Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

सांसद  शशि थरूर ने केरल सोना तस्करी मामले में प्रमुख संदिग्ध के साथ जोड़ने पर कैराली TV को लीगल नोटिस भेजा 

LiveLaw News Network
10 July 2020 5:08 AM GMT
सांसद  शशि थरूर ने केरल सोना तस्करी मामले में प्रमुख संदिग्ध के साथ जोड़ने पर कैराली TV को लीगल नोटिस भेजा 
x

संसद सदस्य डॉ शशि थरूर ने केरल सोना तस्करी मामले में एक प्रमुख संदिग्ध के साथ संबंध बताने की अपमानजनक और कथित रूप से झूठे दावों को प्रसारित करने के लिए मलयालम न्यूज़ चैनल कैराली टीवी को लीगल नोटिस जारी किया है।

फेसबुक पोस्ट में कहा,

"मेरे वकील ने सीपीआईएम टीवी चैनल को प्रमुख संदिग्ध के साथ मेरे कथित संबंधों के बारे में झूठे दावों का आविष्कार करने और प्रसारित करने के लिए 6-पेज का औपचारिक नोटिस भेजा है, जो मेरे लिए पूरी तरह अजनबी है। मुझे राजनीतिक कारणों के लिए पर्याप्त रूप से दोषी माना गया है।"

वकील सूरज कृष्णा के माध्यम से जारी किए गए लीगल नोटिस में न्यूज चैनल को न्यूज पोर्टल में और उसके सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से दिए गए मानहानि वाले बयानों को वापस लेने को कहा गया है। नोटिस में कैराली टीवी को इस संबंध में माफी प्रकाशित करने की आवश्यतकता जताई गई है।

सांसद ने पहले ट्वीट किया था,

"बहरहाल, उन राजनीतिक अवसरवादियों के लिए जो मुझे घोटाले से जोड़ना चाहते हैं, मैं स्पष्ट कर दूं कि मेरी सिफारिश पर वाणिज्य दूतावास द्वारा एक भी व्यक्ति को कभी काम पर नहीं रखा गया है और मेरा किसी भी आरोपी से कोई पूर्व संपर्क नहीं है। मैं न तो मिला था। न ही उनकी सिफारिश की।"

उन्होंने कहा कि वह पूरी तरह से सीबीआई जांच का समर्थन करते हैं, जिसमें सभी दोषियों और उनके सहयोगियों की पहचान करने के लिए कॉल रिकॉर्ड और आरोपियों के संपर्क को तलाश करना शामिल है।

केरल सोना तस्करी केस

मामला तिरुवनंतपुरम हवाई अड्डे के माध्यम से 30 किलोग्राम सोने की तस्करी के बारे में है, जिसमें राज्य की राजधानी में यूएई वाणिज्य दूतावास को भेजे गए राजनयिक कार्गो का उपयोग किया गया। सीमा शुल्क विभाग ने मामले के सिलसिले में सरित कुमार को गिरफ्तार किया है, जो वाणिज्य दूतावास में जनसंपर्क अधिकारी के रूप में काम करता था।

संदीप नायर और स्वप्ना सुरेश नामक दो संदिग्ध फरार हैं। आईएएस एम शिवशंकर, जो मुख्यमंत्री के कार्यालय के प्रधान सचिव और सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव दोनों थे, के साथ स्वप्न सुरेश के कथित संबंधों के कारण मामला राजनीतिक विवाद में घिर गया है। विवाद के बाद शिवशंकर को दोनों पदों से हटा दिया गया था।

इस बीच, स्वप्ना सुरेश ने केरल उच्च न्यायालय का रुख किया है जिसमें कहा गया कि जब्त किए गए सोने के साथ उसका कोई संबंध नहीं है और वह केवल संयुक्त अरब अमीरात के इस संबंध में कस्टम अधिकारियों से संपर्क करते हुए राजनयिक माल की डिलीवरी को लेकर निर्देशों का पालन कर रही थी। उसकी जमानत अर्जी कल अदालत के समक्ष सूचीबद्ध की गई है।

इस बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी ( NIA) को मामले की जांच करने की अनुमति दी है।

केरल के मुख्यमंत्री, पिनरायी विजयन ने पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था और इस मामले में "केंद्रीय एजेंसियों द्वारा इस घटना की प्रभावी और समन्वित जांच" की मांग की थी।

Next Story