Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

कोई व्यक्ति या संस्था कितना भी शक्तिशाली हो, उसे न्यायालय की प्रक्रिया का दुरुपयोग करने की अनुमति नहीं दी जा सकती : सुप्रीम कोर्ट

LiveLaw News Network
17 Nov 2019 4:15 AM GMT
कोई व्यक्ति या संस्था कितना भी शक्तिशाली हो, उसे न्यायालय की प्रक्रिया का दुरुपयोग करने की अनुमति नहीं दी जा सकती : सुप्रीम कोर्ट
x

कोई भी व्यक्ति या संस्था कितने भी शक्तिशाली हो, उसे न्यायालय की प्रक्रिया का दुरुपयोग करने की अनुमति नहीं दी जा सकती। ऑस्कर इन्वेस्टमेंट्स लिमिटेड (ओआईएल) और आरएचसी होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड के निदेशकों के खिलाफ एक अवमानना याचिका पर विचार करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी की।

अदालत ने कहा,

निदेशक ने जानबूझकर और संयोग से न्यायालय के आदेशों की अवहेलना की और संबंधित सामग्री को दबाया। उन्होंने दिल्ली उच्च न्यायालय को आश्वासन दिया था कि उनके द्वारा किए गए किसी भी सौदे से याचिकाकर्ताओं के अधिकारों पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की खंडपीठ ने उल्लेख किया कि याचिकाकर्ताओं के अधिकारों को खत्म करने के लिए एफएचएल में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से अपने शेयरधारिता को हल्का करने की सोची समझी योजना तैयार की।

पीठ ने कहा,

आश्वासन इस आशय के थे कि यदि न्यायालय ऋण के भुगतान के लिए एनकाउंटर किए गए शेयरों की बिक्री की अनुमति देता है तो भी इसका (संभावित) लेनदारों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा और धन की उपलब्धता केवल ऋण को कम करेगी और शेयरों के मूल्य में वृद्धि करेगी। उपर्युक्त गंभीर आश्वासनों और उपक्रमों के विपरीत, जो बार-बार आदेशों को प्राप्त करने के लिए दोहराया गया था, शेयरधारिता एक नीचे सर्पिल में चली गई। "

अदालत ने कहा,

"एक मुकदमेबाज को हमेशा सच्चा और ईमानदार होना चाहिए। जो व्यक्ति इक्विटी चाहता है, उसे किसी भी संबंधित सामग्री को नहीं छिपाना चाहिए।" पीठ ने कहा कि निदेशक अदालत की अवमानना करने के दोषी हैं और सजा के सवाल पर उनकी सुनवाई की जाएगी।

अदालत ने कहा,

"उनका आचरण निश्चित रूप से न्यायालय के अधिकार को कमज़ोर करता है और आपराधिक अवमानना के लिए कार्रवाई की जा सकती है, लेकिन इस मामले पर एक उदार दृष्टिकोण रखते हुए हम केवल इसे एक नागरिक अवमानना के रूप में मान रहे हैं। "

आदेश की प्रति डाउनलोड करने के लिए यहांं क्लिक करेंं



Next Story