Top
ताजा खबरें

बिहार चुनाव : प्रत्याशियों की आपराधिक पृष्ठभूमि प्रकाशित न करने पर CEC और राजनीतिक दलों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका 

LiveLaw News Network
22 Nov 2020 9:09 AM GMT
बिहार चुनाव : प्रत्याशियों की आपराधिक पृष्ठभूमि प्रकाशित न करने पर CEC और राजनीतिक दलों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका 
x
Bihar Elections: Plea In SC Seeks Contempt Against CEC, Political Parties For Alleged Failure To Publish Criminal Antecedents Of Candidates

सुप्रीम कोर्ट में एक अवमानना ​​याचिका दायर की गई है, जिसमें कहा गया है कि मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा और बिहार के चुनाव आयोग के अधिकारियों के खिलाफ अवमानना ​​कार्रवाई की जाए क्योंकि वो शीर्ष अदालत के आदेश के अनुपालन में विफल रहा है, जिसमें उन राजनीतिक दलों के उम्मीदवारों के नाम उनकी वेबसाइट पर अपलोड करने का निर्देश दिया था जिनके खिलाफ आपराधिक मामले लंबित हैं।

यह याचिका 6 नवंबर को दायर की गई थी, जब बिहार मतदान चल रहा था। हालांकि, मामला सूचीबद्ध नहीं किया गया और चुनाव परिणाम 10 नवंबर को घोषित किए गए थे।

याचिकाकर्ता ने 12 फरवरी, 2020 के शीर्ष न्यायालय के आदेशों को लागू न करने के लिए संबंधित अधिकारियों के खिलाफ अवमानना ​​की मांग की है, जिन्होंने सभी राजनीतिक दलों को लोकसभा और विधानसभा चुनावों में अपने उम्मीदवारों के आपराधिक पूर्ववृत्त का विवरण प्रकाशित करने का निर्देश दिया था, उम्मीदवार चुने जाने के 48 घंटे या नामांकन के दो सप्ताह के भीतर, जो भी पहले हो।

रामबाबू सिंह ठाकुर, जो एक वकील हैं, मूल याचिका में व्यक्तिगत रूप से याचिकाकर्ता हैं, जबकि वर्तमान याचिका बृजेश सिंह ने दायर की है, जिसमें कहा गया है कि इस अदालत के एक अधिकारी के रूप में और कानून का पालन करने वाले एक नागरिक के रूप में, उनका " स्वयं का कर्तव्य" है कि वो उसके आदेश की " जानबूझकर अवज्ञा" की जा रही है तो इससे अदालत को अवगत कराए और विशेष रूप से जब ये याचिकाकर्ता के राज्य में ही हो रहा है।

याचिकाकर्ता का कहना है कि ईसीआई द्वारा बिहार की विधान सभा के लिए निर्धारित मतदान की घोषणा के बाद, बिहार के प्रमुख राजनीतिक दलों ने हिंदी समाचार दैनिक अर्थात् राष्ट्रीय सहारा हिंदी दैनिक में से 7 अक्टूबर, 2020 से अपने उम्मीदवारों के आपराधिक इतिहास का प्रकाशन शुरू कर दिया।

याचिका में कहा गया कि

"सबसे आश्चर्यजनक तथ्य यह है कि बिहार राज्य के लगभग सभी प्रमुख राजनीतिक दल जो इस विधानसभा चुनाव में लड़ रहे हैं, इस समाचार पत्र में अपने उम्मीदवारों की आपराधिक पृष्ठभूमि को स्वयं प्रकाशित कर रहे हैं ... माननीय उच्चतम न्यायालय ने इसके पैरा (2) (v) में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि उम्मीदवार के साथ-साथ संबंधित पार्टी प्रत्याशी के इतिहास को व्यापक रूप से परिचालित समाचार पत्रों में घोषणा जारी करेगी और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया भी में व्यापक प्रचार करेगी। व्यापक प्रचार कहें तो हमारा मतलब है कि नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद कम से कम तीन बार ऐसा ही किया जाएगा "

इस पृष्ठभूमि में, याचिकाकर्ता ने कहा कि "स्पष्ट दिशानिर्देश के बावजूद" सभी दलों ने जानबूझकर अपने उम्मीदवारों के आपराधिक इतिहास को ज्यादातर एक ही हिंदी दैनिक में प्रकाशित करने के लिए चुना जिसका बिहार राज्य में व्यापक प्रचलन नहीं है।

याचिका में कहा गया है कि भले ही शीर्ष अदालत ने कहा था कि राजनीतिक दलों को उन कारणों का वर्णन करना चाहिए कि क्यों आपराधिक पृष्ठभूमि के लोगों को योग्यता, उपलब्धियों के संदर्भ में चयन किया गया और केवल जीतने की संभावना के कारण नहीं, राष्ट्रीय जनता दल, ने अनंत सिंह (उम्मीदवार) के मामले में "लोकप्रियता" और "जीतने की संभावना" का कारण दिया।

सिंह ने कहा कि 71 सीटों के लिए पहले चरण में चुनाव लड़ने वाले 353 उम्मीदवारों में से 164 "दागी छवि" वाले हैं।

उनमें से कुछ पर आपराधिक मामले हैं जिनमें हत्या से लेकर बलात्कार और अपहरण शामिल है। उन्होंने कहा कि भाजपा और अन्य दलों के बाद राजद इस सूची में सबसे ऊपर है।

याचिकाकर्ता ने कई अन्य उम्मीदवारों के साथ अन्य राजनीतिक दलों द्वारा आपराधिक इतिहास वाले उम्मीदवारों के लिए कई संदर्भ बनाए हैं।

दलीलों में कहा गया है,

"यह है कि यहां अवमाननाकर्ताओं के पूर्वोक्त अवमानना ​​कृत्य से करोड़ों मतदाताओं पर भारी असर पड़ेगा, जिसमें याचिकाकर्ता के करीबी रिश्तेदारों के मत भी शामिल हैं, जो चुनाव से पहले उचित समय में यह जानकारी प्राप्त नहीं कर पाने के कारण अपनी राय नहीं बना पाएंगे। "

इस संदर्भ में, याचिका में 13 फरवरी, 2020 के आदेश में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए निर्देशों की जानबूझकर अवज्ञा करने के लिए कथित रूप से अवमानना ​​कार्यवाही की मांग की गई है और राजनीतिक दलों को दिशा निर्देश देने को कहा गया कि विशेष रूप से इस मामले में सजायाफ्ता लोग सगे संबंधियों की ऑड़ में अप्रत्यक्ष तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं, इन स्थितियों में, संबंधित राजनीतिक दलों को तथाकथित बाहुबलियों के सगे संबंधियों के बारे में सार्वजनिक डोमेन में जानकारी डालने के लिए मजबूर करना चाहिए जो ऐसे उम्मीदवारों के कारण अपनी जीत सुनिश्चित कर रहे हैं।

Next Story