Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

'प्रैक्टिसिंग एडवोकेट एक कॉर्पोरेट लॉयर की तुलना में समाज के एक व्यापक हिस्‍से के साथ संवाद करता है': सीजेआई रमाना ने एनएलयू के छात्रों को प्रैक्टिस करने के लिए प्रोत्साहित किया

LiveLaw News Network
10 Dec 2021 6:53 AM GMT
प्रैक्टिसिंग एडवोकेट एक कॉर्पोरेट लॉयर की तुलना में समाज के एक व्यापक हिस्‍से के साथ संवाद करता है: सीजेआई रमाना ने एनएलयू के छात्रों को प्रैक्टिस करने के लिए प्रोत्साहित किया
x

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एनवी रमाना ने गुरुवार को कहा कि नेशनल लॉ यूनिवर्सिटीज़ को एलीट माना जाता है, और सामाजिक य‌था‌र्थ से अलगथलग माना जाता है क्योंकि इन विश्वविद्यालयों के अधिकांश छात्र कोर्ट में प्रैक्टिस करने के बजाय कॉर्पोरेट कानून फर्मों से जुड़ते हैं।

वह नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के 8वें दीक्षांत समारोह में को संबोध‌ित कर रहे थे। कार्यक्रम में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और दिल्ली हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डीएन पटेल भी मौजूद थे।

सीजेआई रमाना ने अपने संबोधन में कहा,

"नेशनल लॉ यूनिव‌र्सिटीज़ की बात करते हुए, मैंने सोचा कि कुछ ऐसा बताना प्रासंगिक होगा, जो मुझे थोड़ा परेशान करने वाला लगता है। देश में नेशनल लॉ यूनिव‌र्सिटीज़ की स्थापना के पीछे प्राथमिक उद्देश्य देश में कानूनी शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करना था ताकि बेहतर प्रशिक्षित कानूनी पेशेवर तैयार हो सकें। हालांकि, यह निर्धारित करने के लिए कोई आधिकारिक अध्ययन नहीं किया गया है कि क्या ऐसा हुआ है। इसके अतिरिक्त, विभिन्न कारणों से इन विश्वविद्यालयों के अधिकांश छात्र कॉर्पोरेट कानून फर्मों से जुड़ जाते हैं।

भले ही ऐसी कानून फर्म देश के कानूनी परिदृश्य का एक अभिन्न अंग हैं देश के परिदृश्य में, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि नेशनल लॉ यूनिवर्सिटीज़ से कोर्ट में प्रैक्टिस करने वालों वकीलों की रैंक में तुलनीय वृद्धि नहीं हो रही है। यह शायद एक कारण है कि नेशनल लॉ यूनिव‌र्सिटीज़ को एलीट के रूप में माना जाता है और सामाजिक यथार्थ से अलगथलग माना जाता है।"

सीजेआई ने यह भी कहा कि छात्रों के पेशेवर विश्वविद्यालयों में प्रवेश करने के बाद भी, क्लासरूम लर्निंग पर ध्यान केंद्रित किया जाता है, न कि क्लास से परे की दुनिया पर। उन्होंने यह भी कहा कि आजकल व्यावसायिक पाठ्यक्रमों पर ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है, जबकि मानविकी और नेचुरल साइंस जैसे महत्वपूर्ण विषयों को उपेक्षित किया जा रहा है।

सामाजिक परिवर्तन ने राजनीतिक रूप से जागरूक छात्रों को जन्म दिया है, जिन्होंने मौजूदा असमानताओं के खिलाफ आवाज उठाई है।

सीजेआई ने राष्ट्र निर्माण में छात्र समुदाय के महत्व पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि अधिकांश सामाजिक परिवर्तन और क्रांतियां राजनीतिक रूप से जागरूक छात्रों द्वारा लाई गई हैं, जिन्होंने सामाजिक असमानताओं के खिलाफ आवाज उठाई है। उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के एक उद्धरण का उल्लेख किया, जिन्होंने कहा था, "युवा परिवर्तन के एजेंट हैं"।

सामाजिक कार्यों में छात्रों की घटती भागीदारी

सीजेआई ने इस बात पर भी जोर दिया कि पिछले कुछ दशकों में छात्र समुदाय से कोई बड़ा नेता नहीं निकला है। इसका कारण उदारीकरण के बाद सामाजिक कार्यों में छात्रों की कम भागीदारी को माना जा सकता है।

उन्होंने कहा, "छात्र सभी उचित कारणों से लड़ने के लिए अपनी तत्परता के लिए जाने जाते हैं क्योंकि उनके विचार शुद्ध और ईमानदार होते हैं। वे हमेशा सबसे आगे रहते हैं, अन्याय पर सवाल उठाते हैं.. आधुनिक लोकतंत्र में छात्रों की भागीदारी के महत्व को कम नहीं किया जा सकता है।"

उन्होंने आगे कहा कि छात्र स्वतंत्रता, न्याय, समानता, नैतिकता और सामाजिक संतुलन के संरक्षक हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षित युवा सामाजिक यथार्थ से अलग रहने का जोखिम नहीं उठा सकते।

विश्वविद्यालय के ल‌िए आवश्यक आयु वर्ग के लगभग 27% छात्र ही विश्वविद्यालय शिक्षा के लिए नामांकन कर रहे हैं

सीजेआई ने आगे कहा कि हमारी लगभग एक चौथाई आबादी के पास अभी भी बुनियादी शिक्षा तक पहुंच नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि विश्वविद्यालय के लिए आवश्यक आयु वर्ग के लगभग 27% छात्र ही विश्वविद्यालय शिक्षा के लिए नामांकन कर रहे हैं। उन्होंने स्नातक करने वाले छात्रों को उनके विशेषाधिकार की याद दिलाई।

उन्होंने कहा, "जबकि आप में से अधिकांश इन संस्थानों को डिग्री और उपाधियों के साथ छोड़ देते हैं, हमेशा इस दुनिया से अवगत रहें कि आप इसका हिस्सा हैं। आप आत्म-केंद्रित नहीं रह सकते हैं। संकीर्ण और पक्षपातपूर्ण मुद्दों को देश की विचार प्रक्रिया पर हावी न होने दें। यह अंततः हमारे लोकतंत्र और हमारे देश की प्रगति को चोट पहुंचाएगा।"

कोर्ट रूम की वकालत को समृद्ध करना समय की मांग है

उन्होंने आगे कहा कि प्रैक्टिस करने वाले वकील कॉरपोरेट लॉ फर्म में काम करने वाले वकील की तुलना में समाज के एक व्यापक हिस्से के साथ बातचीत करते हैं। उन्होंने आगे इस बात पर प्रकाश डाला कि कोर्ट रूम वकालत का संवर्धन समय की आवश्यकता है और इस प्रकार स्नातक छात्रों से प्रैक्टिस में शामिल होने का आग्रह किया।

सुविधा का जीवन चुनना गलत नहीं है, लेकिन आशा है कि आप सेवा का जीवन चुनेंगे

सीजेआई रमाना ने आगे कहा कि वकील सामाजिक-आर्थिक और राजनीतिक यथार्थ से अनभ‌िज्ञ होने का जोखिम नहीं उठा सकते। इस प्रकार उन्होंने राष्ट्र के सामाजिक संवर्धन विकास में योगदान के महत्व को रेखांकित किया और छात्रों को समाज में व्याप्त असमानताओं के बारे में जागरूक होने के लिए प्रोत्साहित किया।

कानूनी पेशा लाभ अधिकतम करने के बारे में नहीं है

सीजेआई ने आगे कहा कि कानूनी पेशे में शामिल होने के पीछे का इरादा मौद्रिक विचारों पर आधारित नहीं होना चाहिए। सीजेआई ने कहा, "यह आपके मुवक्किल की सेवा में है। अदालत और कानून के प्रति अपने कर्तव्य को याद रखें। अपने पवित्र कार्य को पूरी ईमानदारी और सम्मान के साथ करें।"

अपर्याप्त आधारभूत संरचना, शौचालय का अभाव, टूटी कुर्सियां कोर्ट रूम में एक आम दृश्य

मुख्य न्यायाधीश ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि देश में अदालतों में बुनियादी ढांचे की कमी है और वे फिल्मों और मूट कोर्ट जैसी नहीं है। उन्होंने छात्रों को आगाह किया कि वे अपने कॉलेज के खूबसूरत परिसर के बाहर के हालात देखकर चौंकें नहीं।

अपने सिद्धांतों से कभी समझौता न करें, संविधान की रक्षा का गंभीर कर्तव्य

छात्रों से अपने सिद्धांतों से कभी समझौता नहीं करने का आग्रह करते हुए, सीजेआई ने कहा कि कानूनी पेशे में हर कोई संविधान के प्रति निष्ठा रखता है। इस प्रकार, उन्होंने छात्रों को यह सुनिश्चित करने के लिए प्रोत्साहित किया कि न्यायपालिका की स्वतंत्रता हर समय बनी रहे।


Next Story