Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

फिर से मौका मिले तो मैं वकील ही बनना पसंद करूंगा : जस्टिस नागेश्वर राव ने एससी जज के रूप में अपनी विदाई पर कहा

Sharafat
20 May 2022 7:14 AM GMT
फिर से मौका मिले तो मैं वकील ही बनना पसंद करूंगा : जस्टिस नागेश्वर राव ने एससी जज के रूप में अपनी विदाई पर कहा
x

जस्टिस एल नागेश्वर राव ने सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में अपने अंतिम कार्य दिवस पर कहा कि मौका मिलने पर वह हमेशा के लिए वकील बनना पसंद करेंगे।

जस्टिस राव ने कहा,

"जब मुझे पदोन्नत किया गया तो मैंने जस्टिस गोगोई से कहा था, जिनके साथ मैं कुछ देर बैठता था, कि मैं अभी भी एक वकील के रूप में सोचता हूं और उन्होंने कहा कि आप ऐसा करना जारी रखें, और इससे आपको वकीलों को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिलेगी। कल भी मैं इस बारे में सोच रहा था। अब भी मुझे लगता है कि वह पक्ष (बार) इस पक्ष (बेंच) से बेहतर है। अगर मौका दिया गया तो मैं जीवन भर वकील बना रहना चाहूंगा।"

जस्टिस राव अंतिम कार्य दिवस पर भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना और जस्टिस हेमा कोहली के साथ औपचारिक बेंच शेयर कर रहे थे।

भारत के एटोर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि न्यायालय एक बहुत अच्छे और शक्तिशाली जजमेंट को खो रहा है। एजी ने जस्टिस राव के उनके करियर के अंतिम फैसले (पेरारिवलन को रिहा करने का निर्णय) का उल्लेख किया।

भारत के सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने याद किया कि जब वह वकील हुआ करते थे तो वह जस्टिस राव को ब्रीफ किया करते थे।

एसजी ने कहा,

"मैंने एक व्यक्ति के रूप में उनसे बहुत कुछ सीखा है।"

सीजेआई एनवी रमना ने कहा कि उन्होंने और जस्टिस राव दोनों ने एक ही जगह विजयवाड़ा बार एसोसिएशन से प्रैक्टिस शुरू की थी।

सीजेआई ने कहा,

"वह पहली पीढ़ी के वकील हैं, उनके पास कोई गॉडफादर नहीं था। मैं उन्हें और उनके परिवार को शुभकामनाएं देता हूं। यह एक बहुत ही भावनात्मक दिन है, हमने एक साथ करियर शुरू किया। कुछ समय बाद मैं भी पद छोड़ दूंगा। जस्टिस राव हमेशा मेरे समर्थन में मज़बूती से खड़े रहे।"

सीजेआई रमना ने कहा कि वह शाम को विदाई समारोह के लिए आगे की टिप्पणी बचाकर रख रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट के 5वें वरिष्ठ जज जस्टिस राव 7 जून, 2022 से सेवानिवृत्त हो रहे हैं। हालांकि, आज उनका आखिरी कार्य दिवस है क्योंकि कोर्ट आज से गर्मी की छुट्टियों के लिए बंद हो रहा है।

13 मई, 2016 को सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में अपनी पदोन्नति से पहले वह सीनियर एडवोकेट के रूप में प्रैक्टिस कर रहे थे और उन्होंने कई हाई प्रोफाइल मामलों को संभाला है।

उन्होंने अगस्त 2003 से मई, 2004 तक और फिर 26.08.2013 से 18.12.2014 तक भारत के एडिशनल सॉलिसिटर जनरल के रूप में कार्य किया।

Next Story