Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

उम्मीद है केंद्र सरकार जल्द ही विभिन्न उच्च न्यायालयों में नियुक्ति के लिए कॉलेजियम के लंबित प्रस्ताव को मंजूरी देगी : सीजेआई रमाना

LiveLaw News Network
4 Sep 2021 3:37 PM GMT
उम्मीद है केंद्र सरकार जल्द ही विभिन्न उच्च न्यायालयों में नियुक्ति के लिए कॉलेजियम के लंबित प्रस्ताव को मंजूरी देगी : सीजेआई रमाना
x

भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमाना ने शनिवार को कहा कि उन्हें उम्मीद है कि केंद्र सरकार जल्द ही विभिन्न उच्च न्यायालयों में नियुक्ति के लिए 82 व्यक्तियों के नामों को मंजूरी देगी, जिनकी सिफारिश सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने की है।

मुख्य न्यायाधीश एनवी रमाना ने शनिवार को बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) द्वारा उन्हें सम्मानित करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। इस कार्यक्रम में सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश, केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू और अन्य शीर्ष कानून अधिकारी भी उपस्थिति रहे।

सीजेआई ने कहा,

" मेरे पदभार संभालने के बाद कॉलेजियम ने कई नामों की सिफारिश की है। अगर मैं गलत नहीं हूं, तो विभिन्न उच्च न्यायालयों में 82 नामों की सिफारिश की गई है। मुझे उम्मीद है कि सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि नामों को जल्द से जल्द मंजूरी दी जाए, जिस तरह से शीर्ष न्यायालय के लिए 9 नामों को मंजूरी दी गई। यह एक सतत प्रक्रिया है। हम सभी उच्च न्यायालयों में मौजूद लगभग 41% रिक्तियां भरने की कठिन चुनौती पर खरा उतरने की उम्मीद करते हैं।"

सीजेआई रमाना काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) द्वारा उन्हें सम्मानित करने के लिए आयोजित एक समारोह में बोल रहे थे।

सीजेआई ने आगे उल्लेख किया कि उच्च न्यायपालिका में रिक्त पदों के मुद्दे को प्राथमिकता के आधार पर हल करने का उनका प्रयास रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि इतने कम समय में सर्वोच्च न्यायालय में 9 न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए उन्हें बहुत प्रशंसा मिली, उन्होंने इस उपलब्धि का श्रेय पूरे कॉलेजियम के सामूहिक प्रयास को दिया।

सीजेआई रमाना ने कहा,

"कुछ समय पहले, मुझे सचिन तेंदुलकर के रूप में संदर्भित किया गया था। मुझे यहां धारणा को सही करना चाहिए। किसी भी खेल की तरह यह एक टीम प्रयास है। जब तक टीम के सभी सदस्य अच्छा प्रदर्शन नहीं करते, तब तक जीतना मुश्किल है। यहां, मुझे अवश्य कॉलेजियम में मेरे सहयोगियों - भाई यूयू ललित, एएम खानविलकर, डी वाई चंद्रचूड़ और एल नागेश्वर राव - जो इस प्रयास में सक्रिय और रचनात्मक भागीदार बन गए हैं, उन्हें मेरा हार्दिक धन्यवाद। सामूहिक प्रयासों के कारण, जैसा कि आप सभी जानते हैं , हम सर्वोच्च न्यायालय में रिक्तियों की संख्या को केवल एक तक कम कर सकते हैं।"

सीजेआई रमाना ने केंद्रीय कानून मंत्री किरण रिज्जू की भी प्रशंसा की, जो सुप्रीम कोर्ट में नियुक्ति के लिए न्यायाधीशों के नामों को शीघ्रता से मंजूरी देने के लिए कार्यक्रम में मौजूद थे। जुलाई में कैबिनेट में फेरबदल के बाद रिज्जू ने कानून मंत्री का पद संभाला था।

सीजेआई ने कहा,

" मैंने उनसे (किरेन रिजिजू) कहा कि लंबित रिक्तियां एक मुद्दा है और उन्होंने 7 दिनों के भीतर सभी नौ नामों को मंजूरी दे दी। यह एक रिकॉर्ड समय में किया गया काम था। मुझे हमारे द्वारा अनुशंसित उच्च न्यायालय के नामों के लिए भी समान गति की उम्मीद है। एक युवा और गतिशील कानून मंत्री से हम तीव्र गति से सकारात्मक विकास की उम्मीद कर सकते हैं।"

सीजेआई रमाना की अध्यक्षता वाले कॉलेजियम ने पिछले दस दिनों में ही विभिन्न उच्च न्यायालयों में नियुक्ति के लिए 68 नामों की सिफारिश की है।

उन्होंने आगे देश भर के विभिन्न निचली अदालतों में कम बुनियादी ढांचे और प्रशासनिक कर्मचारियों की कमी के मुद्दे को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि नेशनल ज्यूडिशियल इन्फ्रास्ट्रक्चर बनाने का प्रस्ताव विचाराधीन है।

उन्होंने कहा,

"मैं बहुत लंबे समय से बुनियादी ढांचे को बढ़ाने पर जोर दे रहा हूं। मेरे पास इस मुद्दे को समयबद्ध तरीके से संबोधित करने का प्रस्ताव है। राष्ट्रीय न्यायिक अवसंरचना निगम के निर्माण के लिए एक व्यापक प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। हमने पूरे देश से स्थिति रिपोर्ट एकत्र की है। इस संबंध में एक प्रस्ताव माननीय कानून मंत्री के पास बहुत जल्द पहुंच जाएगा। मुझे सरकार से पूर्ण सहयोग की उम्मीद है।"

सीजेआई रमाना ने चल रही महामारी के कारण वकीलों की आर्थिक तंगी के बारे में भी बात की। उन्होंने उल्लेख किया कि जो वकील आधुनिक तकनीक को नहीं अपना सकते थे, वे पीछे रह गए हैं और इस तरह की असमानता देश और पेशे के लिए अच्छी नहीं है।

उन्होने कहा,

"बार काउंसिल ऑफ इंडिया और स्टेट बार एसोसिएशन ने इस कठिन समय के दौरान वकीलों की स्थिति में सुधार के लिए कई कदम उठाए हैं। भारत के मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्यभार संभालने के तुरंत बाद मैंने संकट में फंसे लोगों की मदद के लिए सरकार से आवश्यक कदम उठाने का अनुरोध करते हुए इस संबंध में माननीय मंत्री को लिखा है। युवा और सक्रिय कानून मंत्री से हम तीव्र गति से सकारात्मक उपायों की उम्मीद कर सकते हैं।"

सीजेआई रमाना का भाषण यहां पढ़ें




Next Story