Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

कुछ लोग मानवाधिकारों के नाम पर देश की छवि को नुकसान पहुंचा रहे हैं: पीएम नरेंद्र मोदी

LiveLaw News Network
12 Oct 2021 11:42 AM GMT
कुछ लोग मानवाधिकारों के नाम पर देश की छवि को नुकसान पहुंचा रहे हैं: पीएम नरेंद्र मोदी
x

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग(NHRC) के 28वें स्थापना दिवस कार्यक्रम में कहा कि कुछ चुनिंदा लोग अपने रवैये से मानवाधिकार के नाम पर देश की छवि को नुकसान पहुंचा रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा,

"हाल ही में कुछ लोगों ने अपने स्वार्थ के लिए मानवाधिकारों की व्याख्या अपने दृष्टिकोण से करना शुरू कर दिया है। उल्लंघन को एक स्थिति में देखने की प्रवृत्ति ने समान स्थिति में नहीं बल्कि मानवाधिकारों को काफी हद तक नुकसान पहुंचाया है। सबसे बड़ा मानवाधिकारों का उल्लंघन तब होता है जब उन्हें राजनीति और राजनीतिक लाभ और हानि के चश्मे से देखा जाता है। यह चयनात्मक व्यवहार हमारे लोकतंत्र के लिए हानिकारक है।"

पीएम मोदी ने आगे कहा कि अपने चयनात्मक दृष्टिकोण के साथ कुछ लोग हैं जो मानवाधिकार की रक्षा के नाम पर देश की छवि को नुकसान पहुंचाते हैं। हमें उनसे सावधान रहने की जरूरत है।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि यह समझना जरूरी है कि मानवाधिकार केवल अधिकारों से नहीं जुड़ा है, बल्कि यह हमारे कर्तव्यों का भी विषय है।

यह रेखांकित करते हुए कि अधिकार और कर्तव्य दो रास्ते हैं जिन पर मानव विकास और मानव गरिमा की यात्रा होती है, उन्होंने जोर देकर कहा कि कर्तव्य भी अधिकारों के समान ही महत्वपूर्ण हैं और अलग-अलग करके नहीं देखा जाना चाहिए क्योंकि वे एक दूसरे के पूरक हैं।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि भारत का स्वतंत्रता आंदोलन और उसका इतिहास भारत के लिए मानवाधिकारों और मानवाधिकारों के मूल्यों के लिए प्रेरणा का एक बड़ा स्रोत रहा है।

प्रधानमंत्री ने महात्मा गांधी को याद करते हुए कहा,

"एक राष्ट्र के रूप में, एक समाज के रूप में हमने अन्याय-अत्याचार का विरोध किया, हमने सदियों तक अपने अधिकारों के लिए संघर्ष किया। ऐसे समय में जब पूरी दुनिया प्रथम विश्व युद्ध की हिंसा में घिरी हुई थी, भारत ने पूरी दुनिया को अधिकार और अहिंसा का मार्ग सुझाया। न केवल भारत बल्कि पूरी दुनिया हमारे बापू को मानवाधिकारों और मानवीय मूल्यों के प्रतीक के रूप में देखती है।"

पीएम मोदी ने जोर देकर कहा कि मानवाधिकारों की अवधारणा का गरीबों की गरिमा से गहरा संबंध है और इस संबंध में उन्होंने गरीबों की गरिमा सुनिश्चित करने के लिए सरकार के प्रयासों को गिनाया।

उन्होंने कहा कि जब एक गरीब व्यक्ति को खुले में शौच से मुक्ति दिलाने के लिए शौचालय बनाया जाता है, तो उसे सम्मान मिलता है। इसी तरह एक गरीब व्यक्ति को जो बैंक में प्रवेश करने से हिचकिचाता है, उसे जन धन खाता मिलता है, जिससे गरिमा सुनिश्चित होती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश ने विभिन्न वर्गों में विभिन्न स्तरों पर हो रहे अन्याय को दूर करने का भी प्रयास किया है।

प्रधानमंत्री ने कहा,

"दशकों से मुस्लिम महिलाएं तीन तलाक के खिलाफ कानून की मांग कर रही थीं। हमने तीन तलाक के खिलाफ कानून बनाकर मुस्लिम महिलाओं को नए अधिकार दिए हैं।"

उन्होंने यह भी कहा कि भारत ने नौकरी करने वाली महिलाओं के लिए 26 सप्ताह का सवैतनिक मातृत्व अवकाश सुनिश्चित किया। यह एक ऐसी उपलब्धि है जिसे कई विकसित देश भी हासिल नहीं कर सके।

इस तरह प्रधान मंत्री ने ट्रांस-जेंडर, बच्चों और खानाबदोश और अर्ध-घुमंतू समुदायों के लिए सरकार द्वारा किए गए उपायों के बारे में बताया।

प्रधान मंत्री ने भावी पीढ़ियों के मानवाधिकारों का उल्लेख करते हुए समापन किया। उन्होंने जोर देकर कहा कि अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन, नवीकरणीय ऊर्जा लक्ष्यों और हाइड्रोजन मिशन जैसे उपायों के साथ भारत सतत जीवन और पर्यावरण के अनुकूल विकास की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है।

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) के अध्यक्ष न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा ने कहा कि भारत पर बाहरी ताकतों के इशारे पर मानवाधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाने का एक नया नियम बन गया है।

आगे कहा कि भारत सर्व धर्म सम भव में विश्वास रखता है [सभी धर्म समान हैं या सभी रास्ते एक ही गंतव्य की ओर ले जाते हैं।]

जस्टिस मिश्रा ने कहा,

"सामाजिक सक्रियता संस्थानों और मानवाधिकार रक्षकों को आतंकवाद और राजनीतिक हिंसा की कड़ी निंदा करनी चाहिए। (उनकी) इसके प्रति उदासीनता कट्टरवाद को जन्म देती है। इतिहास हमें इसके लिए कभी नहीं भूलेगा। हिंसा के खिलाफ आवाज उठाने का समय आ गया है। यह भारत पर बाहरी ताकतों के इशारे पर मानवाधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाने का एक नया मानदंड बन गया है। परंपराओं और भाषाओं को खत्म करने के प्रयासों का कड़ा विरोध करना आवश्यक है।"

Next Story