Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

"मैंने एक मूल्यवान साथी खो दिया": सीजेआई रमाना ने न्यायमूर्ति मोहन शांतनगौदर के निधन पर शोक व्यक्त किया

LiveLaw News Network
25 April 2021 11:27 AM GMT
मैंने एक मूल्यवान साथी खो दिया: सीजेआई रमाना ने   न्यायमूर्ति मोहन शांतनगौदर के निधन पर शोक व्यक्त किया
x
I Have Lost A Valued Colleague CJI Ramana Condoles Justice Mohan Shantanagoudar

भारत के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति एन वी रमाना ने भारत के सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश, न्यायमूर्ति मोहन शांतनगौदर के निधन पर दुख व्यक्त किया है।

सीजेआई ने कहा,

"मैं उनके शीघ्र और पूर्ण रूप से स्वस्थ होने की उम्मीद कर रहा था और जल्द से जल्द बेंच पर उनकी वापसी देखना चाहता था। उनके निधन की खबर से एक अचंभा हुआ। मैंने एक मूल्यवान सहयोगी खो दिया है।

पिछले चार वर्षों से सुप्रीम कोर्ट में मेरा उनके साथ संबंध था। मैंने उनके अद्भुत कानूनी कौशल से बहुत लाभ उठाया है।"

भारत के मुख्य न्यायाधीश ने न्यायमूर्ति शांतनगौदर के बेटे से बात की और सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की ओर से शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की।

जस्टिस रमाना ने कई महत्वपूर्ण मामलों से निपटने के दौरान जस्टिस शांतनगौदर के साथ लंबे समय तक बेंच साझा की।

न्यायमूर्ति मोहन शांतनगौदर का 24 अप्रैल की देर रात निधन हो गया। उन्होंने गुरुग्राम के एक निजी अस्पताल में लंबी बीमारी के बाद अंतिम सांस ली। वे 62 साल के थे।

उन्हें 17 फरवरी, 2017 को भारत के सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किया गया था और उनका कार्यकाल 5 मई, 2023 तक था।

Next Story