इस मौत की जांच में खामी छोड़ रही है और ये इसलिए है क्योंकि वो अपने शुरुआती निष्कर्ष से अलग हटने को अनिच्छुक है कि मृतक ने आत्महत्या की थी।

"... इस साल अगस्त में लगभग तीन साल हो जाने के बावजूद जांच पर कोई प्रगति के बिना, स्थानीय पुलिस और सीबी-सीआईडी ​​दोनों, इस मामले की परिश्रमपूर्वक जांच करने में विफल रहे हैं और अब तक की जांच में कोई नतीजा नहीं निकला है जो न केवल कर्तव्य परायणता में चूक है बल्कि दुर्भावना का भी प्रतीक हैं। "

उपरोक्त के प्रकाश में, याचिकाकर्ता ने अपराध की लंबित जांच अपराध शाखा - जयपुर से सीबीआई को ट्रांसफर करने की मांग की थी।

Next Story