निर्भया केस : सुप्रीम कोर्ट ने दो दोषियों की क्यूरेटिव याचिकाएं खारिज की

निर्भया केस : सुप्रीम कोर्ट ने दो दोषियों की क्यूरेटिव याचिकाएं खारिज की

निर्भया सामूहिक बलात्कार-हत्या मामले में मौत की सजा के इंतजार में चार में से दो दोषियों विनय शर्मा और मुकेश की क्यूरेटिव याचिकाओं को मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट की 5-जजों की बेंच ने खारिज कर दिया।

जस्टिस एन वी रमना, जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस आर एफ नरीमन, जस्टिस आर बनुमथी और जस्टिस अशोक भूषण की बेंच ने क्यूरेटिव याचिकाओं में कोई गुण नहीं पाया और उन्हें खारिज कर दिया।

7 जनवरी को, दिल्ली में पटियाला हाउस कोर्ट के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश ने 22 जनवरी को चारों दोषियों की फांसी के लिए मृत्यु वारंट जारी किया था। विनय शर्मा और मुकेश की क्यूरेटिव पिटीशन इस वारंट के जारी होने के बाद दायर की गई थी। अन्य दो दोषी अक्षय सिंह और पवन गुप्ता हैं।

पिछले महीने, जस्टिस बनुमथी, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस ए एस बोपन्ना की सुप्रीम कोर्ट बेंच ने दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी थी, जिसके बाद दिल्ली की अदालत ने दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी किया था। अन्य तीन दोषियों की पुनर्विचार याचिकाएं जुलाई 2018 में खारिज कर दी गई थीं।

इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 5 मई, 2017 को अपने फैसले में मृत्युदंड की सज़ा को बरकरार रखा था। दिसंबर 16-17 की रात, 2012 में एक पैरामेडिको छात्र के साथ चलती बस में अपराधियों ने सामूहिक बलात्कार किया था। कुछ दिनों बाद, पीड़िता ने दोषियों द्वारा दी गई क्रूर चोट के कारण दम तोड़ दिया। मुख्य आरोपी राम सिंह ने मार्च 2013 में तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली थी।