Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

सुप्रीम कोर्ट में पेश होने के लिए वकीलों के लिए न्यूनतम अनुभव मानदंड हो : मुख्य न्यायाधीश बोबडे

LiveLaw News Network
17 Jan 2020 2:37 AM GMT
सुप्रीम कोर्ट में पेश होने के लिए वकीलों के लिए न्यूनतम अनुभव मानदंड हो : मुख्य न्यायाधीश बोबडे
x

भारत के मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे ने गुरुवार को बार के सामने एक विचार प्रस्तुत किया कि सुप्रीम कोर्ट में पेश होने के लिए वकीलों के लिए न्यूनतम अनुभव मानदंड होना चाहिए।

मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति बीआर गवई और न्यायमूर्ति सूर्यकांत की पीठ ने वकीलों के लिए कुछ अनुभव मानदंड तय करने पर उस समय अपना विचार व्यक्त किया जब वरिष्ठ वकील और सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन (SCBA) के अध्यक्ष दुष्यंत दवे ने पीठ को बताया कि मामलों को तत्काल सुनवाई के लिए सूचीबद्ध करने में वकीलों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

दवे ने पीठ को बताया,

"मेरे बार को मेंशनिंग करने वाले अधिकारी के सामने मामलों को तत्काल सुनवाई के लिए सूचीबद्ध करने में समस्या आ रही है।"

उन्होंने कहा कि कई बार वकील उन मामलों के "गंभीर तात्कालिकता" के बारे में उल्लेख करने वाले अधिकारी को मनाने में असमर्थ होते हैं जिन्हें तत्काल सुनवाई की आवश्यकता होती है।

मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे, जो लगातार कहते रहे हैं कि तत्काल सुनवाई के लिए मामलों का उल्लेख मेंशनिंग अधिकारी के सामने किया जाना चाहिए, न कि पहले अदालत में, उन्होंने कहा, "हम इस तरह से दिन की शुरुआत नहीं करना चाहते। तात्कालिकता पर विचार से बार का विवेक अलग है। "

पीठ ने कहा,

"हम जानते हैं कि हमारे पास यथास्थिति बहाल करने की शक्ति है (निचले न्यायालय के आदेशों के प्रभाव को कम करने की शक्ति है),"

पीठ ने कहा, एक महिला वकील उस याचिका पर अब तत्काल सुनवाई की मांग कर रही है जो 2017 में दायर की गई थी।

उदाहरण देते हुए मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे ने कहा कि वह बार काउंसिल से कह रहे हैं कि वह सुप्रीम कोर्ट में पेश होने के लिए युवा वकीलों के लिए न्यूनतम अनुभव मानदंड तय करे।

SCBA अध्यक्ष ने पीठ को बताया,

"मैं सीधे (इस सुझाव पर सहमत हूं) कि इस अदालत में पेश होने के लिए न्यूनतम 10 वर्ष का अनुभव होना चाहिए।"

Next Story