Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

"PIL की प्रार्थनाओं में कुछ अनुशासन होना ही चाहिए " : सुप्रीम कोर्ट ने अस्थाना के खिलाफ याचिका खारिज की

Rashid MA
31 Jan 2019 5:16 PM GMT
PIL की प्रार्थनाओं में कुछ अनुशासन होना ही चाहिए  : सुप्रीम कोर्ट ने अस्थाना के खिलाफ याचिका खारिज की
x

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को वकील एम. एल. शर्मा की उस जनहित याचिका को खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने सीबीआई के पूर्व विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के निलंबन के साथ- साथ अन्य मांगे की थीं।

याचिका में कई असंबद्ध प्रार्थनाओं का संकेत देते हुए मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने टिप्पणी की, "जनहित याचिकाओं में की जाने वाली प्रार्थनाओं में कुछ अनुशासन को बनाए रखना पड़ता है। आप सब कुछ एक साथ इकट्ठा करके आकाश के नीचे नहीं ला सकते ... आपकी पहली प्रार्थना यह है कि अस्थाना को अगले सीबीआई निदेशक के रूप में नियुक्त नहीं किया जाना चाहिए? क्या इन मामलों को जनहित याचिका के जरिए निर्धारित किया जा सकता है?" यदि आपके पास ये शिकायत है कि वह सक्षम नहीं है, तो सेवा न्यायाधिकरण में जाएं! ... आप जजों के सुनवाई से अलग करने पर हितों के टकराव पर बात करते हैं? ... फिर आप 193 के तहत आपराधिक कार्यवाही के लिए आगे बढ़ते हैं...? अस्थाना के खिलाफ एफआईआर? ... सीबीआई निदेशक की नियुक्ति के लिए दिशानिर्देश? ... उनका महाभियोग संसद द्वारा महाभियोग के दिशानिर्देशों के अनुसार होना चाहिए? ... "

"आपकी शिकायत क्या है? हमें बताएं? वह क्या है जो आप चाहते हैं?" मुख्य न्यायाधीश ने पूछा।

याचिकाकर्ता की बात सुनने के बाद चीफ जस्टिस गोगोई ने कहा कि विनती और प्रार्थना सुनने के बाद पीठ इस मामले में हस्तक्षेप करने के लिए इच्छुक नहीं है। प्रार्थनाएं एक-दूसरे के साथ संबंध नहीं रखती और कुछ राहत अदालत के अधिकार क्षेत्र के दायरे में नहीं हैं जबकि अन्य उचित नहीं हैं।"

Next Story