Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

जामिया के छात्र और शिक्षक ने पुलिस की बर्बरता के खिलाफ राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग में शिकायत की

LiveLaw News Network
31 Dec 2019 9:47 AM GMT
जामिया के छात्र और शिक्षक ने पुलिस की बर्बरता के खिलाफ राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग में शिकायत की
x

जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के तीन छात्र (राहुल कपूर, कासिम उस्मानी और अकीब रिजवान) और जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के शिक्षक संघ के सचिव प्रोफेसर माजिद जमील ने सोमवार को राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग में छात्रों के प्रति पुलिस की बर्बरता के खिलाफ शिकायत दर्ज की।

शिकायत के अनुसार, 15 दिसंबर को, जामिया के छात्रों द्वारा नागरिकता (संशोधन) अधिनियम, 2019 के कार्यान्वयन के खिलाफ एक शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन किया जा रहा था, लेकिन दिल्ली पुलिस ने लाठीचार्ज करके और आंसू गैस के गोले छोड़कर अत्यधिक बल प्रयोग करके इसे समाप्त कर दिया।

इस शिकायत में कहा गया है कि कई छात्रों को गंभीर रूप से घायल कर दिया गया, जिसमें एक छात्र की आंख की रोशनी चली गई थी। कई और लोगों को चिकित्सा या कानूनी सहायता के लिए पहुंच से बाहर रखा गया।

पुलिस की बर्बरता की कार्रवाई के खिलाफ पूरे देश में विरोध प्रदर्शन किए गए। सुप्रीम कोर्ट ने पुलिस की क्रूरता की जांच की मांग करने वाली एक याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया, जिसमें याचिकाकर्ताओं से कहा गया कि वे अपने संबंधित हाईकोर्ट से संपर्क करें। बाद में दिल्ली उच्च न्यायालय ने एक समान याचिका पर नोटिस जारी किया और 4 फरवरी, 2020 को मामले को सूचीबद्ध किया।

सोमवार को Change.org (माधुरी जुत्शी, अभियान रणनीतिकार) के सहयोग से, जिसमें पुलिस क्रूरता के खिलाफ एक याचिका पर दुनिया भर से 1.18 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर जमा किए और जामिया के छात्रों और शिक्षकों ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से अपनी शिकायत दर्ज करने के लिए संपर्क किया।

Change.org इंडिया की कंट्री डायरेक्टर निदा हसन ने कहा, "देश उथल-पुथल से गुजर रहा है और हमने संविधान संशोधन अधिनियम के पारित होने के बाद पिछले एक पखवाड़े में कई याचिकाएं शुरू की हैं। जामिया मिलिया इस्लामिया के एक छात्र द्वारा शुरू किया गया यह अभियान जिसमें यूनिवर्सिटी परिसर के अंदर पुलिस कार्रवाई की एक जांच की मांग वायरल हुई। हमें उम्मीद है कि NHRC एक लाख से अधिक लोगों की मांग को सुनेगा और कार्रवाई करेगा। हम एक जीवंत और भागीदारीपूर्ण लोकतंत्र देखने की उम्मीद करते हैं जहां लोगों की आवाज सुनी जाती है। "

राहुल कपूर के नाम से दायर शिकायत में कहा गया है कि "पुलिस ने विश्वविद्यालय में प्रवेश किया और छात्रों पर लाठीचार्ज किया, छात्रों पर आंसू गैस और गोलियां चलाईं और विश्वविद्यालय के पुस्तकालय, छात्रावास और अन्य सार्वजनिक स्थानों को भी नुकसान पहुंचाया।"

Next Story