Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

दिल्ली हाईकोर्ट का निर्देश, एफआईआर में उर्दू / फारसी शब्दों का उपयोग करने से परहेज़ करे दिल्ली पुलिस

LiveLaw News Network
27 Nov 2019 7:16 AM GMT
दिल्ली हाईकोर्ट का निर्देश, एफआईआर में उर्दू / फारसी शब्दों का उपयोग करने से परहेज़ करे दिल्ली पुलिस
x

दिल्ली उच्च न्यायालय ने दिल्ली पुलिस को एफआईआर दर्ज करते समय उर्दू / फारसी शब्दों का उपयोग करने से परहेज करने का निर्देश दिया है।

न्यायमूर्ति डीएन पटेल और न्यायमूर्ति हरि शंकर की खंडपीठ ने कहा कि एफआईआर को सबसे सरल भाषा में या उस व्यक्ति की भाषा में दर्ज किया जाना चाहिए जो प्राथमिकी दर्ज करने के लिए पुलिस के पास आया है।

विशालाक्षी गोयल द्वारा दायर याचिका में दिल्ली पुलिस को ऐसी भाषा में एफआईआर दर्ज करने के लिए निर्देश जारी करने के लिए कहा गया था, जिसे शिकायतकर्ता द्वारा आसानी से समझा जा सके। याचिकाकर्ता ने कहा था कि दिल्ली पुलिस एफआईआर में कुछ उर्दू / फारसी शब्दों का इस्तेमाल करती है, जिससे शिकायतकर्ता के लिए इसे समझना मुश्किल हो जाता है।

दलील का जवाब देते हुए, दिल्ली सरकार ने अदालत को सूचित किया कि पुलिस उपायुक्त, कानूनी प्रकोष्ठ, पुलिस मुख्यालय ने पहले ही 20 नवंबर, 2019 को एक परिपत्र जारी किया है, जिसमें एफआईआर लिखने के दौरान उर्दू / फारसी शब्दों के बजाय सरल शब्दों का प्रयोग करने को कहा गया है।

उक्त परिपत्र में एक सूची भी शामिल है जिसमें लगभग 380 उर्दू शब्दों के अंग्रेजी अनुवाद हैं जो पुलिस द्वारा उपयोग किए जाते हैं। अदालत ने यह भी नोट किया कि पुलिस द्वारा उर्दू / फारसी शब्दों का प्रयोग बिना उनका अर्थ जाने मशीनी तौर पर किया जा रहा है।

कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को यह भी निर्देश दिया कि अनुवाद की सूची की एक प्रति उपलब्ध कराते हुए प्रत्येक शिकायतकर्ता को एफआईआर की प्रति भी प्रदान की जाए, क्योंकि बहुत से लोग उर्दू शब्दों का अर्थ नहीं समझ सकते।

अदालत ने कहा, इस तरह की सूची की मदद से, लोग एफआईआर में उल्लिखित शब्दों को खुद ही अनुवाद करने में सक्षम होंगे।

Next Story