Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

भारत में मानवाधिकारों का संरक्षण अदालत तक सीमित नहीं : जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़

LiveLaw News Network
12 Dec 2019 8:36 AM GMT
भारत में मानवाधिकारों का संरक्षण अदालत तक सीमित नहीं  : जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़
x

सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ ने अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संस्थान द्वारा मानवाधिकार दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में कहा है किः

"मानवाधिकारों की अवधारणा कई वर्षों में विकसित हुई है, जो धीरे-धीरे व्यक्ति और राज्य के अपसी संबंधों को पुनर्परिभाषित करती है। कानूनी रूप से बाध्य मानव अधिकारों को अपनाने के बाद मानव इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ आता है। वे अधिकार और दंडाभाव की संस्कृति की अस्वीकृति का प्रतिनिधित्व करते हैं और इसके बजाय स्वतंत्र और आत्मनिर्भर समाजों में गरिमा के साथ जीने की हमारी क्षमता पर रोशनी डालते हैं।"

उन्होंने कहा कि नागरिक और राजनीतिक अधिकारों का हमारा वर्तमान प्रतिमान उत्पीड़न और अत्याचार के खिलाफ एक महत्वपूर्ण बाधा के रूप में कार्य करता है।

"ये यात्रा 13 वीं शताब्दी में मैग्ना कार्टा की स्व‌ीकृति साथ शुरु होती है, जिसने इस सिद्धांत को मान्यता दी थी कि राजशाही की भी सीमाएं हैं, और निश्चित स्वतंत्रता की कानून द्वारा गारंटी दी जानी चाहिए। मैग्ना कार्टा में कहा गया: 'किसी भी स्वतंत्र व्यक्ति को जब्त, गिरफ्तार तितर-बितर या गैरकानूनी नहीं ठहराया जाएगा या किसी भी तरह से उसे नष्ट नहीं किया जाएगा, अपने साथियों के कानूनी फैसले या भूमि के कानूनों को छोड़कर, न ही हम उसकी निंदा करेंगे, न ही हम उसे जेल में डालेंगे।' इस खंड की व्याख्या जूरी द्वारा ट्रायल का अधिकार प्रदान करने और नियत प्रक्रिया के अधिकार के रूप में की गई है। सबसे महत्वपूर्ण रूप यह कि यह राज्य की पूर्ण अधिकारवादी प्र‌वृत्त‌ि, राजशाही, अपने नागरिकों के खिलाफ अभद्रता के साथ कार्रवाई करने जैसी प्रवृत्त‌ि पर नियंत्रण लगाता है।"


जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि भारत में न्यायपालिका द्वारा मानवाधिकार संरक्षण का इतिहास संविधान के अनुच्छेद 21 और सर्वोच्च न्यायालय द्वारा इसकी व्याख्या के आसपास केंद्रित है और हमारी अदालत ने वर्षों से आर्थिक और सामाजिक अधिकारों को मान्यता दी है जैसे कि आश्रय का अधिकार, अधिकार गोपनीयता, स्वास्थ्य और चिकित्सा देखभाल का अधिकार और जीवन के अधिकार का एक घटक होने के नाते प्रदूषण मुक्त वातावरण में जीने का अधिकार।

उन्होंने आगे कहा,

"इन अधिकारों का दायरा भी धीरे-धीरे वर्षों में विस्तारित हुआ है, जो अक्सर अंतरराष्ट्रीय संधियों और उपकरणों पर निर्भर करता है। केएस पुत्तुस्वामी बनाम भारत संघ के मामले में सर्वोच्च न्यायालय ने निजता के अधिकार को संवैधानिक रूप से संरक्षित अधिकार घोषित किया, जिसमें नागरिक और राजनीतिक अधिकारों पर अंतरराष्ट्रीय समझौते, मानवाधिकार पर यूडीएचआर और यूरोपीय सम्मेलन का उल्लेख है। इसी तरह कॉमन कॉज बनाम भारत संघ में, अदालत ने अनुच्छेद 21 के तहत गरिमा के साथ मरने के अधिकार को मान्यता दी। "

उन्होंने कहा कि सूचना का अधिकार कानून के संचालन , जिसमें नागरिक, निर्वाचित प्रतिनिधि और अदालत सभी मिलकर मानवाधिकारों की सुरक्षा के लिए काम करते हैं, का हवाला देते हुए कहा कि भारत में मानवाधिकारों का संरक्षण अदालत तक सीमित नहीं रहा है।

उन्होंने कहा कि संविधान का मसौदा तैयार करने के समय, निर्माणकर्ता इस बात के प्रति सचेत थे कि भाग III में संविधान द्वारा गारंटीकृत नागरिक और राजनीतिक अधिकारों कई तरीकों में से केवल एक हो, जिसके जरिए संविधान ने व्यक्ति की रक्षा की गई है। उन्होंने डॉ अंबेडकर के हवाले से कहा:

"उन लोगों से पूछें, जो बेरोजगार हैं, जिन्हें मौलिक अधिकार कहा जाता है, उसका उनके लिए कोई मूल्य नहीं है। यदि कोई व्यक्ति जो बेरोजगार है, उसे नौकरी और अभिव्यक्ति, संघ, धर्म आदी की आजादी के बीच चुनाव का विकल्प दिया जाता है तो उसकी पसंद क्या होगी, इसमें कोई शक है?

उन्होंने कहा, आज हमारे मानवाधिकार विमर्श को अक्सर राज्य से स्वतंत्रता होने और एक विशेष तरीके से कार्य करने की स्वतंत्रता से जोड़ दिया जाता है। हालांकि, नीति निर्देशक सिद्धांतों में स्वतंत्रता की एक अधिक विस्तृत परिभाषा की ओर संकेत किया गया है, जो संपूर्ण मानव अधिकारों के शासन का वास्तविक लक्ष्य है।

पूरा भाषण यहां पढ़ें



Next Story