Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

लॉकडाउन अवधि में स्कूल फीस में अधिकतम राहत देने के मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका

LiveLaw News Network
2 July 2020 11:04 AM GMT
लॉकडाउन अवधि में स्कूल फीस में अधिकतम राहत देने के मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका
x

राष्ट्रीय लॉकडाउन की अवधि में स्कूल फीस में "अधिकतम अधिकतम राहत" की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई है।

याचिकाकर्ता, अधिवक्ता रिपक कंसल ने अदालत से गुहार लगाई है कि बिना कोई सेवा दिए स्कूलों का शुल्क और खर्चों की मांग करना "अवैध" है।

यह कहा गया कि स्कूल प्रवेश फॉर्म (अनुबंध) में कोई फोर्स मेजर क्लॉज नहीं है और स्कूल नियमों और शर्तों से बाध्य है, जो एडमिशन फॉर्म में उल्लिखित हैं।

याचिकाकर्ता ने उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के मद्देनजर कहा कि

"उक्त एडमिशन फार्म में फोर्स मेजर क्लॉज नहीं है, इसलिए बिना सेवा के फीस और खर्च की मांग करना गैरकानूनी है और प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत के खिलाफ है।

जहां तक ​​ऑनलाइन कक्षाओं का सवाल है, एडवोकेट वात्सल्य विज्ञान के माध्यम से याचिकाकर्ता ने कहा कि एडमिशन फॉर्म में इसका उल्लेख नहीं किया गया है और यह "स्कूलिंग के दायरे" से परे है।"

याचिका में कहा गया कि

"एडमिशन फॉर्म में कोई क्लाज़ नहीं है कि महामारी / प्रतिकूल स्थिति / राष्ट्रीय लॉकडाउन आदि के मामले में, स्कूल प्रशासन ऑनलाइन कक्षाएं आयोजित करेगा और उसी के लिए शुल्क और खर्च का एक ही सेट चार्ज करेगा। ऑनलाइन कक्षा, जो स्कूली शिक्षा की अवधारणा से पूरी तरह से अलग है, इसके कई दुष्प्रभाव और अवगुण हैं।"

याचिकाकर्ता में कहा कि

"उन छात्रों के लिए जिन्होंने पूर्व सहमति दी है और ऑनलाइन कक्षाओं में शामिल हुए हैं, माता-पिता से उक्त ऑनलाइन कक्षाओं के खर्च के लिए "आनुपातिक" शुल्क लिया जा सकता है।"

इस पृष्ठभूमि में, याचिकाकर्ता ने अदालत से आग्रह किया है कि वह मौजूदा परिस्थितियों में फोर्स मेजर क्लॉज की एक व्याख्या दे और सरकार को निर्देश दे कि वह स्कूल की फीस में अधिकतम राहत प्रदान करने / छूट देने के संबंध में निर्णय ले।

याचिकाकर्ता ने प्रस्तुत किया कि

"अधिकारियों / प्रतिवादी ने अवैध रूप से छात्रों / अभिभावकों को अपने संबंधित स्कूलों से सेवाएं प्राप्त किए बिना स्कूल शुल्क का भुगतान करने के लिए मजबूर किया है जो मौलिक अधिकारों के साथ-साथ उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के विभिन्न वर्गों का उल्लंघन करता है।"

याचिका डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story