Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

"केंद्र सरकार उन्हें कैसे भुगतान कर सकती है?" SC बार क्लर्क एसोसिएशन की केंद्र से 15 हजार प्रति माह की मांग वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने विचार करने से इनकार किया

LiveLaw News Network
17 July 2020 7:57 AM GMT
केंद्र सरकार उन्हें कैसे भुगतान कर सकती है? SC बार क्लर्क एसोसिएशन की केंद्र से 15 हजार प्रति माह की मांग वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने विचार करने से इनकार किया
x

सुप्रीम कोर्ट ने COVID- 19 के मद्देनज़र अदालतों में कामकाज बंद होने के दौरान सदस्यों के लिए 15,000 रुपये मासिक भुगतान की मांग करने वाली सुप्रीम कोर्ट बार क्लर्क एसोसिएशन की याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया।

शुक्रवार को सुनवाई के दौरान जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस एम आर शाह की पीठ ने भारत संघ को पहले प्रतिवादी के रूप में देखकर कहा,

"हम आपको भुगतान करने के लिए भारत संघ से कैसे कह सकते हैं। ऐसे तो कोई भी आ जाएगा और कहेगा कि केंद्र सरकार को भुगतान करने के निर्देश दें।"

इस पर याचिकाकर्ताओं के लिए पेश वरिष्ठ वकील सिद्धार्थ लूथरा ने याचिका को वापस लेने और बार काउंसिल ऑफ इंडिया से संपर्क करने की स्वतंत्रता देने का अनुरोध किया। जस्टिस शाह ने कहा कि BCI ही केवल वकीलों से संबंधित मामलों से संबंधित है। इसके साथ ही याचिकाकर्ता ने याचिका वापस ले ली।

दरअसल सुप्रीम कोर्ट बार क्लर्क एसोसिएशन ने शीर्ष अदालत के समक्ष एक याचिका दायर की थी जिसमें पिछले तीन महीनों ये चल रही वित्तीय कठिनाइयों के कारण केंद्र सरकार को प्रत्येक सदस्य को 15,000 रुपये प्रतिमाह का भुगतान करने के लिए निर्देशित करने का अनुरोध किया गया था।

यह कहते हुए कि इन महीनों में कई सदस्यों को उनका मूल वेतन नहीं मिला है, याचिकाकर्ता एसोसिएशन ने शीर्ष अदालत से आग्रह किया था कि वह सरकार को प्रत्येक सदस्य को जून, 2020 से सामान्य कामकाज बहाल होने और अदालत में प्रभावी ढंग से कार्य शुरू होने तक उपरोक्त राशि देने का निर्देश दे।

अनुच्छेद 21 के तहत उनके जीवन के अधिकार का उल्लंघन करने का आरोप लगाते हुए, एसोसिएशन ने 24 मार्च से लगाई गई राष्ट्रव्यापी तालाबंदी के परिणामस्वरूप, अपने अधिकांश सदस्यों द्वारा सामना किए जा रहे वित्तीय संकट से कोर्ट को अवगत कराया था।

"... अधिकांश क्लर्क गरीबी के कगार पर हैं, जिनके पास बुनियादी सुविधाओं, बच्चों के स्वास्थ्य और शिक्षा और यहां तक ​​कि उनके परिवार के सदस्यों के लिए भोजन की व्यवस्था करने के लिए भी बिल्कुल पैसा नहीं है। इस प्रकार,ये संविधान के अनुच्छेद 21 का घोर उल्लंघन है जहां उत्तरदाताओं (केंद्र और राज्य सरकारों) की कार्रवाई / निष्क्रियता के कारण याचिकाकर्ता संघ के सदस्यों के जैसे व्यक्तियों के लिए कोई विकल्प प्रदान नहीं किया गया है। "

याचिकाकर्ता ने कहा था,

क्लर्कों की भूमिका "अधिवक्ताओं द्वारा किए जा रहे कार्य से आंतरिक रूप से जुड़ी हुई है, " यह देखते हुए कि एक वकील की आय ताजा फाइलिंग के माध्यम से उत्पन्न होती है, और चूंकि पिछले दो महीनों में बहुत कम फाइलिंग हुई है, एसोसिएशन के सदस्यों को उनके अधिवक्ताओं द्वारा भुगतान नहीं किया गया है क्योंकि उनके पास भी पैसा नहीं है।"

इस प्रकार, एसोसिएशन ने एक ऐसी योजना के साथ आने की आवश्यकता पर जोर दिया था जो विशेष रूप से अनिश्चित समय के दौरान सुप्रीम कोर्ट क्लर्कों के निर्वाह और अस्तित्व को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से हो।

"... याचिकाकर्ता एसोसिएशन के सदस्य, उच्च न्यायालय और ट्रायल कोर्ट में वकीलों के साथ काम करने वाले क्लर्कों के विपरीत, परिवार या आस-पास के लोगों में वापस नहीं गए हैं। याचिकाकर्ता के सदस्य असम या केरल जैसी दूर-दूर जगह से आते हैं। इसलिए संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत संवैधानिक गारंटी को लागू करने के लिए हमारे निर्वाह और बुनियादी अस्तित्व के लिए योजना तैयार करना आवश्यक है। "

आगे यह दावा करते हुए कि एसोसिएशन के सदस्यों के लिए जो 'वर्तमान दुख' पैदा हुए हैं, केंद्र द्वारा दिए गए लॉकडाउन का एक सीधा परिणाम है, और यह न केवल बड़े पैमाने पर लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा करने के लिए , बल्कि प्रत्येक व्यक्ति की आजीविका भी सरकार की जवाबदेही है।

"लोगों के स्वास्थ्य को संरक्षित नहीं किया जा सकता है, जब तक कि वकीलों के क्लर्कों की तरह विशेष रूप से कम आय वाले व्यक्तियों को गलत तरीके से दुख पहुंचाया जाता हैं।"

यह कहते हुए कि सरकार को एसोसिएशन के सदस्यों सहित अपने सभी नागरिकों की देखभाल का कर्तव्य निभाना है, यह इंगित किया गया था कि क्लर्कों को अब तक अपने संबंधित राज्यों से कोई वित्तीय सहायता या सहायता प्राप्त नहीं हुई है और केंद्र द्वारा किसी भी विशिष्ट योजना के तहत कवर नहीं किया गया है।

" केंद्र ने मई के महीने में 20 हजार करोड़ के वित्तीय सहायता पैक की घोषणा की थी, जिसमें लघु उद्योगों, प्रवासी श्रमिकों और अन्य आर्थिक रूप से परेशान लोगों को शामिल किया गया है, हालांकि, याचिकाकर्ता एसोसिएशन और अन्य सदस्यों और समान रूप से है" क्लर्क" के पेशे के लोगों के लिए ऐसी कोई योजना नहीं बनाई गई है, जो पूरे भारत में प्रचलित है।

ये सदस्य हमारी कानूनी प्रणाली का एक अभिन्न और अपरिहार्य हिस्सा हैं और उनके जीवित रहने को अत्यधिक महत्व दिया जाना चाहिए। "

आगे यह दावा किया गया कि इस बिंदु पर काम कम होता जा रहा है, क्योंकि न्यायालयों का सामान्य कामकाज जल्द शुरू नहीं होता दिखाई नहीं देता जबकि ये भरोसा था कि स्थिति 1 जून से बदल जाएगी। ऐसा लगता है याचिकाकर्ता को जोड़ने के लिए सरकार की ओर से कोई कार्रवाई नहीं होगी। शिकायत निवारण के लिए एक राष्ट्रीय योजना तैयार करने से संबंधित प्रश्न भी इस प्रकार उठाया गया था : -

"आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 11 इन शिकायतों के निवारण के लिए राष्ट्रीय योजना तैयार करने के लिए विचार करती है। लेकिन इस तरह की कोई योजना तैयार नहीं की गई है।"

इसलिए, यह अतिरिक्त रूप से प्रार्थना की गई थी कि सरकार को जल्द से जल्द एक राष्ट्रीय योजना के साथ आने के लिए कहा जाए, जिसमें पूर्व-व्यापी मुआवजे की शर्तें और राशि स्पष्ट रूप से निर्दिष्ट हो। 

Next Story