Top
ताजा खबरें

ब्रेकिंग : केरल सरकार ने भारत सरकार के खिलाफ CAA को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में सूट दायर किया 

LiveLaw News Network
14 Jan 2020 4:50 AM GMT
ब्रेकिंग : केरल सरकार ने भारत सरकार के खिलाफ CAA को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में सूट दायर किया 

एक अभूतपूर्व कदम में एक राज्य सरकार ने एक केंद्रीय कानून को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में एक सूट दाखिल किया है।

केरल राज्य ने विवादास्पद नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 की वैधता को चुनौती देते हुए भारत के संविधान के अनुच्छेद 131 के तहत ये वाद दायर किया है।

सूट में पासपोर्ट (भारत में प्रवेश) संशोधन नियम 2015 और विदेशियों (संशोधन) आदेश 2015 को भी चुनौती दी गई है जिसने पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से उन गैर-मुस्लिम प्रवासियों के प्रवास को नियमित कर दिया है जो 31 दिसंबर, 2014 से पहले इस शर्त पर भारत में दाखिल हुए थे कि वे अपने घर में धार्मिक उत्पीड़न के चलते भाग आए थे।

भारत के कानून और न्याय मंत्रालय के सचिव और भारत सरकार को इस सूट में प्रतिवादी बनाया गया है।

दरअसल संविधान का अनुच्छेद 131 भारत सरकार और किसी भी राज्य के बीच किसी भी विवाद में सर्वोच्च न्यायालय को मूल अधिकार क्षेत्र देता है, जहां तक इस विवाद में "कोई प्रश्न (कानून या तथ्य का) शामिल है, जिस पर कानूनी अधिकार का अस्तित्व या सीमा निर्भर करती है।"

केरल ने इस सूट में CAA और पासपोर्ट (भारत में प्रवेश) नियम और विदेशियों के तहत लागू किए गए नोटिफिकेशन को "कानूनी विवाद" के रूप में घोषित किया है क्योंकि वे "प्रकट रूप से मनमाने और असंवैधानिक" हैं।

अनुच्छेद 131 के तहत मुकदमा बनाए रखने के लिए याचिका में कहा गया है:

"संविधान के अनुच्छेद 256 के जनादेश के अनुसार, ये संशोधन अधिनियम, अधिनियमित पासपोर्ट नियम संशोधन और प्रभावित विदेशी आदेश संशोधन के प्रावधानों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए वादी राज्य को बाध्य बनाएगा जो स्पष्ट रूप से मनमाना, अनुचित अनुच्छेद 14, 21 और 25 के तहत मौलिक अधिकारों का उल्लंघन और तर्कहीन है।

इस प्रकार, वादी केरल राज्य और प्रतिवादी भारत संघ के बीच एक विवाद मौजूद है, जिसमें कानून और तथ्य के प्रश्न शामिल हैं, एक राज्य के रूप में कानूनी अधिकारों के प्रवर्तन के बारे में और केरल राज्य के निवासियों के मौलिक, वैधानिक, संवैधानिक और अन्य कानूनी अधिकारों के प्रवर्तन के तौर पर।

इसलिए संविधान के अनुच्छेद 131 के तहत यह सूट दायर किया जा रहा है।"

सूट में यह घोषित करने का अनुरोध किया गया है कि CAA संविधान के अनुच्छेद 14, 21 और 25 का उल्लंघन है और साथ ही संविधान में निहित धर्मनिरपेक्षता के मूल संरचना सिद्धांत का उल्लंघन है।

इसमें CAA , पासपोर्ट (भारत में प्रवेश) संशोधन नियम 2015, और विदेशियों (संशोधन) आदेश 2015 को संविधान के तहत शून्य घोषित करने की मांग भी की गई है।

यह सूट CAA को उसी तरह के आधार पर चुनौती देता है जैसे कि सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई विभिन्न अन्य याचिकाओं में कहा गया है कि संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन करते हुए इस कानून के जरिए संरक्षण से प्रवासियों का धर्म आधारित बहिष्कार किया जाएगा। यह तर्क दिया गया है कि CAA में प्रवासियों और देशों का वर्गीकरण किसी भी "समझदार भिन्नता" पर आधारित नहीं है और इसका अधिनियम के उद्देश्य के साथ कोई "तर्कसंगत संबंध" नहीं है। इसलिए वर्गीकरण को अनुचित और भेदभावपूर्ण बताया गया है। यह भी आग्रह किया गया है कि यह अधिनियम भारतीय संविधान के धर्मनिरपेक्ष चरित्र का उल्लंघन करके नागरिकता को धर्म से जोड़ता है।

गौरतलब है कि केरल विधायिका ने 31 दिसंबर को CAA के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित किया था। केरल सरकार ने राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के संबंध में प्रारंभिक कार्यों पर भी रोक लगा दी है, जिसे NRC का पहला कदम माना जाता है।

Next Story