Top
ताजा खबरें

डॉक्टर एन आर माधव मेनन मरणोपरांत पद्म भूषण से सम्मानित

LiveLaw News Network
26 Jan 2020 1:45 AM GMT
डॉक्टर एन आर माधव मेनन मरणोपरांत पद्म भूषण से सम्मानित
x

भारतीय आधुनिक कानूनी शिक्षा के पितृपुरुष डॉक्टर एन आर माधव मेनन को मरणोपरांत पद्म भूषण से सम्मानित किया गया है। पद्म भूषण भारत सरकार का तीसरा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार है। इसकी घोषणा शनिवार शाम को गृह मंत्रालय ने की।

डॉक्टर मेनन का 8 मई, 2019 को निधन हो गया था। इससे पहले उन्हें 2003 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। अरुण जेटली और सुषमा स्वराज को भी आज मरणोपरांत पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

डॉक्टर मेनन को नेशनल लॉ स्कूल की स्थापना का बीड़ा उठाकर भारतीय कानूनी शिक्षा का चेहरा बदलने के लिए जाना जाता है। उन्हें पहले के 3-वर्षीय पाठ्यक्रम के स्थान पर पांच वर्षीय एकीकृत एलएलबी पाठ्यक्रम की अवधारणा का श्रेय दिया जाता है।

वह नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी (एनएलएसआईयू) और राष्ट्रीय न्यायिक अकादमी, भोपाल के संस्थापक निदेशक और पश्चिम बंगाल नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ ज्यूरिडिकल साइंसेज (एनयूजेएस) के संस्थापक कुलपति थे।

1935 में जन्मे डॉक्टर एन.आर. माधव मेनन ने अपनी बीएससी और बीएल केरल विश्वविद्यालय से ली। एलएलएम और पीएच.डी. अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से करने के बाद पंजाब विश्वविद्यालय से M.A की डिग्री हासिल। उन्होंने 1956 में केरल उच्च न्यायालय में एक वकील के रूप में काम शुरू किया।

डॉक्टर मेनन 1960 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में फेक्ल्टी के रूप में शामिल हुए। 1965 में दिल्ली विश्वविद्यालय चले गए और कैंपस लॉ सेंटर के प्रोफेसर और प्रमुख बने। इस अवधि के दौरान उन्होंने सरकारी लॉ कॉलेज, पोंडिचेरी के प्रिंसिपल और बार काउंसिल ऑफ इंडिया ट्रस्ट के सचिव के रूप में प्रतिनियुक्ति पर काम किया।

1986 में, डॉक्टर मेनन ने नेशनल लॉ स्कूल ऑफ़ इंडिया यूनिवर्सिटी की स्थापना के लिए बार काउंसिल ऑफ़ इंडिया के निमंत्रण पर बैंगलोर का रुख किया और कानूनी शिक्षा का एक नया मॉडल शुरू करने के लिए, फाइव ईयर इंटीग्रेटेड LL.B. कार्यक्रम डिज़ाइन किया।

उन्होंने एनएलएसआईयू को 12 वर्षों के लिए संस्थापक उप-कुलपति के रूप में कार्य किया। पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा उन्हें कोलकाता में एक समान लॉ स्कूल स्थापित करने के लिए आमंत्रित किया गया था। 1998 से 2003 तक, उन्होंने नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ़ जुरिडिकल साइंसेज के संस्थापक कुलपति के रूप में कार्य किया।

डॉक्टर मेनन कानूनी शिक्षा, कानूनी पेशे, कानूनी सहायता, न्यायिक प्रशिक्षण और न्याय के प्रशासन पर एक दर्जन से अधिक पुस्तकों के लेखक रहे। यूनिवर्सल लॉ पब्लिशर्स, दिल्ली (2010) द्वारा प्रकाशित एक पुस्तक "टर्निंग पॉइंट" प्रोफेसर मेनन के जीवन और कार्यों पर है।

Next Story