Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

'दूरसंचार मंत्री से अनुरोध किया कि वे दूरसंचार कंपनियों को ग्रामीण क्षेत्रों में वकीलों को निर्बाध इंटरनेट सुविधा प्रदान करने के लिए कहें': सीजेआई एनवी रमाना

LiveLaw News Network
26 Jun 2021 10:00 AM GMT
दूरसंचार मंत्री से अनुरोध किया कि वे दूरसंचार कंपनियों को ग्रामीण क्षेत्रों में वकीलों को निर्बाध इंटरनेट सुविधा प्रदान करने के लिए कहें: सीजेआई एनवी रमाना
x

भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमाना ने शनिवार को कहा कि उन्होंने दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद से अनुरोध किया है कि वे दूरसंचार कंपनियों को ग्रामीण क्षेत्रों में वकीलों को निर्बाध इंटरनेट सुविधा प्रदान करने के लिए कहें ताकि वे अदालतों को संबोधित कर सकें।

सीजेआई रमाना के अनुसार विशेष रूप से इंटरनेट के संबंध में तालुका और जिला केंद्रों में कुछ सुविधाएं प्रदान की जा सकती हैं, ताकि वकील वहां जा सकें और सिस्टम का उपयोग कर सकें।

सीजेआई ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि इस मामले को उठाया जाएगा और उनके अनुरोध पर विचार किया जाएगा, अगर ऐसा नहीं होता है तो वह खुद टेलीकॉम कंपनियों से अनुरोध करेंगे।

सीजेआई के अनुसार अनुरोध उच्च न्यायालयों के सभी मुख्य न्यायाधीशों के साथ उनकी हालिया वर्चुअल बातचीत के अनुसार लगातार दो दिनों तक किया गया, जहां विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में कनेक्टिविटी मुद्दे के बारे में सुझाव दिए। उन्होंने कहा कि मुख्य न्यायाधीशों ने वकील, न्यायाधीशों, कोर्ट स्टाफ और उनके परिवारों के टीकाकरण के लिए भी सुझाव दिए।

सीजेआई ने कहा कि,

"शुरुआत में मैंने इन दूरसंचार कंपनियों को कॉल करने और ग्रामीण क्षेत्रों में इन प्रणालियों को बढ़ावा देने और ग्रामीण वकीलों को अदालतों को संबोधित करने के लिए विशेष रूप से सुविधाएं प्रदान करने के लिए कुछ केंद्र प्रदान करने का अनुरोध किया।"

सीजेआई रमाना ने कहा कि,

"लेकिन मेरे बजाय मैंने दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद से इन दूरसंचार कंपनियों को बुलाने का अनुरोध किया। वे तालुका और जिला केंद्रों में कुछ सुविधाएं प्रदान कर सकते हैं विशेष रूप से निर्बाध इंटरनेट, ताकि वकील वहां आ सकें और वे सिस्टम का उपयोग कर सकें । मुझे आशा है कि वे इस मामले को उठाएंगे अन्यथा मैं खुद दूरसंचार कंपनियों से अनुरोध करूंगा।"

सीजेआई रमाना ने विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में मौजूद डिजिटल डिवाइड पर जोर देते हुए ने कहा कि अगर तकनीक की सुविधा वकीलों को नहीं दी जाएंगी तो वे सिस्टम से बाहर हो जाएंगे।

सीजेआई ने कहा कि,

"यदि आप इन वकीलों की देखभाल नहीं करते हैं जिनके पास तकनीक की ये सुविधाएं नहीं हैं, तो ग्रामीण क्षेत्रों के वकील सिस्टम से बाहर हो जाएंगे क्योंकि वे बर्दाश्त नहीं कर सकते, उन्हें ब्रीफ नहीं मिल रहा है, उन्हें धन नहीं मिल रहा है, और इसके अलावा उनके पास तकनीक का लाभ नहीं है। इसलिए आप इन वकीलों को पूरी तरह से सिस्टम से बाहर कर रहे हैं जो बहुत खतरनाक है।"

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस आरवी रवींद्रन की किताब 'एनोमलीज इन लॉ एंड जस्टिस (Anomalies in Law & Justice)' के विमोचन के मौके पर आयोजित पैनल चर्चा के दौरान सीजेआई ने यह टिप्पणी की।

पैनल चर्चा में पूर्व सीजेआई के जस्टिस एमएन वेंकटचलैया और जस्टिस आरसी लाहोटी और सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस बीएन श्रीकृष्ण और जस्टिस रवींद्रन जैसे पैनलिस्ट मौजूद थे।

सीजेआई रमाना पैनल चर्चा में उपस्थित होने के बावजूद स्वयं कुछ भी व्यक्त करने से बचते रहे।

सीजेआई रमना ने कहा कि,

"मैं पूरी चर्चा में उपस्थित हूं, देख और सुन रहा हूं, लेकिन मैं कुछ भी व्यक्त नहीं करना चाहता। मैं आपके सभी विचारों को सुनूंगा और नोट करूंगा। इस तरह के दिग्गजों का यहां होना एक बहुत ही शुभ अवसर है। सभी महान लोग हैं मुझे आप सबकी बात सुननी चाहिए।"

सीजेआई रमाना ने वर्चुअल सुनवाई की प्रासंगिकता और निरंतर हाइब्रिड सुनवाई के दायरे के बारे में चर्चा के दौरान पैनल को यह भी बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने महामारी के दौरान 92,312 मामलों की सुनवाई की।

सीजेआई ने कहा कि,

"मैं कहना चाहता हूं, जानकारी के लिए, मेरे महासचिव ने यह जानकारी दी है कि इस महामारी के दौरन औसतन 11 बेंचों ने सुनवाई के 287 दिनों तक काम किया है और 92,312 मामलों की सुनवाई की।"

सीजेआई रमाना ने न्यायमूर्ति रवींद्रन की पुस्तक के संबंध में ने कहा कि पुस्तक का शीर्षक आम आदमी को यह समझाने का एक प्रयास है कि कानून और कानूनी प्रणाली अभी भी विकसित हो रही है और इसे उन मुद्दों को हल करने के लिए और अधिक महत्वपूर्ण सोच की आवश्यकता है जो एक लंबे समय तक के लिए सिस्टम में बने रहे हैं।

उन्होंने कहा कि इस पुस्तक के माध्यम से न्यायमूर्ति रवींद्रन कानून की विभिन्न कमियों को सरल शब्दों में समझाने की कोशिश कर रहे हैं, जिन्हें दूर करने की आवश्यकता है ताकि आम आदमी का न्यायपालिका और कानूनी व्यवस्था में विश्वास बना रहे।

सीजेआई रमाना ने अपने संबोधन के दौरान यह भी कहा कि आज मैं भारत के न्याय क्षेत्र के महान लोगों के बीच उपस्थिति हूं। मुझे इनका आशीर्वाद प्राप्त हुआ। न्यायमूर्ति वेंकटचलैया मेरे छात्र दिनों से ही मेरे आदर्श रहे हैं और आज भी मेरे आदर्श हैं। मैं मंच पर बोलने से नहीं डरता हूं लेकिन आज कुछ अलग है। इन दिग्गजों के सामने मुझे बोलने का मौका मिला, यह मेरे लिए बेहद खुशी की बात है।

Next Story