Top
ताजा खबरें

सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब, हरियाणा और यूपी में पराली जलाने से रोकने और कदम उठाने के लिए जस्टिस मदन बी लोकुर की एक सदस्यीय समिति नियुक्त की

LiveLaw News Network
16 Oct 2020 9:45 AM GMT
सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब, हरियाणा और यूपी में पराली जलाने से रोकने और कदम उठाने के लिए जस्टिस मदन बी लोकुर की एक सदस्यीय समिति नियुक्त की
x

सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में पराली जलाने को रोकने के लिए निगरानी करने और कदम उठाने के लिए जस्टिस (सेवानिवृत्त) मदन बी लोकुर की एक सदस्यीय समिति नियुक्त की है।

मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे, जस्टिस ए एस बोपन्ना और जस्टिस वी रामासुब्रमण्यन की पीठ ने तीसरे साल के लॉ स्टूडेंट आदित्य दुबे की याचिका में सुझाव को स्वीकार कर लिया कि पराली जलाने से रोकने के लिए जस्टिस लोकुर की समिति नियुक्त की जाए, जिसमें पंजाब, हरियाणा और यूपी के मुख्य सचिव शामिल हों जो न्यायमूर्ति लोकुर को राज्यों में पराली जलाने से रोकने के लिए अतिरिक्त साधनों और तरीकों को तैयार करने के लिए सक्षम करें।

सीजेआई एसए बोबडे,

"यह आदेश किसी भी प्राधिकरण के खिलाफ नहीं है। हम केवल इस बात से चिंतित हैं कि दिल्ली एनसीआर के नागरिक ताजा स्वच्छ हवा में सांस लेने में सक्षम हों और अदालत बंद रहने के दौरान, हम इन नौ दिनों के दौरान कुछ भी नहीं करना चाहते हैं।"

न्यायालय ने आगे कहा कि एनसीसी, एनएसएस और भारत स्काउट्स एंड गाइड को राज्यों में कृषि क्षेत्रों में जलने वाली पराली की निगरानी में सहायता के लिए संबंधित राज्यों में तैनात किया जाना चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट,

"हमें विश्वास है कि प्रभारी अधिकारी उन्हें इस उद्देश्य के लिए" लोकुर समिति "के निपटान में सहयोग देंगे। इसके अलावा, हम निर्देश देते हैं कि पंजाब और हरियाणा में पहले से ही मौजूद टीमों को जो पराली जलाने से रोकने के लिए हैं , लोकुर समिति को रिपोर्ट करना और निर्देश लेना होगा। हम निर्देश देते हैं कि राज्यों को अपने काम को पूरा करने के लिए समिति को पर्याप्त सुविधाएं प्रदान करनी चाहिए, यदि आवश्यक हो तो सचिवालय सहायता और परिवहन सहित।

इस पृष्ठभूमि में, कोर्ट ने कहा कि पंजाब, यूपी और हरियाणा के राज्य स्वयंसेवकों को पर्याप्त परिवहन प्रदान करेंगे और यह समिति एक पखवाड़े या आवश्यकता के अनुसार रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।

पीठ ने कहा,

"ईपीसीए सहित सभी प्राधिकरण मांगी गई सूचना के लिए समिति को रिपोर्ट करेंगे।"

यह देखते हुए कि "उपायों के बावजूद ,पराली जलाने में वृद्धि हुई है जो एनसीआर के वातावरण को अनिवार्य रूप से प्रदूषित करेगा," शीर्ष अदालत ने कहा कि यह आकलन करने के लिए इच्छुक नहीं है कि कौन सा उपाय प्रभावी रहा है या नहीं। पीठ ने कहा, "हमें विश्वास है कि प्रत्येक उपाय प्रदूषण को कम करने के इरादे से अधिकारियों द्वारा लिया गया है।"

याचिकाकर्ता कानून के छात्र के लिए वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह उपस्थित हुए और अदालत को बताया कि अगर यह याचिका 23 नवंबर को पराली जलाने से संबंधित एमसी मेहता के मामलों में सूचीबद्ध की गई, तो बहुत देर हो जाएगी।

वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह ने सुप्रीम कोर्ट को कहा,

"उस समय तक, हम स्मॉग से उबर जाएंगे।"

जैसा कि पराली जलाने का सीज़न (सितंबर से जनवरी तक) आ चुका है, याचिकाकर्ता- 3 तीसरे साल के लॉ स्टूडेंट, अमन बांका और बारहवीं कक्षा के छात्र, आदित्य दुबे ने वकील निखिल जैन के माध्यम से, इस बात पर प्रकाश डाला कि पराली जलाने का दिल्ली में वायु प्रदूषण में लगभग 40-45% तक योगदान होता है।

इसलिए वे यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि दिल्ली-एनसीआर में एयर क्वालिटी इंडेक्स का स्तर इस साल के दौरान विशेष रूप से COVID - 19 महामारी के मद्देनज़र

पराली जलाने के सीज़न के दौरान खतरनाक स्तर पर ना पहुंचे।

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 में "स्वच्छ जीवन के अधिकार" में स्वच्छ वायु का अधिकार भी मौलिक अधिकार का एक अभिन्न अंग है और हर साल सितंबर से जनवरी की अवधि के दौरान दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण के स्तर को खतरनाक स्तर से नीचे रखने के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकारों की विफलता से उक्त मौलिक अधिकार का हनन हो रहा है," उन्होंने प्रस्तुत किया।

उन्होंने आगे कहा,

"वर्ष 2019 में, पंजाब और हरियाणा में किसानों द्वारा अगली बुवाई के मौसम के लिए अपने खेतों को साफ़ करने के लिए हज़ारों की संख्या में पराली को जलाया गया, जिसने दिल्ली-एनसीआर में हवा को सस्पेंडेड पार्टिकुलेट मैटर से भर दिया और परिणामस्वरूप दिल्ली में AQI का स्तर 1000 पार कर गया। दिल्ली-एनसीआर के नागरिकों के बीच श्वसन, नेत्र और त्वचा संबंधी गंभीर बीमारियां हुईं और यहां तक ​​कि कई नागरिकों की मौत हो गई। यह दिल्ली-एनसीआर के नागरिकों के मौलिक अधिकार का स्पष्ट उल्लंघन था।"

अन्य बातों के साथ, उन्होंने संबंधित राज्यों के छोटे और सीमांत किसानों को पराली हटाने वाली मशीनों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए राज्यों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी करने की मांग की है।

याचिकाकर्ताओं ने तर्क दिया है कि पंजाब और हरियाणा में पराली की आग "वित्तीय अक्षमता के कारण छोटे और सीमांत किसानों को पराली हटाने की मशीनों को खरीदने या किराए पर लेने में असमर्थता" का एक सीधा परिणाम है, जो उन्हें उनके खेतों में खेती के अवशेषों को जलाने के लिए छोड़ देता है।

स्थिति को सुधारने के लिए, याचिकाकर्ताओं ने निम्नलिखित राहतें मांगी हैं:

• राज्यों को सितंबर, 2020 से जनवरी, 2021 के बीच की अवधि के दौरान पराली हटाने वाली मशीनों के किराये पर एक सीमा तय करने का निर्देश दें ;

• राज्यों को सभी छोटे और सीमांत किसानों को पराली हटाने वाली मशीनों को किराए पर लेने के लिए उनके द्वारा खर्च की गई राशि का भुगतान करने का निर्देश देना;

• राज्यों को छोटे और सीमांत किसानों के निजी खेतों से पराली हटाने के काम को मनरेगा के तहत अनुमत कार्य की सूची में शामिल करने का निर्देश देना ताकि मनरेगा श्रमिकों का उपयोग पराली हटाने को सुनिश्चित करने के लिए किया जा सके यदि कहीं पराली हटाने की मशीन उपलब्ध नहीं है ;

• राज्य प्रत्यक्ष रूप से उन किसानों पर भारी जुर्माना / सज़ा का प्रावधान करें जो अपने खेतों में पराली को जलाते हैं जबकि राज्यों द्वारा उन्हें पराली को हटाने के लिए सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं

पराली जलाने पर नियमन के अलावा, याचिकाकर्ताओं ने दिल्ली सरकार को निम्नलिखित निर्देश देने को कहा है :

• निर्देशित करें कि सितंबर, 2020 से जनवरी, 2021 के बीच दिल्ली-एनसीआर में सभी प्रदूषणकारी उद्योगों और निर्माण गतिविधियों को केवल उन दिनों में परिचालन में रहने दिया जा सकता है जब AQI स्तर 150 से कम हो और इस AQI स्तर से ऊपर की वृद्धि के दौरान औद्योगिक और निर्माण गतिविधियों पर एक स्वचालित प्रतिबंध चालू हो सकता है, जो तब तक जारी रह सकता है जब तक AQI स्तर 150 से नीचे नहीं आता;

• निर्देशित करें कि यदि AQI का स्तर लगभग 200 बढ़ जाता है, तो वाहन यातायात के संबंध में दिल्ली सरकार की ऑड-ईवन नीति स्वतः ही चालू हो सकती है, और तब तक जारी रह सकती है जब तक AQI स्तर 150 से नीचे नहीं लौट जाता;

• केंद्र और राज्य सरकारों के प्रयासों को नियंत्रित और निगरानी करने के लिए एक सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश, अधिमानतः न्यायमूर्ति मदन लोकुर की अध्यक्षता वाले एक- सदस्यीय आयोग को नामित करें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि दिल्ली में AQI स्तर इस साल खतरनाक स्तर तक नहीं बढ़े।

Next Story